loader

शराब की दुकानों पर उमड़ी भीड़ से दुनिया भर में भारत की बदनामी

शराब की दुकानें खोलकर हमारी केंद्र सरकार और राज्य सरकारें बुरी तरह बदनाम हो रही हैं। बदनामी तो उन्होंने अपने पिछले कई कारनामों से भी कमाई है लेकिन इस वक्त शराबियों का जो नजारा सड़कों पर दिखाई पड़ रहा है, वैसा भारत में पहले कभी दिखाई नहीं पड़ा। 

दुनिया में भारत की बदनामी हो रही है। शराब की दुकानों पर डेढ़-डेढ़, दो-दो किमी. लंबी लाइनें लगी हुई हैं और लोग इतनी बोतलें लादे हुए घर लौट रहे हैं कि भारत के आम लोग उन्हें देखकर चकित हैं। उन्हें विश्वास ही नहीं हो रहा है कि भारत में इतने शराबी हैं। 

ताज़ा ख़बरें

विदेशों में जो लोग हमारे टीवी चैनलों को देख रहे हैं, वे पूछ रहे हैं कि यह भारत है या दारुकुट्टों का कोई देश है? मैंने उनसे कहा है कि भारत से कई गुना ज्यादा शराबियों के देश यूरोप और अमेरिका में हैं लेकिन भारत में शराब प्रायः लुक-छिपकर पी जाती है। 

अब से 60-70 साल पहले शराब की कलालियां मोहल्लों के बाहर किसी दूर-दराज के कोने में हुआ करती थीं लेकिन अब इसकी दुकानें बाजारों और बस्तियों में हैं। इसीलिए शराबियों की लंबी कतार लोगों का ध्यान खींच रही हैं। 

सरकारों ने नहीं किए इंतजाम 

इतनी लंबी कतारें तो मैंने कभी यूरोप, अमेरिका और रुस में भी नहीं देखीं। हमारे यहां शारीरिक दूरी के नियम की धज्जियां उड़ गईं। सरकारों ने पहले से कोई इंतजाम ही नहीं किया। इसमें पियक्कड़ों का क्या दोष है? उन्होंने तो शराब पिए बिना 40 दिन काट दिए लेकिन हमारी महान सरकारें शराब को बेचे बिना एक महीना भी नहीं काट सकीं। 

लॉकडाउन को ढीला करते ही सरकारों ने शराब की दुकानें खुलवा दीं। क्योंकि शराब से उन्हें लगभग दो लाख करोड़ रुपये टैक्स मिलता है।

हमारे नेता, जो अपने आपको गांधी, गोलवलकर, सरदार पटेल, जयप्रकाश और लोहिया का अनुयायी कहते हैं, उन्हें जरा भी ख्याल नहीं आया कि पैसों की खातिर वे अपना ईमान लुटाने पर आमादा हो गए। संविधान के नीति-निर्देशक प्रावधान के उल्लंघन पर उतारु हो गए। वे चाहें तो दो लाख करोड़ रुपये अपनी दवाइयां और आयुर्वेदिक नुस्खे बेचकर और अंतरराष्ट्रीय बाजार में सस्ते पड़े तेल को जमा करके कमा सकते हैं। 

विचार से और ख़बरें

यदि बिहार और गुजरात शराबबंदी करके भी दनदना सकते हैं तो दूसरे राज्यों का क्या दिवाला निकल जाता? सिर्फ एक दिन में 1000 करोड़ रुपये की शराब बिकवाकर हमारी सरकारों ने क्या कोरोना-राक्षस की सेवा नहीं की है? शराब से मनुष्यों की प्रतिरोध-शक्ति बढ़ेगी या घटेगी? 

बीजेपी और संघ के संस्कारों में ढली केंद्र सरकार से मैं यह आशा करता था कि वह शराब से पैसे कमाने के राज्यों के इस दुराग्रह को रद्द करती और 40 दिन की इस मजबूरी के संयम को सदा के लिए स्वाभाविक बना देती और शराब पर क़ानूनी प्रतिबंध लगा देती। 

(डॉ. वेद प्रताप वैदिक के ब्लॉग www.drvaidik.in से साभार)

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें