loader

जब 2004 की सबसे बड़ी राजनीतिक ख़बर अहमद पटेल ने खुद दी

अहमद पटेल ने 2004 की सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण राजनीतिक ख़बर ख़ुद मुझे फ़ोन करके क्यों बताई, इसके पीछे भी एक रोचक कहानी है। दरअसल उन दिनों हम ख़बरों को लेकर बहुत ज़्यादा उत्साहित रहा करते थे। टीवी चैनलों में गला काट प्रतियोगिता शुरू हो चुकी थी। हर पत्रकार एक ब्रेकिंग न्यूज़ के चक्कर में रहता था ताकि उसका भी नाम हो और उसके चैनल का भी...।
यूसुफ़ अंसारी

बात जनवरी 2004 की है। तब मैं ज़ी न्यूज़ में हुआ करता था। उस दिन ऑफ़िस जाने को तैयार था। घर से निकलने ही वाला था कि फ़ोन की घंटी बजी। प्राइवेट नंबर से फ़ोन था। मैं समझ गया किसका फ़ोन है। फ़ोन उठाया। सलाम किया। उधर अहमद भाई थे। दुआ सलाम के बाद बोले, ‘आपके लिए एक जानकारी है।’ ख़बर कुछ यूँ बताई, ‘आज मैडम (सोनिया गाँधी) ने शरद पवार जी को फ़ोन किया है। उनसे कहा है कि हम लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन के बारे में आपसे बात करना चाहते हैं। पवार जी ने मैडम का स्वागत किया है और उन्हें चाय पर अपने घर बुलाया है। परसों शाम 5:30 बजे मैडम पवार साहब के यहाँ चाय पीने जाएँगी।’

ख़ास ख़बरें

यह साल की सबसे बड़ी राजनीतिक ख़बर थी। जिस सोनिया गाँधी के विदेशी मूल के मुद्दे पर शरद पवार ने 1999 में पार्टी का बँटवारा किया था। पी ए संगमा और तारिक़ अनवर के साथ कांग्रेस छोड़कर अलग नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी बनाई। पूरे 5 साल सोनिया गाँधी के विदेशी मूल के मुद्दे को उठाते रहे उन्हीं सोनिया गाँधी ने पवार को फ़ोन करके उनके साथ गठबंधन की इच्छा जताकर बड़े दिल का परिचय दिया था। यह राजनीति में सचमुच सोनिया गाँधी का मास्टर स्ट्रोक था या यूँ कहें कि अहमद पटेल की राजनीतिक सूझबूझ का कमाल था। उन्होंने उस समय भारतीय राजनीति के उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव को एक कर दिया था।

इस ख़बर को ब्रेकिंग न्यूज़ के रूप में चलाने के बाद मैं ऑफ़िस पहुँचा और उस दिन दूसरे चैनलों पर कई घंटे तक इस ख़बर की पुष्टि नहीं हो पाई थी। कांग्रेस कवर करने वाले पत्रकारों को इस ख़बर पर यक़ीन नहीं हुआ। उन्होंने मेरी ख़बर को ग़लत क़रार दिया। कइयों ने मुझसे इस ख़बर का सोर्स तक पूछा। लेकिन उस वक़्त मैंने किसी को इस ख़बर का सोर्स नहीं बताया। सिर्फ़ यह कहा कि ख़बर एकदम पक्की है। 

2004 के लोकसभा चुनाव से पहले यह सबसे बड़ी राजनीतिक ख़बर थी। इस ख़बर के बाद यह लगने लगा था कि शायद सोनिया गाँधी एनडीए के ख़िलाफ़ एक मज़बूत गठबंधन बनाकर अटल बिहारी वाजपेई को सत्ता से हटा सकती हैं।

अहमद पटेल ने 2004 की सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण राजनीतिक ख़बर ख़ुद मुझे फ़ोन करके क्यों बताई, इसके पीछे भी एक रोचक कहानी है। दरअसल उन दिनों हम ख़बरों को लेकर बहुत ज़्यादा उत्साहित रहा करते थे। टीवी चैनलों में गला काट प्रतियोगिता शुरू हो चुकी थी। हर पत्रकार एक ब्रेकिंग न्यूज़ के चक्कर में रहता था ताकि उसका भी नाम हो और उसके चैनल का भी। हम पर भी इसी तरह ख़बरें जुटाने का जुनून सवार रहता था। 

remembering ahmed patel a close confidant of sonia gandhi - Satya Hindi

बात अगस्त 2003 की है। एक दिन मैंने सपना देखा। रविवार का दिन है और मैं अकेला कैमरा और माइक लेकर दस जनपथ पर खड़ा हूँ। थोड़ी देर बाद क्या देखता हूँ कि अंदर से शरद पवार और प्रफुल्ल पटेल आए और गाड़ी में बैठ कर बाहर निकल रहे हैं। मैंने उनको कैमरे में रिकॉर्ड किया। उनके थोड़ी देर बाद अहमद पटेल अपनी गाड़ी में बैठ कर आए लेकिन बिना कुछ बताए चले गए। इतना साफ़ हो चुका था कि शरद पवार सोनिया गाँधी से मिले हैं। यह ख़बर सिर्फ़ मेरे पास थी। इसका वीडियो भी सिर्फ़ मेरे पास था। लिहाज़ा मैंने ब्रेकिंग न्यूज़ चला दी। इसके बाद मुझे लगा क्या मेरा सपना सच होगा?

इस घटना के बाद जब भी अहमद पटेल से कहीं मुलाक़ात होती मैं शरारतन उनसे यह ज़रूर पूछता कि क्या शरद पवार साहब से गठबंधन के बारे में कोई बात हुई है आपकी। दो तीन बार तो उन्होंने इस बात को मज़ाक़ में लिया। लेकिन दिसंबर 2003 में जब मैं उनसे मिलने एक बार उनके घर गया तो मैंने फिर उनसे यही सवाल किया। इस पर वो बोले, 

‘क्या बात करते हैं? आपने देखा नहीं पवार साहब दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान मैडम के विदेशी मूल के मुद्दे को कितना ज़ोर-शोर से उठाकर गए हैं। क्या कुछ नहीं कहा उन्होंने। इतना सब होने के बाद भी आपको लगता है कि उनसे गठबंधन की बात होगी?’

इस पर मैंने पूरा विश्वास जताते हुए कहा कि उनके साथ गठबंधन होगा और आप ही कराएँगे। 

इस पर वह वह थोड़ा गंभीर हुए। पूछने लगे कि आख़िर आपको ऐसा क्यों लगता है और क्यों मुझसे बार-बार पूछते हो।

मैंने उन्हें तीन वजहें बताईं। पहली- आपकी और पवार साहब की गहरी दोस्ती है। इसी दोस्ती की वजह से 1999 में महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के गठबंधन की सरकार बनी। दूसरी- पवार साहब ने जब भी कांग्रेस छोड़ी है 5 साल से ज़्यादा कांग्रेस से बाहर नहीं रहे, लौटकर कांग्रेस में ही आए हैं। अब 5 साल पूरे होने को हैं अगर कांग्रेस में वापस नहीं लौटेंगे तो कम से कम गठबंधन तो करेंगे। तीसरी- मैंने पाँच महीने पहले सपना देखा था कि पवार साहब, प्रफुल्ल पटेल और आपके साथ सोनिया जी से दस जनपथ पर जाकर मिले हैं। और मेरे सपने अक्सर सच हो जाते हैं।

remembering ahmed patel a close confidant of sonia gandhi - Satya Hindi

इस पर वो ठहाका मार के हँसे और कहने लगे क्या सपने में भी ख़बरें देखते हो। मैंने कहा- सर, ख़बरों में ही जीना-मरना है। यही रोज़ी-रोटी है। यही सब कुछ है। इसका सपना नहीं देखेंगे तो किसका सपना देखेंगे। उसके बाद मैंने कहा कि सर गठबंधन तो एक दिन होकर रहेगा। आप ही कराएँगे। बस, आपसे यही गुज़ारिश है कि जब भी गठबंधन की बात हो तो इसकी ख़बर मुझे सबसे पहले चाहिए। अपने अंदाज़ में मुस्कुराए और बोले अगर ऐसा होगा तो सबसे सबसे पहले आप ही को बताऊँगा। यह वादा है। बमुश्किलन इस घटना को महीना भर बीता होगा कि अहमद भाई ने अपना वादा निभा दिया।

यह वह एकमात्र ख़बर थी जो अहमद भाई ने ख़ुद से फ़ोन करके दी। शायद इसलिए कि उन्होंने मुझसे वादा किया था। वादे के ऐसे पक्के थे अहमद भाई। जो कह देते थे वह कर के दिखाते थे। इस घटना के बाद मैं उनका कायल हो गया था क्योंकि इससे पहले मैंने कभी नहीं देखा कि कोई नेता किसी पत्रकार से किए गए वादे को इतनी गंभीरता से लेता है।

हालाँकि पिछले 20 साल में उनसे बातचीत करके उनसे कांग्रेस की कई बड़ी ख़बरें हमने निकालीं। कुछ का उन्होंने इशारा किया और हमने उसे लपक के ख़बर चलाई। कई बार ख़बर हमारे पास थी उसकी पुष्टि उन्होंने की। लेकिन यह ख़बर मेरी पत्रकारिता जीवन की भी एक बड़ी और महत्वपूर्ण ख़बर थी। इसके बाद मेरे अपने संस्थान और कांग्रेस बीट पर मेरे बारे में लोगों की राय बन गई थी कि कांग्रेस की कोई ख़बर इससे बचकर नहीं जा सकती।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
यूसुफ़ अंसारी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें