loader

भागवत के बयान पर दिग्विजय बोले- यह शिक्षा आप मोदी-शाह को भी देंगे?

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के इस बयान पर कि लिंचिंग में शामिल लोग हिंदुत्व के विरोधी हैं और जो लोग ये कहते हैं कि मुसलमान इस देश में नहीं रह सकते, वे हिंदू नहीं हो सकते, इस पर तमाम सियासी दलों की प्रतिक्रिया सामने आई है। 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा, “मोहन भागवत क्या यह विचार आप अपने शिष्यों, प्रचारकों, विश्व हिंदू परिषद/बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को भी देंगे? क्या यह शिक्षा आप मोदी-शाह व बीजेपी के मुख्यमंत्री को भी देंगे?”

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने यह भी कहा है कि अगर संघ प्रमुख यदि आप अपने व्यक्त किए गए विचारों के प्रति ईमानदार हैं तो बीजेपी के नेता जिन्होंने निर्दोष मुसलमानों को प्रताड़ित किया है उन्हें उनके पदों से तत्काल हटाने का निर्देश दें और इसकी शुरुआत नरेंद्र मोदी व योगी आदित्यनाथ से करें।

ताज़ा ख़बरें

मुंह में राम…: मायावती 

बीएसपी प्रमुख मायावती ने एएनआई के जरिये जारी संदेश में कहा है कि संघ प्रमुख का बयान लोगों को न केवल अविश्वसनीय लगता है बल्कि यह बयान मुंह में राम और बगल में छुरी वाला ज़्यादा है। उन्होंने कहा कि जब तक संघ, बीजेपी और इनकी सरकारों की कार्यशैली व सोच में संवैधानिक परिवर्तन नहीं आएगा, तब तक इनकी बातों पर खासकर मुसलिम समाज द्वारा विश्वास करना बेहद मुश्किल लगता है। 

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा है कि इनकी कथनी और करनी में ज़मीन-आसमान का अंतर है। 

Mohan bhagwat on Hindu muslim unity owaisi slams - Satya Hindi

नफ़रत हिंदुत्व की देन: ओवैसी 

एआईएमआईएम के प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदउद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर कहा है कि मॉब लिंचिंग की नफ़रत हिंदुत्व की देन है और इसके मुजरिमों को हिंदुत्ववादी सरकार की पुश्त पनाही हासिल है। 

उन्होंने कहा, “केंद्रीय मंत्री के हाथों अलीमुद्दीन के कातिलों की गुलपोशी होती है, अखलाक़ के हत्यारे की लाश पर तिरंगा लगाया जाता है, आसिफ़ को मारने वालों के समर्थन में महापंचायत बुलाई जाती है और वहां बीजेपी का प्रवक्ता पूछता है कि क्या हम मर्डर भी नहीं कर सकते?” 

ओवैसी ने कहा कि कायरता, हिंसा और क़त्ल करना गोडसे की हिंदुत्व वाली सोच का अटूट हिस्सा है और मुसलमानों की लिंचिंग भी इसी सोच का नतीजा है। 

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और एनसीपी के प्रवक्ता नवाब मलिक ने संघ प्रमुख के बयान पर कहा, “अगर भागवत का हृदय बदल रहा है तो हम इसका स्वागत करते हैं। वर्ण व्यवस्था में विश्वास करने वाला संगठन अगर धर्म की हदों को तोड़ना चाहता है तो ये अच्छी बात है।” 

राजनीति से और ख़बरें

पहले भी दिए ऐसे बयान 

भागवत ने अपने बयान में यह भी कहा कि मॉब लिंचिंग करने वालों को क़ानून के अनुसार सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत में रहने वाले सभी लोगों के पूर्वज समान हैं। 2018 में भागवत ने कहा था कि जिस दिन ये कहा जाएगा कि हिंदू राष्ट्र में मुसलमान नहीं होंगे, उस दिन हिंदुत्व नहीं रहेगा। 

लेकिन भागवत के इन बयानों का कोई असर संघ के स्वयंसेवकों पर हुआ हो, नहीं कहा जा सकता क्योंकि मॉब लिंचिंग, मुसलमानों पर होने वाले हमले और सोशल मीडिया पर नफ़रती संदेश रुकने के बजाय तेज़ होते जा रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें