loader

अमरिंदर सिंह की अगुवाई में विधानसभा चुनाव लड़ेगी कांग्रेस: हरीश रावत 

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ एकजुट हो रहे कांग्रेस के बाग़ी विधायकों को पार्टी हाईकमान ने साफ संदेश दे दिया है। हाईकमान अमरिंदर सिंह के पक्ष में आगे आया है। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने बुधवार को कहा है कि अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में ही कांग्रेस पंजाब में विधानसभा का चुनाव लड़ेगी। 

पत्नी मैदान में उतरीं 

इधर, मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की पत्नी परणीत कौर भी मैदान में उतर आई हैं। उन्होंने कहा है कि इस तरह की बातें करने का यह सही वक़्त नहीं है। पूर्व केंद्रीय मंत्री कौर ने कहा कि मुख्यमंत्री ने बड़ा दिल दिखाया है और इन लोगों को उनसे कुछ सीखना चाहिए।

परणीत कौर ने कहा कि हम सभी को मिलकर चुनाव मैदान में उतरना चाहिए। उन्होंने सवाल उठाया कि जब साढ़े चार साल तक सब ठीक था तो अचानक क्या हो गया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने कार्यकाल में शानदार काम किया है। 
ताज़ा ख़बरें

खेमेबंदी तेज़ 

दूसरी ओर, बाग़ी विधायकों ने अमरिंदर के ख़िलाफ़ खेमेबंदी तेज़ कर दी है। पंजाब कांग्रेस के 80 विधायकों में से 34 ने मंगलवार को एक अहम बैठक की और कैप्टन अमरिंदर सिंह को बदलने की मांग की। इस बैठक में चार मंत्री भी शामिल रहे। इन विधायकों और मंत्रियों ने कहा कि उन्हें अब अमरिंदर सिंह पर भरोसा नहीं रहा है। 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, यह बैठक कैबिनेट मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा के सरकारी आवास पर हुई। हालांकि इस बैठक में सिद्धू और प्रदेश कांग्रेस के चार कार्यकारी अध्यक्ष मौजूद नहीं रहे लेकिन बैठक में शामिल कुछ विधायकों ने बाद में कांग्रेस मुख्यालय में सिद्धू से मुलाक़ात की। 

Punjab Congress crisis party backed Amarinder singh - Satya Hindi

अमरिंदर के ख़िलाफ़ बग़ावत का बिगुल बजाने वाले चार मंत्री सहित छह विधायकों ने बुधवार को पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत से देहरादून में मुलाक़ात की है। इनमें अमरिंदर सिंह के कट्टर विरोधी विधायक परगट सिंह भी शामिल हैं। परगट सिंह को सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस के महासचिव (संगठन) जैसे अहम पद पर बैठाया है। 

बाजवा के अलावा कैबिनेट मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, सुखजिंदर सिंह रंधावा और सुखबिंदर सिंह सरकारिया ने भी अमरिंदर के ख़िलाफ़ बग़ावत का बिगुल बजा दिया है। 

पंजाब से और ख़बरें

मुख्यमंत्री कार्यालय का बयान 

इस बैठक को लेकर मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से बयान जारी किया गया है। बयान में 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले इस तरह की कोशिशों की मजम्मत की गई है और पार्टी नेतृत्व से इस मामले में तुरंत क़दम उठाने की मांग की गई है।

पंजाब में चुनाव महज छह महीने दूर हैं और उससे ठीक पहले एक बार फिर खड़ा हुआ यह सियासी बवाल सत्ता से पार्टी की विदाई करा सकता है। पंजाब कांग्रेस में कैप्टन अमरिंदर सिंह बनाम नवजोत सिंह सिद्धू के कैंप के बीच लंबे वक़्त तक चले संघर्ष के बाद सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था।

सलाहकारों के बयान पर विवाद 

सिद्धू के सलाहकारों मलविंदर सिंह माली और प्यारे लाल गर्ग के बयानों पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गहरी नाराज़गी जताई थी। अमरिंदर सिंह के अलावा पंजाब से ही आने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने भी माली और गर्ग के बयानों को लेकर कहा था कि यह उन सभी लोगों के जख़्मों पर नमक छिड़कने जैसा है, जिन्होंने देश के लिए अपना ख़ून बहाया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें