loader

मायावती की सोशल इंजीनियरिंग, कहा, बीएसपी राज में ब्राह्मणों की स्थिति बेहतर

बहुजन समाज पार्टी की नेता मायावती ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लिए मानो चुनाव प्रचार की शुरुआत कर दी।

उन्होंने लखनऊ में आयोजित प्रबुद्ध कार्यक्रम में मुसलमानों की सुरक्षा का मुद्दा उठाया और बीजेपी के साथ ही समाजवादी पार्टी और कांग्रेस को भी निशाने पर लिया। 

लेकिन उन्होंने इसके साथ ही ब्राह्मणों को भी लुभाने की कोशिश की और कहा कि उनके राज में सबका विकास होगा। 

मायावती ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह यानी प्रमुख को निशाने पर लेते हुए सवाल किया, "आरएसएस प्रमुख ने कहा है कि हिंदू और मुसलमानों के पूर्वज एक ही हैं। हिंदुओं और मुसलमानों के पूर्वज एक ही हैं तो बीजेपी मुसलमानों के साथ सौतेला रवैया क्यों अपनाती है?"

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने सपा और कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा, 

मुसलमानों को तबाह और बर्बाद करने के मामले में सपा और कांग्रेस भी कम नहीं रही हैं। पश्चिमी यूपी में मेरठ का मलियाना और मुज़फ़्फ़रनगर कांड मुसलमानों को नहीं भूलना चाहिए।


मायावती, नेता, बहुजन समाज पार्टी

ब्राह्मणों को लुभाने की कोशिश

सोशल इंजीनियरिंग के जिस फ़ॉर्मूले पर बीएसपी इसके पहले प्रदेश की सत्ता में आ चुकी है, मायावती ने उसे एक बार फिर आजमाने का फ़ैसला किया है। यह इससे समझा जा सकता है कि प्रबुद्ध सम्मेलन दरअसल ब्राह्मणों का सम्मेलन ही था, लेकिन जातिवादी सम्मेलन कराने के चुनाव आयोग के प्रतिबंध की वजह इसका नाम बदल दिया गया। 

BSP eyes Brahmin votes for Uttar Pradesh Assembly Elections 2022 - Satya Hindi
बीएसी के प्रबुद्ध सम्मेलन में सतीश मिश्रा

मायावती ने इसके पहले ब्राह्मणों को केंद्र में रख कर कई कार्यक्रम किए और इस जाति के लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश की थी।

मंगलवार के इस सम्मेलन में बीएसपी प्रमुख ने कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में उनकी पार्टी जीत कर सरकार बनाएगी तो समाज के सभी वर्गों पर समान ध्यान दिया जाएगा, सबका विकास होगा। 

मायावती ने कहा,

हम सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय की नीति को लागू करेंगे, जैसे हमने 2007 में किया था। हमने सिर्फ दलित ही नहीं, बल्कि सवर्णों का भी ध्यान रखा था। हमारी पार्टी एक जाति की पार्टी नहीं है, यह समाज के हर वर्ग की पार्टी है।


मायावती, नेता, बहुजन समाज पार्टी

सोशल इंजीनियरिंग

उन्होंने कहा, "ब्राह्मणों ने माना है कि बीएसपी के शासनकाल में उनकी स्थिति बीजेपी शासनकाल से बेहतर रही है। जिस तरह हमने 2007 में पूर्ण बहुमत हासिल कर सरकार बनाई थी, इस बार भी करेंगे। इसलिए ज़्यादा से ज़्यादा ब्राह्मणों को बीएसपी से जुड़ना चाहिए।"

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने ज़ोर देकर कहा कि इस बार सत्ता में आने के बाद मूर्तियाँ या स्मारक बनाने पर ज़ोर नहीं दिया जाएगा 'क्योंकि पहले ही थोक के भाव में स्मारक बनाए जा चुके हैं।'

बता दें कि मायावती ने बीएसपी के नेता कांशी राम ही नहीं, अपनी मूर्तियाँ भी लगवाई थीं और खुद ही उसका उद्घाटन भी किया था। 

उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों की संख्या लगभग 11 प्रतिशत है और वे कई विधानसभा सीटों पर निर्णायक स्थिति में हैं। 

 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें