loader

नगालैंड: पुलिस ने सेना के ख़िलाफ़ दर्ज की FIR, इरादतन हत्या का आरोप 

नगालैंड में मोन ज़िले के ओतिंग गांव में हुई फ़ायरिंग के मामले में पुलिस ने सेना की 21 पैरा पुलिस बल के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर लिया है। भारत-म्यांमार की सीमा से सटे मोन जिले में फ़ायरिंग में 14 ग्रामीणों और एक जवान की मौत हो गई थी। 

एफ़आईआर में पुलिस ने कहा है कि सुरक्षा बलों ने हत्या के इरादे से लोगों पर हमला किया। 

सरकार ने इस मामले की जांच के लिए एसआईटी बना दी है। इलाक़े में तनाव को देखते हुए धारा 144 लागू कर दी गई है और मोबाइल इंटरनेट और मैसेज सर्विस को भी बंद कर दिया गया है। इस वजह से कोहिमा में होने वाले हॉर्नबिल त्यौहार को भी रद्द कर दिया गया है। 

सेना ने एक बयान जारी कर कहा है कि लोगों की जान जाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। इस मामले की उच्चतम स्तर पर जांच की जा रही है और क़ानून के मुताबिक़ कार्रवाई की जाएगी। 

एफ़आईआर में कहा गया है कि दिन के 3.30 बजे कोयला मज़दूर तिरू से एक बोलेरो कार में अपने गांव ओतिंग लौट रहे थे। जब वे तिरू और ओतिंग के बीच लोंगखाओ नाम की जगह पर पहुंचे तो सुरक्षा बलों ने मज़दूरों के द्वारा बिना किसी उकसावे के ही बोलेरो वाहन पर अंधाधुंध फ़ायरिंग कर दी। इसमें कई लोगों की मौत हो गई और कुछ लोग घायल हो गए।  

ताज़ा ख़बरें

असम राइफ़ल्स के कैंप पर हमला 

घटना से ग़ुस्साए लोगों ने रविवार की शाम को असम राइफ़ल्स के कैंप पर हमला कर दिया था। इसमें एक स्थानीय नागरिक की मौत हो गई थी। 

'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' के अनुसार, लोगों ने दोषियों के ख़िलाफ़ तुरन्त कार्रवाई की मांग की। उन्होंने कोन्याक यूनियन के दफ़्तर पर भी हमला कर दिया। कोन्याक इस इलाक़े का सबसे अधिक आबादी वाला कबीला है।

'एनडीटीवी' ने पुलिस सूत्रों के हवाले से कहा है कि यह घटना 'ग़लत पहचान' के कारण हुई है। रिपोर्ट के अनुसार, एक गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए सुरक्षा बलों ने तिरु-ओतिंग सड़क पर घात लगाकर हमला करने की योजना बनाई थी और इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों को विद्रोही समझ लिया।

राज्य से और ख़बरें

'इंडिया टुडे' के मुताबिक़ ओतिंग गांव के लोगों का एक समूह एक मिनी ट्रक में सवार होकर घर लौट रहा था, तभी उन्हें गोली मार दी गई।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले में केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। उन्होंने कहा है कि न तो सैनिक सुरक्षित हैं न ही आम नागरिक सरकार आख़िर कर क्या रही है? नगालैंड के मुख्यमंत्री नेफिउ रियो ने घटना की निंदा करते हुए मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति दुख जताया है। उन्होंने सभी से शांति बनाए रखने की अपील है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राज्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें