loader

प्रयागराज में दलित परिवार के 4 लोगों की हत्या, नाबालिग के साथ बलात्कार

प्रयागराज में हुए एक जघन्य हत्याकांड में एक ही परिवार के 4 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया जबकि परिवार की नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार किए जाने की भी बात सामने आई है। सभी लोगों के शव गुरूवार सुबह घर पर ही मिले। 

यह परिवार दलित समुदाय से संबंध रखता है। मरने वालों में नाबालिग लड़की के साथ ही 10 साल का लड़का भी है। लड़की का शव घर के अंदर मिला जबकि बाक़ी लोगों के शव आंगन में मिले। 

मृतकों के परिजनों ने एक पड़ोसी परिवार पर घटना को अंजाम देने का आरोप लगाया है और यह परिवार सवर्ण समुदाय से ताल्लुक रखता है। 

पुलिस ने मामले में हत्या और दुष्कर्म की धाराओं में मुक़दमा दर्ज कर लिया है। इसमें 11 लोगों को नामजद किया गया है। कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया गया है।

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पीड़ित परिवारों से मिली हैं। पुलिस ने कहा है कि मारे गए लोगों के शरीर पर धारदार हथियार के निशान हैं। 

पुलिस बना रही थी दबाव 

परिवार से जुड़े एक सदस्य ने मीडिया को बताया कि इन लोगों का सवर्ण समुदाय के एक शख़्स के साथ जमीन को लेकर विवाद चल रहा था और सितंबर में इन लोगों पर हमला भी हुआ था लेकिन पुलिस इस मामले में समझौता कराने के लिए दबाव बना रही थी। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

उन्होंने कहा कि पुलिस के लोग हमला करने वाले अभियुक्तों के घर आते-जाते थे और स्थानीय इंस्पेक्टर ने भी हमसे समझौता करने के लिए कहा था। 

उन्होंने बताया कि 21 सितंबर को पीड़ित परिवार को पीटा गया था लेकिन इस मामले में एक हफ़्ते बाद एफ़आईआर दर्ज की गई थी। इसके बाद उल्टा पीड़ित परिवार के ख़िलाफ़ ही एफ़आईआर दर्ज कर दी गई थी। 

प्रयागराज पुलिस के प्रमुख सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने कहा है कि ऐसा लगता है कि मृतकों के सिरों पर कुल्हाड़ी से वार किया गया है। शुरुआती जांच में पता चला है कि मृतक परिवार की ओर से 2019 और 2021 में कुछ लोगों के ख़िलाफ़ ज़मीन के एक विवाद को लेकर एससी-एसटी एक्ट में मुक़दमा दर्ज कराया गया था। उन्होंने कहा है कि मामले में कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें