loader

चेन्नई: ट्विटर पर शाह का विरोध, समर्थकों ने दिया जवाब

तमिलनाडु में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले वहां सियासी आधार बढ़ाने की कोशिश कर रही बीजेपी के लिए शनिवार का दिन ख़राब रहा। पार्टी नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के चेन्नई पहुंचने से पहले ही ट्विटर पर #GoBackAmitShah ट्रेंड करने लगा। हालांकि इसके जवाब में बीजेपी समर्थकों ने #TNwelcomesChanakya ट्रेंड कराया। 

ताज़ा ख़बरें

बहरहाल, अमित शाह ने अपने दौरे के दौरान करोड़ों रुपये के प्रोजेक्ट्स की नींव रखी और चेन्नई में वे समर्थकों का अभिवादन स्वीकार करने के लिए सड़क पर पैदल भी चले। इस दौरान पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि और प्रदेश अध्यक्ष एल. मुरूगन भी उनके साथ मौजूद रहे। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानिस्वामी और उप मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम भी शाह से मिलने चेन्नई एयरपोर्ट पहुंचे। 

प्रकाश नाम के यूजर ने डीएमके नेता स्टालिन और अमित शाह का फ़ोटो ट्वीट कर स्टालिन को केयर करने वाला जबकि शाह को डराने वाला नेता बताया। 

एक ट्विटर यूजर ने व्यंग्य किया कि 15 लाख रुपये न देने पर किसी ने अमित शाह पर बैनर फेंक दिया। 

#TNwelcomesChanakya ट्रेंड कराने वाले बीजेपी समर्थकों ने कहा कि अमित शाह के राज्य में आने से अब यहां 200 फ़ीसदी कमल खिलेगा। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब पिछले साल तमिलनाडु के दौरे पर गए थे, उनके साथ भी ऐसा ही हुआ था और ट्विटर पर #GoBackModi ट्रेंड कराया गया। 
GobackAmitshah trend on twitter  - Satya Hindi

एआईएडीएमके के साथ गठबंधन तय 

बीजेपी का चुनाव में सत्तारूढ़ एआईएडीएमके से गठबंधन होना तय माना जा रहा है। लेकिन हालिया दिनों में इन दोनों दलों के रिश्तों में खटास आई है। बीजेपी ने 6 नवंबर से वेत्री वेल यात्रा निकालने की योजना बनाई थी। लेकिन एआईएडीएमके की सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी और कोरोना को इसका कारण बताया। 

इसके अलावा बीजेपी ने एक वीडियो में नरेंद्र मोदी की तसवीर का इस्तेमाल एआईएडीएमके के संस्थापक एमजी रामचंद्रन की तसवीर के साथ किया तो एआईएडीएमके ने इसका विरोध किया। 

तमिलनाडु में राज्य के दो सियासी दिग्गजों की ग़ैर मौजूदगी में यह पहला विधानसभा चुनाव होगा। क्योंकि करूणानिधि और जे.जयललिता की मृत्यु हो चुकी है। दक्षिण में कर्नाटक में बीजेपी की सरकार है लेकिन वह एआईएडीएमके के सहारे यहां भी राज्य की सत्ता में हिस्सेदारी चाहती है और इसके लिए अपनी ताक़त बढ़ा रही है। एआईएडीएमके राज्य सभा में बीजेपी का समर्थन करती रही है। 2019 के लोकसभा चुनाव में इस गठबंधन को करारी हार मिली थी।  

संगठन को मजबूत करने में जुटी बीजेपी ने सिने अदाकारा रहीं खुशबू सुंदर को पार्टी में शामिल किया है। बीजेपी नेतृत्व को उम्मीद है कि खुशबू के आने से उसे फायदा मिलेगा।

शशिकला के आने से होगी उथल-पुथल

जयललिता की क़रीबी रहीं शशिकला इन दिनों जेल में हैं। वैसे, उनकी रिहाई जनवरी में तय है लेकिन आसार हैं कि इससे पहले भी वह बाहर आ सकती हैं। लेकिन सवाल यह है कि क्या एआईएडीएमके के नेता शशिकला को वापस पार्टी में शामिल करेंगे? 

तमिलनाडु से और ख़बरें

कहा जा रहा है कि पलानीसामी और पन्नीरसेलवम दोनों शशिकला के एआईएडीएमके में वापसी के सख़्त ख़िलाफ़ हैं। इन नेताओं को डर है कि अगर शशिकला को पार्टी में शामिल किया जाता है, तब वह सत्ता अपने हाथ में ले लेंगी। 

ऐसी स्थिति में क्या शशिकला अपने भतीजे टीटीवी दिनाकरन की पार्टी में शामिल होंगी। शशिकला तमिलनाडु की राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं क्योंकि वह चुनावी रणनीति बनाने में माहिर हैं। जयललिता के रहते हुए उम्मीदवारों के चयन में शशिकला की हमेशा बड़ी भूमिका रही।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें