loader

'यूपी में का बा...' के बाद रागिनी नायक का वीडियो- महंगाई की मार बा

'यूपी में सब बा...' तो फिर सवाल क्यों उठा 'यूपी में का बा...'? और जब सवाल उठा तो सफ़ाई क्यों देनी पड़ी कि 'यूपी में ई बा...'।  

यदि आप 'यूपी में सब बा', 'का बा' और 'ई बा' से  कन्फ्यूज हो रहे हैं तो आपको बता दें कि यह मामला यूपी चुनाव से जुड़ा है। विधानसभा के चुनाव होने हैं तो बीजेपी धुँआधार चुनाव प्रचार में जुटी है। इसी के तहत इसने एक वीडियो जारी किया। उस वीडियो में बीजेपी सांसद रवि किशन दिखते हैं। उस वीडियो का टाइटल था 'यूपी में सब बा'। लेकिन इसमें नया मोड़ तब आया जब लोक गायिका नेहा सिंह राठौड़ ने 'यूपी में का बा' के टाइटल से एक वीडियो जारी किया। यह वीडियो वायरल हो गया। इसमें यूपी में मौजूदा हालात और पिछले कुछ वर्षों के दौरान बने हालात का हवाला दिया गया है।

ताज़ा ख़बरें

नेहा के वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी को यह इतना चुभा कि उसने इस पर एक और वीडियो जारी किया। फिर नेहा सिंह राठौड़ के वीडियो की काट के लिए कुछ लोगों ने कई और वीडियो भी सोशल मीडिया पर डाले।

बीजेपी की तरफ़ से प्रतिक्रिया में क्या-क्या किया गया, यह जानने से पहले नेहा सिंह राठौड़ के उस वीडियो को बारे में जान लें। उन्होंने 'यूपी में का बा' वीडियो में योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा गया। उसमें बेरोजगारी, हाथरस दुष्कर्म-हत्या, कोरोना के हालात, गंगा में तैरती लाशों, मंत्री के बेटे की गाड़ी से किसानों के रौंदे जाने, मंदिर-मस्जिद के नाम पर वोट मांगे जाने और 'चौकीदार' का ज़िक्र कर निशाना साधा गया है।

नेहा के इस वीडियो के आख़िर में एक लाइन कही गई- 'जिंदगी झंड बा, फिर भी घमंड बा!' इस लाइन को भोजपुरी में अभिनय से शुरुआत करने वाले और मौजूदा बीजेपी सांसद रवि किशन से जोड़ कर देखा जाता है। उनका यह डायलॉग काफ़ी चर्चित रहा है।

यह वही रवि किशन हैं जो यूपी में बीजेपी चुनाव प्रचार के लिए तैयार किए गए एक वीडियो में दिखते हैं। वह उस वीडियो में गाना गाते हुए यूपी में बीजेपी सरकार के काम का गुणगान करते हैं। 5 मिनट से ज़्यादा लंबे उस वीडियो के आख़िर में वह कहते हैं- 'जिंदगी झंड बा... कवने बात के घमंड बा'! बीजेपी इस वीडियो को जोर शोर से प्रचारित कर रही थी। बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने भी इसे ट्वीट किया। 

हालाँकि बीजेपी के इस वीडियो का प्रसार उतना नहीं हुआ था। लेकिन नेहा सिंह राठौड़ का वीडियो आया तो वह वायरल हो गया। इससे संभावित नुक़सान को लेकर बीजेपी ने फिर से एक नया वीडियो जारी किया। इसका शीर्षक दिया गया- 'यूपी में ई बा'। 

इस बीच कांग्रेस की नेता रागिनी नायक ने भी एक वीडियो पोस्ट किया है। उन्होंने इस वीडियो में खुद ही आवाज़ दी है और योगी सरकार से सवाल पूछे हैं। 

समाजवादी पार्टी की तरफ़ से अभी तक ऐसा कोई वीडियो तो नहीं आया है, लेकिन इसने नेहा सिंह राठौड़ का वीडियो शेयर कर बीजेपी पर निशाना साधा है।

बहरहाल, नेहा सिंह राठौड़ को उनके गाने के लिए बीजेपी के समर्थकों ने निशाना बनाया। हालाँकि, इसके बाद भी वह रुकी नहीं, उन्होंने एक और वीडियो- 'यूपी में का बा पार्ट-2' जारी किया है। 

सोशल मीडिया पर ट्रोल करने वालों के जवाब में नेहा ने लिखा, 'सवाल उसी से पूछा जाएगा जो कुर्सी पर बैठा है। आलोचना उसी की होगी जो सत्ता में है। आप अगर सवाल नहीं पूछेंगे तो हमारे नेताओं और सत्ताधीशों पर आपका कोई नियंत्रण नहीं रह जायेगा। हम सभी भेड़-बकरियों की तरह हांक दिए जाएंगे।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें