loader

अमरिंदर सिंह की बढ़ सकती है मुसीबत, अंदर से ही बग़ावती सुर

नवजोत सिंह सिद्धू के बाद एक और कांग्रेसी विधायक पद्मश्री परगट सिंह ने अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। पूर्व हॉकी खिलाड़ी परगट सिंह कांग्रेस के 'बाग़ी' नवजोत सिंह सिद्धू के नज़दीकी दोस्त हैं और सिद्धू ने ही उन्हें पार्टी में शामिल करवा कर टिकट दिलवाया था। फ़िलहाल वह जालंधर कैंट विधानसभा हलके से विधायक हैं। सियासी गलियारों में चर्चा है कि परगट सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू की हिदायत से इतना कड़ा बाग़ी रूख अख्तियार किया है। वैसे, इन दिनों कांग्रेस में कैप्टन अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ एक नया कॉकस बन रहा है।

ताज़ा ख़बरें

अपनी पार्टी की सरकार पर तीखा हमला करते हुए विधायक परगट सिंह ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह एक कमज़ोर मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने कहा कि समझ से बाहर है कि पंजाब में सरकार कांग्रेस की है या मुख्य सचिव की। मंत्रियों और चीफ़ सेक्रेटरी के बीच हुए विवाद के बाद मुख्यमंत्री को तत्काल विधायकों की बैठक बुलानी चाहिए थी और साफ़ करना चाहिए था कि जी जिन मुद्दों को लेकर हमने सरकार बनाई थी वह क्यों पूरे नहीं हुए। विधायक परगट सिंह ने कहा कि हालात ये हैं कि अब आकारी कॉरपोरेशन अभी तक नहीं बन पाया जबकि कॉरपोरेशन बनने से हर साल 10 हज़ार करोड़ का रेवेन्यू आना था। जबकि अभी महज 14 हज़ार 500 करोड़ ही 3 साल में हासिल हुए हैं। ख़ास बात यह है कि ठीक चार दिन पहले इन्हीं आँकड़ों और इसी भाषा के साथ नवजोत सिंह सिद्धू ने सरकार को घेरा था।

विधायक परगट सिंह ने कहा कि ठेकेदार तैयार हैं, सब लोग तैयार हैं फिर सरकार को रोक कौन रहा है। साढ़े 3 साल में सरकार ने एक्साइज विभाग की कॉरपोरेशन तक नहीं बनाई। नवजोत सिंह सिद्धू ने इस पर माँग उठाई थी तो मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि अब वक़्त निकल चुका है, अगले साल देखा जाएगा। यह करते-करते साढ़े तीन साल गुज़र चुके हैं। हालात यह है कि जिस तरह दस साल अकाली-भाजपा गठबंधन की सरकार चल रही थी, उसी तरह ही यह सरकार चल रही है। इन दोनों की कारगुजारी में ज़्यादा फर्क नहीं है। पद्म श्री परगट सिंह ने कहा कि डेढ़ साल बाद चुनाव हैं, इससे पहले हमें सीएलपी की बैठक बुलानी चाहिए। 

तय है कि पंजाब कांग्रेस की राजनीति में परगट सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बाग़ी सुरों की गूँज दूर तक जाएगी।

कुछ कांग्रेसी नेताओं से बात की गई तो सबने एक जैसे ही जवाब दिए कि उन्हें फ़िलहाल नहीं मालूम कि परगट सिंह ने क्या बोला है। अलबत्ता नाम न ज़ाहिर करने की शर्त पर एक कांग्रेसी विधायक ने साफ़ कहा कि परगट सिंह ने जो भी बोला है, वह सही और सच है। उन्होंने कई विधायकों के मन की आवाज़ को अभिव्यक्त किया है।

पंजाब से और ख़बरें

पिछले दिनों मुख्य सचिव करण अवतार सिंह और मंत्रियों के बीच हुए विवाद के बाद कुछ मंत्री और विधायक भीतर ही भीतर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ हैं लेकिन मुखर नहीं। राज्य कांग्रेस पहले से ही घड़ेबंदी का शिकार है लेकिन अब तक के कार्यकाल में कैप्टन अमरिंदर सिंह को कोई बड़ी चुनौती दरपेश नहीं आई। नवजोत सिंह सिद्धू को वह किनारे कर चुके हैं और अपने ख़िलाफ़ बोलने वाले पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद प्रताप सिंह बाजवा को भी उन्होंने हाशिए पर रखा हुआ है। बाजवा लगभग रोज़ मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ तीखी बयानबाज़ी करते हैं लेकिन कैप्टन बेपरवाह रहते हैं।

देखना होगा कि अब खुलकर 'बाग़ी' हुए विधायक परगट सिंह से वह कैसे निपटते हैं। वैसे, परगट सिंह के विरोधी तेवर कैप्टन अमरिंदर सिंह के लिए यक़ीनन बड़ी चुनौती हैं। साफ़ है कि पंजाब कांग्रेस में सब कुछ अच्छा नहीं है। परगट सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू को अन्य कांग्रेसी विधायकों और मंत्रियों का खुला समर्थन मिला तो मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बड़ी मुश्किल में आ जाएँगे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अमरीक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें