loader

लुटियंस की राजनीति से चेहरा चमकाया था अरुण जेटली ने

राजनीति में जनाधार बहुत मायने रखता है और नेता का भविष्य इसी के आधार पर आँका जाता है, लेकिन यह पैमाना लुटियंस की राजनीति में आकर बदल जाता है। यहाँ लोकनेता और जननेता का जनाधार मीडिया, न्यायपालिका और कॉर्पोरेट दुनिया में उनके संपर्क से आँका जाता है। अरुण जेटली इसी लुटियंस की राजनीति के जननेता थे। उनकी छवि एक ऐसा नेता की थी जिसकी दिल्ली के पॉवर कॉरिडोर (सत्ता के गलियारे) में पहुँच थी और जो अपने साथियों को वहाँ उठने वाले बवालों से सही सलामत निकाल लाने की काबिलियत रखता था। अपनी इसी पहचान के दम पर जेटली पिछले चार दशकों से मैदान में डटे हुए थे। 
राजनीतिक हलकों में हवाओं के बदलते रुख के साथ जेटली ने बड़े कारगर तरीक़े से ख़ुद को ढाला। इसके लिए उन्होंने मीडिया और कॉर्पोरेट जगत में अपने संबंधों का भी जमकर इस्तेमाल किया।
केंद्र में जब अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी तो बीजेपी के अंदरुनी संघर्ष की ख़बरें जगजाहिर थीं। इस जंग को लड़ने में मीडिया की भूमिका अहम रही और अक्सर शक की सुई जेटली पर जाकर ही ठहरती थी कि कहीं वह अपने विरोधियों को ख़बरों के हथियार से तो परेशान नहीं कर रहे हैं। 
ताज़ा ख़बरें

सत्ता के पायदान पर जेटली के निरंतर उत्थान पर राजनीति के विशेषज्ञ अक्सर यह टिप्पणी करते हुए सुने गए कि ‘बीजेपी में होनहार लोगों की भारी कमी है और उसका फ़ायदा जेटली को मिलता गया।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब उन्हें अपनी पहली सरकार में वित्त, रक्षा और कॉर्पोरेट अफ़ेयर्स के मंत्रालय सौंपे तो सभी को पार्टी के लिए जेटली का महत्व समझ में आया। आज मीडिया भले ही ‘गोदी मीडिया’ के रूप में अपनी पहचान बना चुका है, लेकिन इस मीडिया ने अरुण जेटली की राजनीति को सँवारने में बड़ी भूमिका निभाई। 

जेटली का मीडिया के क़रीब आना भी एक बड़े घटनाक्रम से जुड़ा था। आपातकाल के बाद जब इंदिरा गाँधी सत्ता में वापस आ गईं तो सरकार ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ को आपातकाल के दौरान की गई उसकी कवरेज का सबक़ सिखाने के लिए, पिछली सरकार द्वारा उसके दफ़्तर को दी गई बिल्डिंग का परमिट ख़ारिज़ कर दिया। यह काम सरकार ने डीडीए के ज़रिए करवाया था। 

अख़बार के मालिक रामनाथ गोयनका और कार्यकारी डायरेक्टर अरुण शौरी, अधिवक्ता रयान करांजवाला के पास मदद माँगने गए। करांजवाला ने जेटली को अपने साथ लगा लिया। ‘क्योंकि केस के अनुसार जेटली की उसमें महारत थी। कोर्ट ने अख़बार को स्टे ऑर्डर दे दिया। केस के चलते जेटली का गोयनका से मज़बूत रिश्ता बन गया, जिनसे वे कभी बतौर छात्र मिले थे। 

अस्सी के दशक में राजनेताओं, उद्योगपतियों और अख़बारों के मालिकों के बीच छिड़े इस युद्ध में ‘इंडियन एक्सप्रेस’ का मामला एक छिटपुट घटना थी। वफ़ादारियाँ बॉम्बे डाईंग के मालिक नुस्ली वाडिया और रिलायंस टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड के मालिक धीरुभाई अंबानी के बीच बँटी हुई थीं। या तो युद्ध अदालतों के कठघरों में लड़े जाते थे या अख़बारी काग़ज के हर एक इंच पर। 

जेटली को क़ानूनी मैदान में लड़ने के कई मौक़े मिले, ख़ासकर वरिष्ठ वकील और पूर्व बीजेपी नेता राम जेठमलानी के सहायक के रूप में। इन सब के चलते, जेटली को अपनी राजनीति चमकाने का मौक़ा मिल गया। उन्होंने ‘टाइम्स ऑफ़ इंडिया’ के प्रकाशक बेनेट कोलेमेन एंड कंपनी लिमिटेड जैसे मीडिया घरानों के साथ भी संबंध गाँठे और वह हिंदुस्तान टाइम्स बोर्ड के सदस्य भी थे। लुटियंस से शुरू हुई उनकी राजनीति की चमक आख़िरी पल तक बरकरार रही।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें