loader

पंजाब से दिल्ली आ रहे किसानों का पुलिस से जबरदस्त टकराव

केंद्र सरकार के कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ पिछले कई महीनों से उबल रहे हरियाणा और पंजाब के किसान लगतार दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं। पंजाब से सैकड़ों ट्रैक्टर-ट्रालियों में किसान दिल्ली आ रहे हैं लेकिन हरियाणा की बीजेपी सरकार उन्हें रोकने की कोशिश कर रही है, जिस वजह से किसान संगठनों और पुलिस के बीच कई जगहों पर टकराव हो रहा है।  

अंबाला-पटियाला बॉर्डर सहित पंजाब-हरियाणा के कई बॉर्डर पर हरियाणा पुलिस ने किसानों पर पानी की बौछार की है और आंसू गैस के गोले भी दागे हैं। लेकिन फिर भी किसान लगातार आगे बढ़ रहे हैं और हजारों किसान हरियाणा में प्रवेश कर चुके हैं। 

केंद्र से लगातार गुहार लगा रहे इन दोनों राज्यों के किसानों के सब्र का बांध अब टूट गया है। किसानों के इस आंदोलन को ‘दिल्ली चलो’ का नाम दिया गया है। किसानों की एक ही मांग है कि केंद्र सरकार कृषि क़ानूनों को वापस ले ले। 

farmers protest in delhi against farm laws - Satya Hindi

हरियाणा ने सील किए बॉर्डर्स 

हरियाणा सरकार ने पंजाब से लगने वाले अपने बॉर्डर्स को सील कर दिया है, जिससे किसान दिल्ली नहीं पहुंच सकें। सरकार ने कहा है कि 26-27 नवंबर को ये बॉर्डर सील रहेंगे। इसी तरह दिल्ली-हरियाणा के बॉर्डर पर भी पुलिस की जबरदस्त तैनाती कर दी गई है। हरियाणा के अंबाला, भिवानी, करनाल, बहादुरगढ़, झज्जर और सोनीपत में किसान संगठनों ने बड़ी तैयारी की है। 

ताज़ा ख़बरें

हरियाणा सरकार ने किसानों को इकट्ठा होने से रोकने के लिए धारा 144 लागू कर दी है। भाकियू के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजोवाल ने कहा है कि अगर उन्हें दिल्ली नहीं जाने दिया गया तो वे हिमाचल और जम्मू-कश्मीर के रास्तों पर जाम लगा देंगे और धरने पर बैठ जाएंगे। हरियाणा से चंडीगढ़ जाने वाली बसों को भी रोक दिया गया है। किसानों ने कहा है कि यह प्रदर्शन एतिहासिक होगा और वे अपने आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे। ऐसे में हरियाणा सरकार से किसानों का टकराव हो भी रहा है और इसके बढ़ने के आसार हैं। 

farmers protest in delhi against farm laws - Satya Hindi

हरियाणा के किसानों ने कहा है कि वे पंजाब के किसानों को बॉर्डर से इस ओर आने में मदद करेंगे। किसानों ने दिल्ली कूच के लिए राशन और ज़रूरी चीजों का इंतजाम भी कर लिया है। 

अखिल भारतीय किसान महासभा की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष प्रेम सिंह गहलोत ने कहा है कि राज्य की पुलिस ने कई किसान नेताओं को गिरफ़्तार कर लिया है लेकिन बावजूद इसके बावजूद वे पंजाब के किसानों के साथ खड़े हैं। 

farmers protest in delhi against farm laws - Satya Hindi

3 लाख किसान!

अकेले पंजाब से 3 लाख किसानों के दिल्ली कूच करने की बात कही जा रही है। पंजाब में यह आंदोलन ज़्यादा उग्र है। राज्य के 33 किसान संगठन एकजुट हैं। किसानों और केंद्र सरकार के बीच दूसरे दौर की बातचीत 3 दिसंबर को होनी है।

ऑल इंडिया किसान संघर्ष को-ऑर्डिनेशन कमेटी, राष्ट्रीय किसान महासंघ, भारतीय किसान यूनियन सहित कई संगठनों ने इस 'दिल्ली चलो' मार्च का आह्वान किया है। 

स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव भी किसानों के इस आंदोलन में पिछले कई महीनों से सड़क पर हैं। यादव ने कहा है कि किसान पूरी तरह एकजुट हैं और इन दोनों राज्यों के अलावा भी अन्य राज्यों से किसान दिल्ली आ रहे हैं। 

farmers protest in delhi against farm laws - Satya Hindi

पंजाब में बदतर हालात 

किसानों के आंदोलन के कारण पंजाब में लगभग दो महीने तक रेलगाड़ी व मालगाड़ियां नहीं जा सकीं। इस वजह से रेलवे को तो राजस्व का नुक़सान हुआ ही, पंजाब के लोगों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। राज्य सरकार के ट्रेनों को पूरी तरह सुरक्षा का भरोसा देने के बाद भी केंद्र सरकार हठ पर बैठी रही। 

कोयला न पहुंचने के कारण राज्य में घंटों तक पावर कट लगे और अनाज, सब्जियां व अन्य ज़रूरी चीजें नहीं पहुंच सकीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें