loader

बीजेपी को फायदा पहुँचाने से पहले जान दे दूँगी: प्रियंका

उत्तर प्रदेश में महागठबंधन से बाहर रही कांग्रेस ने ख़ुद पर बीजेपी को फ़ायदा पहुँचाने के लगे आरोपों का जोरदार जवाब दिया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा ने एक टेलीविजन चैनल से बात करते हुए कहा, ‘बीजेपी को फायदा पहुँचाने से पहले मैं अपनी जान दे दूँगी’। 

ताज़ा ख़बरें

ग़ौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और महागठबंधन के नेताओं के बीच जुबानी जंग तेज़ हो गई है। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा था कि कांग्रेस के लोग कह रहे हैं कि चाहे बीजेपी के उम्मीदवार जीत जाएँ, लेकिन गठबंधन के उम्मीदवार चुनाव नहीं जीतने चाहिए। मायावती ने कहा था कि कांग्रेस ने बीजेपी को फ़ायदा पहुँचाने के लिए अपने उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं और जनता कांग्रेस के प्रत्याशियों के साथ नहीं है।

इसके बाद एसपी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने आरोप लगाया था कि बीजेपी ने ईडी, सीबीआई और अन्य एजेंसियों का विपक्ष के नेताओं के ख़िलाफ़ ग़लत इस्तेमाल करना कांग्रेस से ही सीखा है। इसका जवाब देते हुए प्रियंका गाँधी ने कहा कि हमने ऐसे उम्मीदवार खड़े किए हैं जो या तो बेहद मजबूती से लड़ेंगे या फिर बीजेपी के वोट काटेंगे। प्रियंका ने कहा कि वह 2019 और 2022, दोनों के चुनाव के लिए तैयारी कर रही हैं। प्रियंका ने कहा कि बीजेपी की विचारधारा देश को तोड़ने वाली है। 

दूसरी ओर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने बुधवार को बाराबंकी में एक चुनावी जनसभा में बीजेपी के साथ गठबंधन पर भी जमकर निशाना साधा था। राहुल ने कहा था, अखिलेश और मायावती का कंट्रोल मोदी जी के पास है। मेरी कोई हिस्ट्री नही है, इसलिए मैं मोदी से नही डरता, वे मुझसे डरते हैं।

राहुल ने एसपी-बीएसपी को 'डरपोक' बताते हुए कहा था कि वे सभी मोदीजी से डरते हैं और उनके ख़िलाफ़ कुछ नहीं बोलते। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के महागठबंधन में शामिल होने को लेकर लंबे समय तक अटकलें थीं लेकिन सीटों के बँटवारे को लेकर  बात नहीं बन सकी थी। इसके बाद एसपी, बीएसपी और आरएलडी ने गठबंधन बनाया था। और कांग्रेस ने अकेले लड़ने का फ़ैसला किया था। फिर भी एसपी और कांग्रेस ने कुछ सीटों पर एक-दूसरे के ख़िलाफ़ उम्मीदवार नहीं खड़े किए हैं। 
सम्बंधित खबरें

राजनीतिक जानकारों के मुताबिक़, प्रियंका के उत्तर प्रदेश के लगातार दौरों ने बीजेपी और महागठबंधन की चिंता बढ़ा दी है। कांग्रेस जिस तरह प्रियंका की आवाज़ में कार्यकर्ताओं और मतदाताओं को मैसेज भेज रही है और उनके लगातार दौरे उत्तर प्रदेश में आयोजित कर रही है, उससे ऐसा लग रहा है कि अमेठी और रायबरेली के अलावा कांग्रेस कुछ अन्य सीटों पर बीजेपी और महागठबंधन को चुनौती दे सकती है। प्रियंका के इस अंदाज ने लोकसभा चुनाव में चल रही सत्ता की जंग को और दिलचस्प बना दिया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें