loader

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का एक और सहयोगी मुठभेड़ में गिरफ़्तार

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का एक और सहयोगी श्यामू बाजपेयी मुठभेड़ के बाद कानपुर में गिरफ़्तार कर लिया गया। इससे पहले उसका एक सहयोगी अमर दुबे लखनऊ से क़रीब 150 किलोमीटर दूर हमीरपुर ज़िले में पुलिस मुठभेड़ में बुधवार तड़के ही मारा गया है। इधर विकास दुबे भी मंगलवार को फरीदाबाद के एक होटल में दिखा था, लेकिन पुलिस के पहुँचने से पहले ही वह भाग गया। पिछले कुछ घंटों में एक के बाद एक आ रही ऐसी ख़बरों से लगता है कि पुलिस धीरे-धीरे विकास दुबे के गुर्गों तक तो पहुँच रही है, लेकिन विकास दुबे अभी भी पकड़ से दूर है। अब तक कई रिपोर्टें रही हैं कि विकास दुबे के कई नेताओं से अच्छे संबंध रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें

जिस तरह से विकास दुबे के गैंग ने पुलिसकर्मियों की बर्बरता से हत्या की है उससे सरकार और पुलिस पर भी कार्रवाई का दबाव काफ़ी ज़्यादा है। इसी बीच की जा रही कार्रवाई में पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान विकास दुबे के सहयोगी श्यामू बाजपेयी को कानपुर से गिरफ़्तार किया है। श्यामू पर 25 हज़ार रुपये का इनाम घोषित था। 

क़रीब एक हफ़्ते पहले घात लगाकर किए गए हमले में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद से ही विकास दुबे और उसके गैंग के सहयोगी फरार हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फ़ोर्स यानी एसटीएफ़ उनको तलाशने में जगह-जगह दबिश दे रही है। इसी बीच पुलिस को श्यामू बाजपेयी के कानपुर में होने के बारे में जानकारी मिली और इसने कार्रवाई की। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

इससे पहले ख़बर आई कि विकास दुबे का क़रीबी सहयोगी अमर दुबे पुलिस मुठभेड़ में मारा गया। इस पर भी 25,000 रुपये का इनाम था। 'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (क़ानून और व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा, 'सहयोगी अमर दुबे कानपुर घटना में सह-अभियुक्त था और बुधवार सुबह मारा गया।' उन्होंने आगे कहा कि हमीरपुर में स्थानीय पुलिस इकाई के समन्वय से एसटीएफ़ ने यह कार्रवाई की।

बता दें कि कानपुर देहात के बिकरू गाँव में गुरुवार देर रात को हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने हमला कर दिया था। इसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए। शहीद होने वालों में डिप्टी एसपी और बिल्होर के सर्किल अफ़सर देवेंद्र मिश्रा, स्टेशन अफ़सर शिवराजपुर महेश यादव भी शामिल थे। दो सब इंस्पेक्टर और चार सिपाही भी शहीद हुए हैं। इसके अलावा सात पुलिस कर्मी घायल हुए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें