loader

कैप्टन पर हमलावर रहे शख़्स को सिद्धू ने क्यों बनाया अपना सलाहकार?

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह बनाम नवजोत सिंह सिद्धू का झगड़ा सुलझाने में कांग्रेस हाईकमान के छक्के छूट गए। जैसे-तैसे यह लड़ाई शांत हुई थी कि कैप्टन दिल्ली पहुंच गए और यहां उन्होंने सिद्धू की बयानबाज़ी को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से शिकायत की। 

इसी बीच, सिद्धू ने 4 लोगों को अपना सलाहकार नियुक्त कर दिया। इनमें से एक सलाहकार मलविंदर सिंह माली ने अपनी एक फ़ेसबुक पोस्ट में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर जोरदार हमला बोला है। हालांकि यह पोस्ट उन्होंने सलाहकार नियुक्त किए जाने से कुछ घंटे पहले लिखी थी। लेकिन सवाल यह है कि अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ ऐसी पोस्ट लिखने वाले शख़्स को सिद्धू ने अपना सलाहकार क्यों बनाया। 

माली ने अपनी पोस्ट में लिखा है, “पंजाबियों, होशियार और ख़बरदार हो जाओ। कैप्टन, अमित शाह और मोदी की तिकड़ी के द्वारा पंजाब के अंदर अविश्वास, सांप्रदायिक तनाव, डर और दहशत पैदा करने के संकेत हैं और यह पंजाबियों और किसानों के लिए ख़तरे की घंटी है।”

ताज़ा ख़बरें

माली आगे लिखते हैं कि सोनिया गांधी ने कैप्टन को नवजोत सिंह सिद्धू के साथ मिलकर चलने और अमरिंदर से कैबिनेट में बदलाव संबंधी प्रस्ताव देने के लिए कहा लेकिन कैप्टन ने पंजाब के अंदर मोदी और अमित शाह की सियासत लागू करने का अपना एजेंडा केंद्र सरकार को सौंप दिया है। याद रखना होगा कि अमरिंदर सिंह सोनिया गांधी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से भी मिले थे। 

Malwinder singh Mali comment against amarinder singh  - Satya Hindi
माली लगातार मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ टिप्पणियां करते रहे हैं, इसलिए जब सिद्धू ने उन्हें अपना सलाहकार बनाया तो कांग्रेस के ही कई नेताओं ने इस पर नाराज़गी जाहिर की थी। माली के बारे में कहा जाता है कि वे अपनी ख़राब जुबान के लिए पहचाने जाते हैं। कांग्रेस नेता अनीश सिडाना ने माली को सलाहकार बनाने पर सवाल उठाया। 
पंजाब से और ख़बरें

सिर्फ़ सलाहकार हूं: माली 

माली इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री गुरुचरण सिंह टोहड़ा, कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रकाश सिंह बादल के साथ भी काम कर चुके हैं। माली का कहना है कि वे सिर्फ़ सलाहकार बने हैं और किसी पार्टी में शामिल नहीं हुए हैं। माली ने कहा कि उनका कांग्रेस के आंतरिक मामलों से कोई लेना-देना नहीं है और वे सिर्फ़ सिद्धू को उनके पंजाब एजेंडे के बारे में सलाह देंगे।

Malwinder singh Mali comment against amarinder singh  - Satya Hindi

बढ़ेगा विवाद?

अमरिंदर सिंह के सोनिया गांधी को सिद्धू की बयानबाज़ी के बारे में बताने पर सोनिया ने पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत से कहा था कि वह इस बात को सुनिश्चित करें कि अमरिंदर सिंह और सिद्धू अपनी सीमाओं में रहकर काम करें लेकिन एक-दूसरे का सहयोग भी करें। लेकिन माली अगर लगातार इसी तरह कैप्टन के ख़िलाफ़ बोलते रहे तो हरीश रावत के लिए सिद्धू और कैप्टन को साथ ला पाना मुश्किल होगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें