loader

कमलेश तिवारी मर्डर: होटल से बैग और भगवा कपड़े बरामद

हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में पुलिस को एक बड़ा सबूत हाथ लगा है। तिवारी के घर के पास ही स्थित एक होटल से पुलिस को कुछ कपड़े और एक बैग मिला है। पुलिस का कहना है कि तिवारी की हत्या के बाद हत्यारे इस होटल में आये होंगे और भागने से पहले उन्होंने यहां कपड़े बदले होंगे। पुलिस का कहना है कि ये वैसे ही भगवा कपड़े हैं, जैसे तिवारी के घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों की फ़ुटेज में दो लोग पहने दिखाई दे रहे थे। बता दें कि तिवारी की शुक्रवार को उनके लखनऊ स्थित घर में दिन-दहाड़े हत्या कर दी गई थी। 
ताज़ा ख़बरें

पुलिस के सूत्रों के मुताबिक़, तिवारी के घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों में जो संदिग्ध लोग दिखाई दे रहे हैं, वे ट्रेन के द्वारा गुजरात से कानपुर आये थे और इसके बाद किसी और वाहन से लखनऊ आये। सूत्रों के मुताबिक़, इनकी अंतिम लोकेशन राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में मिली है। 

शनिवार को हुई प्रेस कॉन्फ़्रेंस में डीजीपी ओपी सिंह ने कहा था कि यूपी पुलिस ने इस मामले में और सबूत जुटाने के लिए गुजरात और महाराष्ट्र एटीएस से संपर्क साधा था। उन्होंने यह भी कहा था कि सीसीटीवी फ़ुटेज में जो महिला दिखाई दे रही है, उससे भी पूछताछ की जा चुकी है। पुलिस का मानना है कि वह हत्याकांड में शामिल नहीं है। 

लखनऊ पुलिस ने कहा है कि उसे होटल खालसा में ठहरे दो संदिग्धों के बारे में जानकारी मिली है, जिनके नाम शेख़ अशफ़ाक़ हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद बताये गये हैं। इसके अलावा एक भगवे रंग का कपड़ा और तौलिया भी मिला है। होटल के मैनेजर ने कहा है कि टीवी में फ़ुटेज देखने के बाद हमने इन लोगों की आईडी की जाँच की और पुलिस को सूचना दी। 
शनिवार को कमलेश तिवारी की माँ ने शिव कुमार गुप्ता नाम के एक बीजेपी नेता पर उनके बेटे की हत्या करवाने का आरोप लगाया था। तिवारी की माँ ने कहा था कि उनके बेटे की सुरक्षा बढ़ाने की लगातार माँग की जा रही थी लेकिन प्रशासन ने सुरक्षा नहीं बढ़ाई थी।

कमलेश तिवारी के बेटे सत्यम तिवारी ने कहा था कि उन्हें नहीं पता है कि जो लोग पकड़े गए हैं उन्हीं लोगों ने उनके पिता का मर्डर किया है या साज़िश के तहत बेकसूर लोगों को फंसाया जा रहा है। सत्यम ने कहा था कि उनके पिता की हत्या के केस की जाँच एनआईए (एनआईए) को करनी चाहिए क्योंकि उन्हें प्रशासन की जांच पर भरोसा नहीं है।  

मामला सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि तिवारी की हत्या में शामिल अपराधियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। बताया जा रहा है कि पीड़ित परिवार के सदस्यों की आज शाम को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाक़ात हो सकती है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

डीजीपी ओपी सिंह ने शनिवार को कहा था कि गुजरात के सूरत के रहने वाले तीन मुसलमान युवक कमलेश तिवारी के द्वारा 2015 में पैगंबर मोहम्मद साहब को लेकर दिये गये बयान से बेहद आक्रोशित थे। इन तीनों के नाम फ़ैज़ान युनूस भाई, मौलाना मोहसिन शेख और राशिद अहमद खुर्शीद पठान बताये गये हैं।

संबंधित ख़बरें
यूपी के डीजीपी ओपी सिंह के मुताबिक़, राशिद ने कमलेश तिवारी की हत्या की योजना बनाई थी और मौलाना मोहसिन शेख ने उसे हत्या के लिये भड़काया था। डीजीपी ने कहा कि कमलेश तिवारी के घर लाये गये मिठाई के डिब्बे को आधार बनाते हुए यूपी पुलिस ने गुजरात पुलिस से संपर्क साधा और मिठाई का यह डिब्बा सूरत की जिस दुकान से खरीदा गया था, वहां के आसपास की सीसीटीवी फ़ुटेज की छानबीन के बाद एक संदिग्ध व्यक्ति फ़ैज़ान युनूस भाई को हिरासत में ले लिया गया। पुलिस का कहना है कि फ़ैज़ान मिठाई का डिब्बा खरीदने में शामिल रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें