loader

बाबरी केस: सभी 32 अभियुक्त बरी, कोर्ट ने कहा- अराजक तत्वों ने मसजिद को गिरा दिया

बाबरी मसजिद विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 28 साल बाद फ़ैसला सुना दिया है। अदालत ने सभी अभियुक्तों को बरी कर दिया है। लखनऊ की विशेष अदालत ने कहा है कि घटना पूर्व नियोजित नहीं, स्वत:स्फूर्त थी। अदालत ने कहा कि अभियोजन पक्ष आरोप साबित करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य नहीं दे पाया। बचाव पक्ष की यह दलील मानी गई कि यह लोग भीड़ को रोकने की कोशिश कर रहे थे। सीबीआई की विशेष अदालत के जज एसके यादव यह फ़ैसला सुनाया। 

इस मामले में 32 लोग अभियुक्त हैं। इनमें बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, साक्षी महाराज, बृज भूषण शरण सिंह और उमा भारती भी शामिल हैं। 32 अभियुक्तों में से विनय कटियार, राम विलास वेदांती, चंपत राय, जय भगवान, धर्मदास, पवन पांडे, ओम प्रकाश पांडे, विजय बहादुर सिंह, धर्मेंद्र देव, विनय कुमार राय, रामजी गुप्ता, गांधी यादव, नवीन भाई शुक्ल कोर्ट रूम में मौजूद रहे। 

जबकि लाल कृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी, नृत्य गोपाल दास औऱ सतीश प्रधान वर्चुअल तरीके से अदालत की कार्यवाही में शामिल हुए। 

अदालत ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद या संघ परिवार का ढांचा गिराने में कोई योगदान नहीं था और कुछ अराजक तत्वों ने मसजिद को गिरा दिया। अदालत ने कहा कि ये लोग साजिश में शामिल नहीं थे और उग्र भीड़ को रोकने की कोशिश कर रहे थे।
सीबीआई की विशेष अदालत के जज यादव ने कहा, ‘बारह बजे तक सब सामान्य था। फिर अचानक पीछे की तरफ से मसजिद पर हमला हुआ, जो ढांचा गिरा, वो कुछ अराजक तत्वों, शरारती तत्वों के द्वारा गिराया गया।’ अदालत ने यह भी कहा कि फोटो से कोई आरोपी नहीं हो जाता। 
babri masjid demolition verdict all accused acquitted - Satya Hindi

6 दिसंबर 1992 को गिराए गए विवादित ढांचे को लेकर लखनऊ स्थित सीबीआई की विशेष अदालत का फ़ैसला पहले 31 अगस्त को ही आने वाला था। लेकिन किन्हीं कारणों से इस पर फ़ैसला नहीं आ सका। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसला देने के लिए तारीख़ 30 सितंबर तक बढ़ा दी थी। 

बता दें कि विशेष सीबीआई अदालत ने सभी पक्षों की दलीलें, गवाही, जिरह सुनने के बाद 1 सितंबर को मामले की सुनवाई पूरी कर ली थी। सीबीआई ने अभियुक्तों के ख़िलाफ़ 351 गवाह और लगभग 600 दस्तावेज़ प्रस्तुत किए थे। 

ताज़ा ख़बरें

इस विषय पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष की प्रो. पुरूषोत्तम अग्रवाल से बातचीत।

फ़ैसले को लेकर अयोध्या में भारी सुरक्षा के इंतज़ाम किए गए हैं। सीआईडी और एलआईयू की टीमें सादी वर्दी में तैनात हैं। लखनऊ में सीबीआई की विशेष अदालत के बाहर क़रीब 2 हज़ार पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। इसके अलावा प्रदेश के 25 संवेदनशील ज़िलों में सुरक्षा व्‍यवस्‍था पुख्ता कर दी गई है।

'बाबरी मसजिद थी और रहेगी'

वर्षों तक चले राम मंदिर-बाबरी मसजिद विवाद मामले में भले ही सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आने के बाद भूमि पूजन भी हो गया हो लेकिन ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने कुछ दिन पहले कहा था कि वह इस विवाद में अदालत के फ़ैसले से इत्तेफ़ाक नहीं रखता। बोर्ड ने कहा था कि बाबरी मसजिद थी और हमेशा रहेगी। बोर्ड ने बेहद कड़े अंदाज़ में कहा था कि नाइंसाफी, बलपूर्वक, शर्मनाक और बहुसंख्यकों के तुष्टिकरण के आधार पर ज़मीन के पुनर्निर्धारणका फ़ैसला इस तथ्य को नहीं बदल सकता है। 

अयोध्या मसजिद ढाँचे को कार सेवकों द्वारा 6 दिसंबर 1992 को यह दावा करते हुए गिरा दिया गया था कि वह मसजिद प्राचीन राम मंदिर के स्थल पर बनाई गई थी। ढाँचे ढहाए जाने के बाद इस मामले में अयोध्या में दो केस दर्ज किए गए।

एक केस ढाँचे को ढहाने की साज़िश को लेकर था और दूसरा भीड़ को उकसाने को लेकर। इसके अलावा जो भी केस दर्ज कराए गए थे उन सभी को साज़िश के लिए दर्ज कराए गए इस में ही शामिल कर लिया गया था। 

इन दोनों एफ़आईआर के मामले भी दो अलग-अलग अदालतों में चले। साज़िश मामले की सुनवाई लखनऊ अदालत में चली जबकि भीड़ को उकसाने के मामले की सुनवाई राय बरेली में। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

सीबीआई ने 1993 में 49 लोगों के ख़िलाफ़ चार्जशीट पेश की थी जिनमें से 17 अभियुक्तों की ट्रायल के दौरान मौत हो चुकी है। राय बरेली के मामले में आरोप 2005 में तय किए गए जबकि लखनऊ के मामले में आरोप 2010 में तय किए गए। 

सुप्रीम कोर्ट ने 2017 में यह आदेश दिया कि दोनों मामलों को एक साथ जोड़ दिया जाए और हर रोज़ सुनवाई की जाए। तब कोर्ट ने यह भी फ़ैसला सुनाया था कि उन 13 लोगों के ख़िलाफ़ फिर से सुनवाई की जाए जिन्हें हाई कोर्ट ने पहले बरी कर दिया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें