loader

शिवसेना में पहले भी होते रहे हैं विद्रोह, पार्टी कमजोर नहीं हुई

शिवसेना को इतने बड़े राजनीतिक संकट का सामना कभी नहीं करना पड़ा। शिवसेना के संस्थापक बाला साहब ठाकरे के समय भी ऐसा संकट नहीं आया। दरअसल, यह संकट वो शख्स लाया है जो कभी सबसे भरोसमंद शिवसैनिक था। जी हां, एकनाथ शिंदे वही शिव सैनिक है जिसने पूरी शिवसेना को हिला दिया है।

शिंदे ने अपनी अनदेखी होने पर बगावत का बिगुल बजा दिया और कुछ विधायकों को लेकर सूरत चले गए और वहां से फिर गुवाहाटी चले गए। जाहिर है कि बीजेपी पर्दे के पीछे सारा खेल कर रही है। 2019 में भी उद्धव ठाकरे की सरकार को गिराने की कोशिश हुई थी, उस समय बीजेपी को बहुत धक्का लगा था, क्योंकि सरकार बच गई थी।

ताजा ख़बरें
शिंदे का कहना है कि हमने बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना को नहीं छोड़ा है और इसे नहीं छोड़ेंगे। हम हिंदुत्व में विश्वास करते हैं।
शिवसेना के लिए यह एक बड़ा झटका नहीं है। पार्टी को आंतरिक संघर्ष का सामना पहले भी करना पड़ा है। शिवसेना में हुए विद्रोह का जायजा लेते हैं-

There have been rebellions in Shiv Sena in the past too, the party has not weakened - Satya Hindi
छगन भुजबल

छगन भुजबल

महाराष्ट्र सरकार में खाद्य और नागरिक आपूर्ति, उपभोक्ता मामलों के वर्तमान कैबिनेट मंत्री छगन भुजबल को शिवसेना का सबसे पहला विद्रोही माना जा सकता है।

1991 में, भुजबल, जिन्हें कभी बाल ठाकरे का ब्ल्यू आइ़ड ब्वॉय (सबसे खास) माना जाता था, ने उस समय झटका दिया जब उन्होंने शिवसेना (बी) के गठन के लिए 52 पार्टी विधायकों में से 17 के समर्थन का दावा किया। ओबीसी के बड़े नेता भुजबल का महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में मनोहर जोशी की नियुक्ति को लेकर ठाकरे से मतभेद हो गया था। 
इसके बाद वह कांग्रेस में शामिल हो गए। बाद में, शरद पवार ने कांग्रेस से अलग होने और एनसीपी बनाने का फैसला करने के बाद, भुजबल की पार्टी उनके साथ चली गई।

भुजबल ने राज्य सरकार में कई शीर्ष पद हासिल किए हैं, लेकिन उन्हें सबसे ज्यादा बदनामी उस व्यक्ति के रूप में मिली, जिसने बाल ठाकरे को 1992-93 के दंगों के संबंध में शिवसेना के मुखपत्र सामना के खिलाफ एक मामले के संबंध में गिरफ्तार किया था। जबकि यह सिर्फ एक तकनीकी गिरफ्तारी थी और ठाकरे को जल्द ही रिहा कर दिया गया था, भुजबल ने वह किया था जो किसी की हिम्मत नहीं हुई थी।

There have been rebellions in Shiv Sena in the past too, the party has not weakened - Satya Hindi
राज ठाकरे, मनसे प्रमुख

राज ठाकरे का उभरना

 2005 में जब बाल ठाकरे के भतीजे राज ठाकरे ने शिवसेना के प्राथमिक सदस्य के रूप में अपने इस्तीफे की घोषणा की, तो कोई बड़ा झटका नहीं माना गया। 1990 के दशक में, राज को कई लोग अपने चाचा का वारिस मानते थे। हालाँकि, बाल ठाकरे ने अपने ही बेटे, उद्धव को प्राथमिकता दी। जब उन्होंने पार्टी छोड़ी, तो राज ठाकरे ने "शिवसेना के भीतर लोकतंत्र की कमी" को छोड़ने का कारण बताया था।

उन्होंने अपने इस्तीफे के दौरान मीडिया से कहा था, बाला साहब के बेटे (उद्धव) ने मुझे केवल अपमान और अपमान ही दिया है।

शिवसेना से दूर जाने के बाद, 2006 में, राज ठाकरे ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) पार्टी की स्थापना की, जिसके बारे में उनका दावा था कि यह बाल ठाकरे के 'सपने' "और मेरे सपनों" को भी हकीकत में बदल देगा।

उन्होंने 2009 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में राजनीतिक सफलता का स्वाद चखा, जब उनकी पार्टी ने 13 सीटें जीतीं। हालाँकि, तब से, पार्टी नीचे ही जा रही है, क्योंकि मनसे 2019 के विधानसभा चुनावों में केवल एक सीट जीतने में सफल रही।
There have been rebellions in Shiv Sena in the past too, the party has not weakened - Satya Hindi
नारायण राणे, अब बीजेपी में

नारायण राणे विवाद

 2005 में नारायण राणे शिवसेना से बाहर निकले और यह भी पार्टी के लिए बड़ा झटका था, क्योंकि नारायण राणे के रूप में शिवसेना को महाराष्ट्र को पहला सीएम मिला था। हालांकि वो कुल 8 महीने सीएम रहे थे। 1999 पार्टी के लिए उथल-पुथल का बड़ा दौर था। उद्धव ठाकरे शिवसेना संभाल रहे थे और वे नारायण राणे को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे।

राणे को उस समय निष्कासित कर दिया गया था जब उन्होंने उद्धव के नेतृत्व को चुनौती दी थी, जब उद्धव को 2003 में पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष नामित किया गया था। उन पर 'पार्टी विरोधी गतिविधियों' का आरोप लगाया गया था, क्योंकि उन्होंने आरोप लगाया था कि शिवसेना में टिकट और पद उम्मीदवारों को बेचे गए थे।

राणे और उद्धव ठाकरे के बीच हमेशा से खटास भरे रिश्ते थे। शिवसेना के भीतर, राणे उद्धव के नेतृत्व को कभी स्वीकार नहीं कर सके और अंततः उन्हें पार्टी छोड़ने के लिए प्रेरित किया। तब से, राणे और उनके बेटों ने अक्सर उद्धव ठाकरे और उनके परिवार की आलोचना करते हुए व्यक्तिगत टिप्पणियां की हैं।
राणे अगस्त 2005 में कांग्रेस में शामिल हुए और सितंबर 2017 में इसे छोड़ दिया। कांग्रेस छोड़ने के बाद, राणे ने अक्टूबर 2017 में महाराष्ट्र स्वाभिमान पार्टी की शुरुआत की।

2018 में, उन्होंने बीजेपी के लिए समर्थन की घोषणा की और उस पार्टी के नामांकन पर राज्यसभा के लिए चुने गए। अक्टूबर 2019 में, उन्होंने अपनी पार्टी का बीजेपी में विलय कर दिया।
There have been rebellions in Shiv Sena in the past too, the party has not weakened - Satya Hindi
स्व. मोहन रावले

मोहन रावले का विद्रोह

दक्षिण-मध्य मुंबई से पांच बार के पूर्व सांसद मोहन रावले को मनसे प्रमुख राज ठाकरे से मुलाकात के कुछ दिनों बाद 2019 में शिवसेना से निष्कासित कर दिया गया। उद्धव ने उस समय असंतुष्टों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा था कि जो लोग उनके नेतृत्व से असहज थे, वे पार्टी छोड़ने के लिए स्वतंत्र हैं। लेकिन यह विद्रोह चंद दिनों में फुस्स हो गया। मोहन रावले ने उद्धव से माफी मांग ली। उद्धव ने वापस पार्टी में ले लिया। 2020 में मोहन रावले का निधन हो गया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें