loader

नागरिकता क़ानून: बीजेपी के नंबर का सोशल मीडिया पर बन गया तमाशा

नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ हुए प्रदर्शनों के बाद घबराई बीजेपी ने इसके पक्ष में समर्थन जुटाने की कई कोशिश की हैं। पार्टी की सभी राज्य इकाईयाँ अपने-अपने राज्यों में इस क़ानून के समर्थन में रैलियां निकाल रही हैं। पार्टी ने अपने मंत्रियों, सांसदों, विधायकों, पदाधिकारियों को इस क़ानून के पक्ष में माहौल बनाने के लिए घर-घर जाने के लिए भी कहा है। पार्टी की ओर से पूरे देश भर में प्रेस कॉन्फ़्रेंस की जा रही हैं। इतना सब करने के बाद पार्टी को लगा होगा कि शायद कुछ कमी रह गई है तो उसने एक इस क़ानून के पक्ष में समर्थन जुटाने के लिए एक नंबर भी जारी कर दिया। शायद यह सब इसीलिए किया गया क्योंकि पार्टी को और केंद्र सरकार को यह उम्मीद नहीं थी कि इस क़ानून के ख़िलाफ़ भारत ही नहीं दुनिया भर में कई जगहों पर लोग आवाज़ उठाएंगे। 

लेकिन इस नंबर को जारी करते ही बीजेपी की ख़ासी किरकिरी भी हो रही है और लोग मजाक भी उड़ा रहे हैं। क्योंकि पार्टी ने जो नंबर 8866288662 जारी किया था, उस पर अब लोग फ़्री इंटरनेट डाटा देने के साथ ही, अकेले होने पर बातें करने और तमाम तरह के ऑफ़र दे रहे हैं। सोशल मीडिया पर इस नंबर को लेकर तमाम तरह की प्रतिक्रियाएँ आ रही हैं और एक तरह से कह सकते हैं कि इस नंबर का तमाशा सा बन गया है। 

ताज़ा ख़बरें

3 जनवरी को देश के गृह मंत्री और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने अपने ट्विटर और फ़ेसबुक अकाउंट पर इस नंबर को जारी करते हुए इस क़ानून के पक्ष में समर्थन माँगा। शाह ने लिखा, ‘मैं सभी देशवासियों से अपील करता हूँ कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए अल्पसंख्यकों को न्याय व अधिकार देने वाले CAA पर अपना समर्थन देने के लिए 8866288662 पर मिस्ड कॉल दें।’

BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi
अमित शाह के बाद बीजेपी के तमाम नेताओं ने इस नंबर को सोशल मीडिया पर वायरल करना शुरू कर दिया और लोगों से क़ानून के समर्थन में इस नंबर पर मिस्ड कॉल देने के लिए कहा। लेकिन कुछ ही घंटों बाद इस नंबर को ट्विटर पर कुछ अकाउंट्स ने उठा लिया और उन्होंने इस नंबर को लेकर क्या-क्या ट्वीट किए ये आप देखिए। 

सृष्टि शर्मा ने ट्वीट किया कि इस नंबर को सेव कर लें और उनसे बात करें। जबकि विनिता हिंदुस्तानी नाम के ट्विटर हैंडल ने ट्वीट किया कि यह उनका नंबर है, वह फ़्री हैं और कॉल का इंतजार कर रही हैं। इन दोनों के ही स्क्रीनशॉट ख़ूब वायरल हो रहे हैं।  

BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi

आंचल नाम के ट्विटर हैंडल ने ट्वीट किया कि अकेले हो, मुझसे दोस्ती करोगे। 

BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi

इसी तरह पवन दुर्रानी नाम के शख़्स के ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है। इसमें लिखा है कि जो लोग चाहते हैं कि विराट कोहली को साल का सबसे बेहतर क्रिकेटर नॉमिनेट किया जाए, वे इस नंबर पर मिस्ड कॉल दें। 

सुशांत कुमार राय और हार्दिक भवसार नाम के ट्विटर हैंडल ने लिखा है कि यह उनकी पूर्व प्रेमिका का नंबर है और लोग इस पर मिस्ड कॉल कर सकते हैं। 

BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi
BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi

ट्वीट चोर नाम के ट्विटर हैंडल ने ट्वीट किया कि इस नंबर पर कॉल करो, क्विज़ खेलो और 10 लाख तक का इनाम जीतो। 

BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi
कई ट्विटर यूजर ने तो हद कर दी जब उन्होंने कहा कि इस नंबर पर मिस्ड कॉल देकर नेटफ़्लिक्स की ओर से 6 महीने का सबक्रिप्शन मुफ़्त मिल सकता है। उन्होंने यह भी लिखा कि इस नंबर पर कॉल करके उन्हें यूज़रनेम और पासवर्ड मिल जाएगा। यह प्रमोशनल ऑफ़र है और पहले 1000 कॉलर्स के लिए फ़्री है। 

नेटफ़्लिक्स की ओर से 6 महीने का सबक्रिप्शन मुफ़्त मिलने के ट्वीट को कई लोगों ने कॉपी-पेस्ट कर लिया और धड़ाधड़ ट्वीट कर दिया। इससे थोड़ी ही देर में ऐसे ट्वीट की बाढ़ आ गई और नेटफ़्लिक्स को ख़ुद ही आकर कहना पड़ा कि यह पूरी तरह झूठ है और ऐसा कुछ भी नहीं है। 

BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi

कई लोगों ने नौकरी के लिए संपर्क करने के लिए इस नंबर को दे दिया तो कुछ लोगों ने कहा कि मोदी जी 15 लाख बाँट रहे हैं, उन्हें मिल गए हैं, अगर आपको चाहिए तो आप इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। लेखक और निर्देशक अविनाश दास ने कुछ ऐसे ही ट्वीट के स्क्रीनशॉट को पोस्ट किया है। 

BJP asking people to give missed calls to show support for CAA but joked - Satya Hindi

इस तरह मिलेगा समर्थन?

ऐसे मुद्दे पर जिसे लेकर देश के कई हिस्सों में लोग सड़कों पर हों, आंदोलित हों, पुलिस कार्रवाई का सामना कर रहे हों और जोर-जोर से बोलकर बता रहे हों कि वे इस क़ानून के पूरी तरह ख़िलाफ़ हैं, ऐसे में एक नंबर पर मिस्ड कॉल से इस क़ानून के लिए समर्थन जुटाने को कोरी कवायद ही माना जाएगा। क्योंकि ट्विटर पर जिस तरह से इस नंबर के लिए समर्थन जुटाया जा रहा है, वह तो कहीं से भी नहीं बताता कि कोई इसके समर्थन में है। क्योंकि समर्थन करने वाले इस तरह के झूठे ऑफ़र और बातों से ट्वीट कभी नहीं करते। इसलिए कुछ लोगों ने इसके विरोध में एक नंबर जारी किया और कहा कि इस क़ानून का विरोध करने वाले लोग इस नंबर पर मिस्ड कॉल दें। 

बीजेपी अगर उसकी ओर से जारी किए गए इस नंबर पर आई हुई मिस्ड कॉल को यह कहकर प्रचारित करेगी कि इतनी बड़ी संख्या में लोगों ने इस क़ानून का समर्थन किया है तो थोड़ी सी भी अकल-बुद्धि रखने वाला व्यक्ति इसे क़तई स्वीकार नहीं करेगा।

कुल मिलाकर बात यहां तक पहुंच चुकी है कि इस क़ानून के समर्थन में भी लोग हैं, यह दिखाने के लिए इस तरह के हथकंडों का सहारा लेना पड़ रहा है और यह निश्चित रूप से दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में के लिए अच्छा संकेत नहीं है। ऐसे में देश की संसद से पास और राष्ट्रपति के द्वारा हस्ताक्षर किये गए क़ानून की क्या संवैधानिक मान्यता रह जाएगी क्योंकि जब इस तरीक़े से समर्थन जुटाना और दिखाना पड़ेगा तो यह साफ़ समझ आएगा कि क़ानून का समर्थन कम है और विरोध ज़्यादा। और लोग यही कहेंगे कि विरोध को कम दिखाने के लिए ऐसे सस्ते तरीक़ों से समर्थन जुटाया जा रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें