loader

दक्षिणपंथी समर्थक ही ट्विटर पर 'शेम ऑन बीजेपी' ट्रेंड क्यों करा रहे?

पैगंबर मोहम्मद साहब पर टिप्पणी पर नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल को निलंबित करने के मामले में अब बीजेपी के समर्थकों और दक्षिणपंथियों ने ही पार्टी के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया लगता है। मंगलवार को ट्विटर पर 'ShameOnBJP' हैशटैग के साथ ट्रेंड करता रहा। कुछ नामचीन लोगों ने भी नूपुर शर्मा के समर्थन में ट्वीट तो किया है, लेकिन 'ShameOnBJP' हैशटैग का इस्तेमाल नहीं किया है।

दरअसल, ऐसी प्रतिक्रियाओं की शुरुआत तब हो गई थी जब बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा को निलंबित करने का फ़ैसला लिया गया। उन्होंने पैगंबर मुहम्मद साहब को लेकर टिप्पणी की थी। उनकी टिप्पणी पर खाड़ी के देशों ने आधिकारिक तौर पर कड़ी आपत्ति जताई।

ताज़ा ख़बरें

अब तक 15 देश इसे लेकर अपना जोरदार विरोध दर्ज करा चुके हैं। बीजेपी की ओर से नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के खिलाफ कार्रवाई करने के बाद भी विरोध कम होता नहीं दिख रहा है। कहा जा रहा है कि सरकारी प्रतिक्रिया में ही इन्हें 'फ्रिंज एलिमेंट' यानी हाशिए के लोग कहने और दोनों को निलंबित करने के फ़ैसलों से बीजेपी ने उनके बयानों को ग़लत मान लिया है।

जो कथित तौर पर नफ़रत की भाषा बोल रहे हैं या जो आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं उनके ख़िलाफ़ बीजेपी की कार्रवाई पर पार्टी के समर्थक ही क्यों भड़क गए? क्या सत्तारूढ़ दल का ट्रोल सेना पर नियंत्रण नहीं रहा? ये वो ट्रोल सेना है जिसे कभी राजनीतिक लाभ के लिए आगे बढ़ाया गया था। 

बीजेपी के समर्थक नज़र आने वाले ट्विटर यूज़र राधाकृष्ण मिश्रा ने ट्वीट किया है, 'तो नए भारत में नूपुर जी को बीजेपी से बेदखल करने के लिए किसी भी इस्लामवादी का ट्वीट काफी है, क्या यह वही बीजेपी है जिसे हमने वोट दिया था, या यह कोई तथाकथित मास्टरस्ट्रोक है, बीजेपी वालों, एक दिल है कितनी बार तोड़ोगे।'
कुछ यूजरों ने हालाँकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सीधे निशाने पर नहीं लिया, लेकिन शीर्ष पद के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पक्ष लेने के लिए उन्हें एक कमजोर नेता के रूप में पेश करने की कोशिश की। एक ट्वीट में कहा गया, 'प्रिय हिंदुओं, भारत के प्रधानमंत्री के रूप में योगी जी की कल्पना करो।'
डॉ. मनोज दुबे नाम के यूज़र ने ट्वीट कर कहा है कि नूपुर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल दोनों शानदार काम कर रहे हैं और दोनों पर गर्व है। उन्होंने लिखा है कि दोनों को बाहर क्यों किया गया।

फिल्म द कश्मीर फाइल्स के निर्माता विवेक अग्निहोत्री ने सीधे बीजेपी पर निशाना नहीं साधा, लेकिन नूपुर को दुर्गा बताते हुए ट्वीट किया, 'एक बार फिर से अर्बन नक्सली जीत गए। मैं नूपुर शर्मा के साथ खड़ा हूँ। आपके लिए अपने हैंडल को @NupurSharmaDurga में बदलने का समय आ गया है।'

मोहनदास पाई ने लोगों का आह्वान किया है कि धार्मिक कट्टरता के खिलाफ नूपुर शर्मा का समर्थन करें...।

बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने भी सीधे तौर पर तो बीजेपी पर कुछ नहीं बोला है, लेकिन उन्होंने अप्रत्यक्ष तौर पर आलोचना की है। उन्होंने ट्वीट किया, 'उनके देश हैं, इस्लामिक देश। मुसलमानों के अधिकारों की बात कर रहे हैं, आर्थिक बहिष्कार, नौकरियों से निकालने की बात खुलेआम। धर्म के नाम पर। हिन्दू इस विश्व के सेकंड क्लास नागरिक है। सिर्फ हिन्दू धर्म ऐसा है जिसका मजाक उड़ाना गाली देने की कोई सजा नहीं, बल्कि ईनाम मिलते हैं।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें