loader
फ़ाइल फोटो

भगवान राम का जन्म नहीं हुआ होता तो बीजेपी क्या मुद्दा उठाती: उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के बीच चल रही तनातनी के बीच राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अब बीजेपी पर हमला किया है। उन्होंने बीजेपी पर मुद्दा विहीन होने का आरोप लगाते हुए कहा है कि 'मुझे आश्चर्य है कि यदि भगवान राम का जन्म नहीं हुआ होता तो बीजेपी राजनीति में क्या मुद्दा बनाती'। उन्होंने इसी संदर्भ में आगे कहा कि बीजेपी के पास मुद्दों की कमी है इसलिए वह धर्म और नफरत की बात करती है। उन्होंने हिंदुत्व की पैरोकारी करने के बीजेपी के रवैये पर भी सवाल उठाए और कहा कि उसके पास हिंदुत्व का 'पेटेंट' नहीं है। 

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ठाकरे कोल्हापुर उत्तर सीट से 12 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव के लिए रविवार को महा विकास अघाड़ी की उम्मीदवार जयश्री जाधव के लिए प्रचार कर रहे थे। जयश्री जाधव कांग्रेस से ताल्लुक रखती हैं। 

ताज़ा ख़बरें

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा कि बीजेपी के पास हिंदुत्व का 'पेटेंट' नहीं है और दावा किया कि दिवंगत शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने बीजेपी को दिखाया था कि 'भगवा और हिंदुत्व' के संयोजन से केंद्र में सत्ता हासिल करने में मदद मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा कि शिवसेना हमेशा भगवा और हिंदुत्व के लिए प्रतिबद्ध रही है। ठाकरे ने कहा कि बीजेपी का भारतीय जनसंघ और जनसंघ जैसे अलग-अलग नाम थे, जो विभिन्न विचारधाराओं का प्रचार करते थे।

ठाकरे ने यह भी कहा कि अगर बीजेपी बाल ठाकरे का सम्मान करने का दावा करती है तो वह पार्टी दिवंगत शिवसेना संस्थापक के नाम पर आगामी नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम रखने के प्रस्ताव का विरोध क्यों कर रही है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

कोल्हापुर उत्तर सीट पर जयश्री जाधव के समर्थन में हुई उस जनसभा में उद्धव ठाकरे ने 2019 में निर्वाचन क्षेत्र से शिवसेना उम्मीदवार की हार के लिए बीजेपी को दोषी ठहराया। उस वक़्त दोनों दलों के बीच शिवसेना और बीजेपी के बीच गठबंधन था। ठाकरे ने कहा कि 2014 के चुनावों की तुलना में 2019 के चुनावों में कांग्रेस के वोटों में वृद्धि हुई, जिसके परिणामस्वरूप बीजेपी के साथ गठबंधन के बावजूद शिवसेना के उम्मीदवार की हार हुई। उन्होंने कहा, '2019 में बीजेपी का वोट कहां गया? क्या उस समय आपका (भाजपा) कांग्रेस के साथ गुप्त गठबंधन था?'

ठाकरे ने कहा, 'बीजेपी अमित शाह द्वारा बालासाहेब के कमरे में दिए गए अपने वचन और प्रतिबद्धता से पीछे क्यों हट गई, जिसे मैं एक मंदिर मानता हूँ।' वह 2019 के चुनाव में बीजेपी के मुख्यमंत्री पद देने के कथित वादे के संदर्भ में यह बोल रहे थे। 2019 में राज्य के चुनावों के बाद मुख्यमंत्री पद साझा करने के मुद्दे पर शिवसेना और बीजेपी के बीच संबंध टूट गया था।

ख़ास ख़बरें

बीजेपी और अमित शाह ने मुख्यमंत्री पद पर कथित वादे के संबंध में ठाकरे के दावों को खारिज कर दिया था। इसके बाद शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन में सरकार बनाई।

ठाकरे ने कहा कि शिवसेना ने कोल्हापुर उत्तर सीट के लिए दावा पेश नहीं किया। उन्होंने कहा कि एमवीए भागीदारों ने हाल ही में एक बैठक में चर्चा की थी। उन्होंने यह संदेश देने की कोशिश की कि गठबंधन सरकार बिल्कुल सही चल रही है और उनकी सरकार के ख़िलाफ़ झूठ फैलाने की कोशिश की जा रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें