loader
उत्तर प्रदेश के अपने दौरे पर समर्थकों से मिलतीं प्रियंका गाँधी। (फ़ाइल फ़ोटो)

बीजेपी की तरह संगठन खड़ा कर योगी को चुनौती देंगी प्रियंका?

लोकसभा चुनावों में ख़राब प्रदर्शन के बाद सदमे में आए सपा प्रमुख अखिलेश जहाँ अब तक नहीं उबरे हैं वहीं गठबंधन तोड़ कर बसपा सुप्रीमो मायावती ट्वीट और घर पर बैठकें कर बीजेपी से मुक़ाबले की ज़मीन तैयार कर रही हैं। इन सबसे इतर प्रियंका गाँधी ने हार से उबरते हुए एक बार फिर से विधानसभा चुनावों के लिए तैयारी शुरू कर दी है। प्रियंका की तैयारियों से लगता है कि उनकी योजना बीजेपी की तरह संगठन खड़ा करने की है। लोकसभा चुनावों के दौरान पस्त हाल संगठन और स्वंयभू नेताओं का हाल देख सबसे पहले प्रियंका का ज़ोर एक बार फिर से कांग्रेस संगठन में आमूल-चूल परिवर्तन कर उसे दुरुस्त करने पर है। अलग-अलग क्षेत्रों में जिताउ प्रत्याशियों की तलाश, नौजवानों, महिलाओं, दलितों और पिछड़ों को जोड़ना उनकी प्राथमिकता में है। टीम प्रियंका के सदस्य जहाँ प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में पहले से रवाना कर दिए गए हैं वहीं कांग्रेस विधान मंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू जैसे ज़मीन से जुड़े नेता को पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाकर सांगठनिक फेरबदल की कवायद शुरू हो गयी है। 

कांग्रेस हाईकमान की रणनीति पर नज़र रखने वालों का मानना है कि यूपी में संगठन के स्तर पर बहुत कुछ नया दिखेगा। ज़िलों, शहरों में कांग्रेस संगठन को बड़े महारथियों की जेब से बाहर निकालकर वहाँ ज़मीनी और जुझारू कार्यकर्ताओं को जगह दी जाएगी।

एक महीने से चल रही है कवायद

प्रियंका गाँधी की योजना के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश में पिछले एक महीने से लगातार बैठकों का दौर जारी है। उनकी अपनी टीम के सदस्य प्रियंका गाँधी के निर्देशन में पिछले एक महीने से हर ज़िले का दौरा कर रहे हैं। इस विशेष टीम में चार सदस्य हैं। इनमें एआईसीसी सचिव व कुछ चुने हुए नेता शामिल किए गए हैं। जिन विधानसभा सीटों पर उप-चुनाव होने हैं वहाँ इस टीम की ख़ास नज़र है। दौरों में ही उस विधानसभा सीट की पूरी जानकारी, कांग्रेस संगठन का हाल, मज़बूत प्रत्याशी से लेकर जातीय गुणा-गणित तक समझा जा रहा है। टीम के सदस्य उप-चुनाव वाले क्षेत्रों की अलग रिपोर्ट तैयार कर उसे प्रियंका गाँधी तक भेज रहे हैं। प्रियंका का ज़ोर उप-चुनाव में पार्टी के निष्ठावान, नौजवान कार्यकर्ताओं को मैदान में उतारने पर है। उत्तर प्रदेश में जिन 12 विधानसभा सीटों पर उप-चुनाव होने हैं वहाँ हाल ही में लोकसभा चुनाव लड़े प्रत्याशियों से भी राय ली जा रही है।

ताज़ा ख़बरें

ख़ुद प्रियंका भी मिल रही हैं यूपी के लोगों से

कांग्रेस महासचिव व पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गाँधी की पिछले एक महीने में एक-एक कर क़रीब 960 लोगों से मुलाक़ात हुई है। यह सिलसिला अभी भी जारी है। इसमें नेता, कार्यकर्ता, किसान, व्यापारी, महिला, छात्र, प्रोफ़ेसर, डॉक्टर शामिल हैं जिनसे कांग्रेस को मज़बूत करने को लेकर राय ली जा रही है।

बीते एक महीने में प्रियंका गांधी पूर्वी उत्तर प्रदेश के हर एक ज़िला अध्यक्ष, हर एक शहर अध्यक्ष, एक एक प्रत्याशी, एक-एक प्रभारी से मिलीं और उनकी बात ध्यान से सुनी। 

हर ज़िले में जाएगी एक टीम

प्रदेश कांग्रेस नेताओं का कहना है कि प्रियंका गाँधी ने अपने एआईसीसी सचिवों और चुनिंदा नेताओं की टीमें ज़िले-ज़िले भेजकर जाँच-पड़ताल की प्रक्रिया शुरू की है। हर टीम को एक ज़िले में न्यूनतम दो दिन रहकर सांगठनिक समीक्षा करनी है। इस दौरान टीम को ज़िले के पुराने और नए कांग्रेसियों से मिलना है। कार्यकर्ता से मिलना है। इसका मक़सद  बड़े नेताओं की गिरफ़्त में फँसी ज़िला कमेटियों को मुक्त कराना और ज़िला कमेटियों को नया करना है। प्रियंका की रणनीति के मुताबिक़ प्रदेश स्तर पर और ज़िला शहर के संगठन में 50 फ़ीसदी से ज़्यादा 40 वर्ष से कम लोगों को लाना है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

महिलाओं, युवाओं, दलितों-पिछड़ों पर फ़ोकस

ऑपरेशन यूपी के तहत प्रियंका की योजना में अधिक से अधिक महिलाओं को ज़िला कमेटी का हिस्सा बनाना और ज़िले का पदाधिकारी बनाना शामिल है। इसके साथ ही दलित और पिछड़े वर्ग के युवा कार्यकर्ताओं और नेताओं को ज़िला नेतृत्व में स्थान सुनिश्चित करना भी है। टीम प्रियंका के एक सदस्य के मुताबिक़ योजना नयी सामाजिक शक्तियों, समाज के नेताओं, किसान नेताओं, युवा आंदोलनकर्मियों को संगठन के नेतृत्व में लाना है। साथ ही कांग्रेस के फ़्रंट के संगठनों को आंदोलन में लगाना और उनका सांगठनिक नव निर्माण करना है।

इस सब कवायद के बाद जुलाई में प्रियंका गाँधी का पूर्वी उत्तर प्रदेश में सघन दौरे का कार्यक्रम है। इन दौरों में हर ज़िले में बैठक आयोजित की जाएगी। योजना के मुताबिक़ हर ज़िले में सांगठनिक समीक्षा बैठक के बाद ओपन हाउस मीटिंग की जाएगी जहाँ कांग्रेस कार्यकर्ताओं, शुभचिंतकों व आमजनों से प्रियंका गाँधी की खुली भेंट होगी। इस ओपन हाउस बैठक में कोई भी जा सकता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें