loader

#ArrestLucknowGirl हुआ ट्रेंड, हाथ उठाने का हक़ किसने दिया?

ट्विटर पर #ArrestLucknowGirl ट्रेंड हुआ तो लोगों ने इस बारे में जानना चाहा कि आख़िर क्या माजरा है। इस हैशटैग पर आ रहे ट्वीट्स को देखा तो एक वीडियो सामने आया जिसमें एक लड़की एक कैब ड्राइवर को बुरी तरह पीट रही है। 

वीडियो लखनऊ के अवैध चौराहे का है। इस घटना का जो पुराना वीडियो था, उससे ऐसा लगा कि हो सकता है कि कैब ड्राइवर की कोई ग़लती हो। लेकिन जो नया वीडियो सामने आया है, उसमें दिख रहा है कि कैब ड्राइवर की कोई ग़लती नहीं है। 

Arrest Lucknow Girl on twitter cab driver beaten  - Satya Hindi
पिटाई करने वाली यह लड़की गाड़ियों के ग्रीन सिग्नल के बीच ही रोड क्रास कर रही है जबकि नियम के मुताबिक़, जब रेड सिग्नल होगा तो गाड़ियां रुकेंगी और तभी पैदल जा रहे लोग रोड क्रास करेंगे। 
ताज़ा ख़बरें

एक बात और है, जैसे ही ग्रीन सिग्नल ख़त्म होता है, वाहन वाले तेज़ी से रोड क्रास करते हैं जिससे उन्हें सिग्नल पर न रुकना पड़े। इस मामले में भी यही हुआ। 

लड़की जब रोड क्रास कर रही थी, तभी सिग्नल ग्रीन से रेड हो गया लेकिन कैब ड्राइवर ने लड़की को रोड क्रास करता देख गाड़ी रोक दी। वीडियो से साफ पता चल रहा है कि लड़की को कहीं चोट नहीं आई है लेकिन लड़की ने कैब ड्राइवर को कार से बाहर निकालकर पीटना शुरू कर दिया। 

उसने ड्राइवर को कई चांटे मारे। ड्राइवर का नाम सआदत अली बताया गया है। सआदत कहता रहा कि वह लड़की है, इसलिए हाथ नहीं उठा रहा है लेकिन बावजूद इसके लड़की उसे मारती रही। 

बदसलूकी की हदें पार 

लड़की ने बदसलूकी की हदें पार करते हुए जो भी बीच में आया, उससे भी बदसलूकी की। इस दौरान सआदत कहता है कि उसके मालिक का 25 हज़ार का मोबाइल था, उसे लड़की ने तोड़ दिया। सआदत ने कहा कि वह ग़रीब आदमी है, उसकी कोई ग़लती नहीं है। वहां खड़े लोग भी कहते हैं कि सआदत की कोई ग़लती नहीं है और वह बेवजह कैब ड्राइवर को मारे जा रही है। इस दौरान वहां खड़े ट्रैफ़िक पुलिस के सिपाही भी लड़की के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं करते। 

ट्विटर पर बहुत सारे यूजर्स ने कहा है कि इस लड़की को तुरंत गिरफ़्तार किया जाना चाहिए। कुछ यूजर्स ने कहा कि क्योंकि वह एक आदमी है तो किसी लड़की के लिए उसे पीटना इतना आसान है। 

अमित लखानी नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा कि यह नया भारत है और यह फ़ेमिनिज्म की तीसरी लहर है। कोई औरत आपको गाली दे सकती है, धमका सकती है, हमला कर सकती है। उन्होंने उत्तर प्रदेश पुलिस से लड़की को तुरंत गिरफ़्तार करने की मांग की है। 

भारत जैसे करोड़ों की आबादी वाले देश में किसी भी शहर में सड़क पर लगभग हर दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं। लेकिन कोई भी किसी को सड़क पर पीट देगा, यह क़ानून की कौन सी किताब में लिखा है। 

कब होगी लड़की पर कार्रवाई?

लड़की को किसने यह हक़ दिया कि वह कैब ड्राइवर पर हाथ उठाए। और वह भी तब जबकि वीडियो से साफ हो गया है कि कैब ड्राइवर की कहीं कोई ग़लती नहीं है। अब देखना होगा कि ख़ुद को न्याय पसंद बताने वाली पुलिस लड़की के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई कब करती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें