loader
फ़ोटो क्रेडिट - @WorkingClassIn1

तमिलनाडु: बाप-बेटे की मौत से जबरदस्त आक्रोश, राहुल ने कहा- न्याय मिले

तमिलनाडु में बाप-बेटे (पी. जेयाराज और जे. बेनिक्स) की कथित रूप से पुलिस हिरासत में मौत के बाद लोगों में जबरदस्त आक्रोश है। घटना तूतूकुड़ी के सातनकुलम कस्बे की है। तमिलनाडु में इसे लेकर जोरदार प्रदर्शन हो रहे हैं। सख़्त लॉकडाउन के बाद भी बड़ी संख्या में लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। तमिलनाडु ट्रेडर्स एसोसिएशन ने आह्वान किया है कि बुधवार को पूरे राज्य में दुकानें बंद रहेंगी। 

पीड़ित परिजनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने जेयाराज और बेनिक्स के साथ बर्बरता की है। 

घटना पर आक्रोश जाहिर करते हुए कई व्यापारिक संगठनों, राजनीतिक दलों, कार्यकर्ताओं और आम लोगों ने धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिए हैं। प्रदर्शनकारियों ने मांग की है कि पीड़ित परिजनों के परिवार वालों को 50 लाख रुपये की मदद और एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए। 

ताज़ा ख़बरें

मंगलवार को तूतूकुड़ी जिले के सातनकुलम, उडानगुडी और पेईकुलम में व्यापारियों ने पुलिस पर बर्बरता करने का आरोप लगाते हुए दुकानों को बंद रखा। भारी तनाव को देखते हुए जिले के एसपी अरूण बालागोपालन और कलेक्टर संदीप नांदुरी ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत की। मामले में कार्रवाई करते हुए चार पुलिसकर्मियों को निलंबित और एक इंस्पेक्टर का ट्रांसफर कर दिया गया है। 

इस बीच, मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने आदेश दिया है कि तीन डॉक्टरों की टीम बाप-बेटे के शवों का पोस्टमार्टम करे और इसकी वीडियोग्राफ़ी कराई जाए। 

तमिलनाडु से और ख़बरें

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस घटना पर ट्वीट कर कहा है कि यह विडंबना है कि जिन लोगों पर हमारी सुरक्षा की जिम्मेदारी थी, वे अत्याचारी बन गए। राहुल ने पीड़ित परिवार के प्रति सांत्वना व्यक्त करते हुए राज्य सरकार से उन्हें न्याय दिलाने की अपील की है। 

तूतूकुड़ी की सांसद कनिमोझी ने राज्य के डीजीपी को पत्र लिखकर पुलिस अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की है। 

तमिलनाडु के विपक्षी दलों ने इस मामले में राज्य की पलानिस्वामी सरकार को घेरा है और जवाब देने को कहा है। राज्य कांग्रेस के अध्यक्ष के.एस.अलागिरी ने घटना की निंदा की है। एमडीएमके के महासचिव वाइको और टीएमसी (एम) के अध्यक्ष जी.के.वासन ने दोषी पुलिस अधिकारियों के ख़िलाफ़ जल्द कार्रवाई करने के लिए कहा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें