loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

औरैया हादसा: बेटे के शव के लिए 19 हज़ार रुपये ख़र्च कर यूपी पहुँचा मज़दूर पिता

औरैया हादसे में मारे गए प्रवासी मजदूरों में से एक अपने बेटे का शव लेने को औरैया पहुंचने के लिए उसके पिता को 19 हज़ार रुपये ख़र्च करने पड़े। मारे गए शख़्स का नाम नीतीश है और उसके पिता का नाम सुदामा यादव है। 43 साल के सुदामा यादव झारखंड के पलामू में खेत-मजदूर हैं। 

अंग्रेजी अख़बार ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, सुदामा ने कहा कि उन्हें यह रकम औरैया तक उन्हें और उनके दामाद को पहुंचाने वाले कार ड्राइवर को चुकानी पड़ी। 

औरैया हादसे में सुदामा को अपने सबसे बड़े बेटे 21 साल के नीतीश को खोना पड़ा है। इस हादसे में राजस्थान से घर लौट रहे प्रवासी मजदूरों के ट्रक की औरैया में शनिवार सुबह दूसरे ट्रक से टक्कर हो गई थी। इसमें 24 मजदूरों की मौत हो गयी और 36 गंभीर रूप से घायल हो गए थे। 

ताज़ा ख़बरें

सुदामा ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा, ‘नीतीश जयपुर में एक मार्बल फ़ैक्ट्री में काम करता था। मेरी उससे अंतिम बार शुक्रवार रात को लगभग 8 बजे बात हुई थी। उसने कहा था कि वह गया (बिहार) के लिए एक ट्रक में चढ़ चुका है और अगले दिन पहुंच जाएगा। लेकिन शनिवार सुबह मुझे टीवी से इस हादसे के बारे में पता चला।’ 

सुदामा ने कहा, ‘मैंने नीतीश को फ़ोन किया लेकिन उसका फ़ोन स्विच ऑफ़ था। फिर मैंने नीतीश के साथ काम करने वाले दूसरे व्यक्ति को फ़ोन किया तो उसने मुझे बताया कि नीतीश की मौत हो गई है।’ 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

औरैया के जिला प्रशासन की ओर से यह भरोसा दिए जाने के बाद कि नीतीश के शव को भेजने की व्यवस्था की जाएगी, सुदामा ने उन्हें लाने वाले ड्राइवर को वापस भेज दिया। सुदामा ने कहा कि नीतीश ने कक्षा 8 के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी क्योंकि वह घर की आर्थिक मदद करना चाहता था। 

सुदामा ने अख़बार से कहा, ‘नीतीश को लॉकडाउन के बाद दो महीने से तनख़्वाह नहीं मिली थी। मैंने 13 मई को नीतीश को 3 हज़ार रुपये भेजे थे जिससे वह घर लौट सके।’ नीतीश तीन भाई-बहनों में सबसे बड़ा था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें