loader

एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही मोदी सरकार, तेज करेंगे लड़ाई : विपक्ष

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की ईडी के सामने पेशी को लेकर कांग्रेस सहित कई विपक्षी दल मोदी सरकार पर हमलावर हो गए हैं। इन दलों ने गुरुवार को एक बैठक की और उसके बाद संयुक्त बयान जारी किया। इस बयान में कहा गया है कि मोदी सरकार विपक्षी दलों के प्रमुख नेताओं के खिलाफ एजेंसियों का दुरुपयोग कर उन्हें निशाना बना रही है।

विपक्षी नेताओं ने कहा है कि वे सरकार के खिलाफ अपनी लड़ाई को तेज करेंगे।

बता दें कि सोनिया गांधी को नेशनल हेराल्ड मामले में ईडी के द्वारा बुलाए जाने पर कांग्रेस सड़क पर उतर आई है। कांग्रेस के सांसदों ने भी राज्यसभा और लोकसभा से वॉकआउट कर दिया है। इससे पहले भी कई दलों के नेताओं के खिलाफ केंद्रीय जांच एजेंसियों ने कार्रवाई की है और इसे लेकर तमाम सवाल उठते रहे हैं। 

ED quizzes Sonia Gandhi in National Herald case - Satya Hindi

विपक्षी दलों ने संयुक्त बयान में कहा है कि वह मोदी सरकार की जन विरोधी, किसान विरोधी संविधान विरोधी नीतियों के खिलाफ एकजुट होकर लड़ाई लड़ेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार समाज के ताने-बाने को बिगाड़ रही है।

एजेंसियों का बेजा इस्तेमाल?

ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स के किसी विपक्षी नेता को समन करने या घरों, दफ्तरों पर छापेमारी के बाद वही पुराना सवाल फिर से खड़ा हो जाता है कि क्या इन एजेंसियों का बेजा इस्तेमाल हो रहा है। पिछले आठ सालों में जांच एजेंसियों की छापेमारी पर ढेरों सवाल उठे हैं कि क्यों ये एजेंसियां विपक्षी नेताओं, उनके रिश्तेदारों, करीबियों को धड़ाधड़ समन भेज रही हैं या उनके घरों-दफ़्तरों पर छापेमारी कर रही हैं।

ED quizzes Sonia Gandhi in National Herald case - Satya Hindi

विपक्षी नेता निशाने पर

जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है तब से विपक्षी नेताओं में हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू यादव, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मायावती, पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम, शिवसेना नेता संजय राउत, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी रूजिरा नरूला बनर्जी, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा, कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष डीके शिवकुमार, सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा सहित कई और नेताओं और आम आदमी पार्टी के कई विधायकों को जांच एजेंसियों की ओर से समन भेजा जा चुका है या पूछताछ की जा चुकी है। 

राजनीति से और खबरें

राजनीतिक माहौल गर्म

सोनिया और राहुल गांधी की ईडी के सामने पेशी के मुद्दे पर कांग्रेस ने पूरे देश में बीजेपी और मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि ईडी नेशनल हेराल्ड के मामले में आने वाले दिनों में कांग्रेस के दोनों बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर सकती है। अगर ऐसा होता है तो निश्चित रूप से 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी बनाम कांग्रेस और सत्ता पक्ष बनाम विपक्ष के बीच एक बड़ी लड़ाई छिड़ जाएगी और आने वाले कई महीनों तक देश की राजधानी दिल्ली सहित तमाम राज्यों का राजनीतिक तापमान बढ़ा हुआ रहेगा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें