loader

प्रशांत किशोर का पंजाब मुख्यमंत्री के प्रमुख सलाहकार से इस्तीफ़ा क्यों?

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने को लेकर कयास लगाए ही जा रहे हैं कि इस बीच उन्होंने अब पंजाब में कांग्रेस सरकार के ही मुख्यमंत्री के प्रमुख सलाहकार पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को भेजे इस्तीफ़ा वाले पत्र में लिखा है कि उन्होंने यह फ़ैसला इसलिए लिया है कि वह सार्वजनिक जीवन में किसी सक्रिय भूमिका से एक अस्थायी ब्रेक लेना चाहते हैं।

तो क्या वह कांग्रेस में शामिल होने को तैयार हैं जैसे कि कयास लगाए जा रहे हैं? इसका जवाब भी प्रशांत किशोर के उस पत्र में है। अमरिंदर सिंह को लिखे पत्र में प्रशांत किशोर ने कहा है कि उन्हें अपने अगले क़दम पर फ़ैसला करना बाक़ी है। इसका मतलब है कि उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने के बारे में अभी तक फ़ैसला नहीं लिया है। 

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र में कहा है, 'जैसा कि आप जानते हैं, सार्वजनिक जीवन में सक्रिय भूमिका से अस्थायी अवकाश लेने के मेरे निर्णय के मद्देनज़र, मैं आपके प्रधान सलाहकार के रूप में ज़िम्मेदारियों को संभालने में सक्षम नहीं हूँ। चूँकि मुझे अभी तक अपने भविष्य के कार्य के बारे में निर्णय लेना है। मैं आपसे अनुरोध करने के लिए लिख रहा हूँ कि कृपया मुझे इस ज़िम्मेदारी से मुक्त करें।'

प्रशांत किशोर का यह फ़ैसला ऐसे वक़्त में आया है जब चर्चा है कि उन्होंने कांग्रेस को मज़बूत करने के लिए 'प्लान' दिया है और उसे लेकर पार्टी के भीतर लगातार मंथन चल रहा है। यह चर्चा यूँ ही नहीं चल रही है। कुछ दिन पहले प्रशांत की सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी से मुलाक़ात हुई थी। इसके तुरंत बाद पार्टी ने जिस तरह पंजाब, उत्तराखंड के सांगठनिक मसलों को सुलझाया, उससे यह संदेश गया है कि यह शायद प्रशांत किशोर से मुलाक़ात का ही असर है। 

मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि जो 'प्लान' प्रशांत किशोर की ओर से कांग्रेस हाईकमान को दिया गया है, वह 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी को फिर से चुस्त-दुरुस्त करने का है। इस संबंध में ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ ने कांग्रेस के सूत्रों के हवाले से भी हाल ही में ख़बर दी थी। इसमें कहा गया था कि कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) के सदस्यों के बीच इस 'प्लान' को लेकर बैठकों में लगातार चर्चा हो रही है। सीडब्ल्यूसी पार्टी में अहम फ़ैसले लेने वाली सर्वोच्च संस्था है। रिपोर्ट के अनुसार, इन बैठकों के बारे में जानकारी रखने वाले एक नेता ने बताया कि प्रशांत किशोर कांग्रेस की चुनावी रणनीति बनाने, समन्वय, प्रबंधन और गठबंधन के काम में सक्रिय भूमिका निभाना चाहते हैं। एक अन्य नेता ने भी कुछ ऐसा ही कहा कि प्रशांत किशोर पार्टी में शामिल होना चाहते हैं और इस मामले में चर्चा जारी है। उन्होंने बताया कि इस मामले में पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा आगे बढ़कर काम कर रही हैं। 

कई राजनीतिक दलों के लिए रणनीति बना चुके प्रशांत किशोर हाल ही में पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में अपने चुनावी प्रबंधन का लोहा मनवा चुके हैं।

कांग्रेस जिस तरह लगातार दो लोकसभा चुनाव हारी है और कई राज्यों में पस्त हुई है, ऐसे हालात में उसके लिए यह बेहद ज़रूरी है कि वह ऐसे किसी 'प्लान' पर गंभीरता से विचार करे। 

राजनीति से और ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस हाईकमान को जो 'प्लान' दिया है, उसके मुताबिक़, पार्टी में एक ताक़तवर समूह बनाया जाना चाहिए जो सारे फ़ैसले ले। इसके साथ ही पार्टी की राज्य और ज़िला इकाइयों को मज़बूत बनाने के लिए क़दम उठाए जाने चाहिए। पीके ने यह भी सुझाया है कि पार्टी को सीधे बूथ लेवल से प्रभावी चुनाव तंत्र खड़ा करना चाहिए। 

अख़बार ने कहा है कि सीडब्ल्यूसी के सदस्य इस ‘प्लान’ पर चर्चा के लिए कई बार कांग्रेस के दिल्ली स्थित वॉर रूम में मिल चुके हैं और इनमें पार्टी के बड़े नेता जैसे- ग़ुलाम नबी आज़ाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, पी. चिदंबरम अधीर रंजन चौधरी, एआईसीसी महासचिव (प्रशासन) पवन कुमार बंसल, प्रियंका गांधी वाड्रा, आनंद शर्मा, हरीश रावत, अंबिका सोनी सहित कई बड़े नेता शामिल रहे हैं। हालाँकि इस मामले में अभी तक न तो कांग्रेस नेतृत्व और न ही प्रशांत किशोर ने औपचारिक तौर पर कहा है कि वह कांग्रेस में शामिल होंगे। पर पंजाब के मुख्यमंत्री के प्रमुख सलाहकार से इस्तीफ़ा देने का संदेश क्या है?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें