loader
पत्रकार शुभममणि त्रिपाठी और अभियुक्त दिव्या अवस्थी।

यूपी: बीजेपी, विहिप से जुड़ी है पत्रकार शुभममणि की हत्या की अभियुक्त दिव्या अवस्थी

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के नौजवान पत्रकार शुभममणि त्रिपाठी की हत्या करने वाले भाड़े के हत्यारे तो पकड़ लिए गए हैं लेकिन हत्या की सुपारी देने वाली लेडी डॉन दिव्या अवस्थी अभी पकड़ से बाहर है। दिव्या अवस्थी ने ग्राम समाज की जमीन पर अवैध कब्जे की ख़बर लिखने और उसे सोशल मीडिया पर जमकर शेयर करने को लेकर पत्रकार शुभममणि त्रिपाठी को कई बार धमकाया था और फिर उनकी हत्या करा दी। इस लेडी डॉन पर दस हजार रुपये का ईनाम रख दिया गया है। पुलिस का कहना है कि उसकी तलाश चल रही है। 

दिव्या अवस्थी बीजेपी से जुड़ी है। वह विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की मातृ संयोजिका और राष्ट्रीय ब्राह्मण एकता नाम के संगठन की प्रदेश अध्यक्ष भी है। बताया गया है कि अपने बचने के रास्ते की खोज में वह इन दिनों राजधानी लखनऊ में है।
भाड़े पर शुभममणि की हत्या करने वालों ने पुलिस को बताया है कि उन्हें सुपारी दिव्या अवस्थी ने दी और उसका पति भी इस साज़िश में शामिल है। दिव्या उन्नाव जिला पुलिस के रिकॉर्ड में सूचीबद्ध भूमाफिया है और उन्नाव शुक्लागंज रोड पर कई जमीनों पर कब्जे के मामले में आरोपित है।
ताज़ा ख़बरें

पहले भी करवाया था हमला

शुभममणि त्रिपाठी स्थानीय समाचार पत्र कम्पू मेल में ख़बरें लिखते थे। समाचार पत्र से ज्यादा शुभममणि की सोशल मीडिया पर पहुंच थी। उनके द्वारा सोशल मीडिया पर डाली गयी तमाम ख़बरों पर कार्रवाई भी हो जाती थी। उन्नाव में ग्राम समाज की जमीन पर कब्जे को लेकर शुभममणि ने ख़बर लिखी थी जिसे लेकर लेडी डॉन नाराज हो गई और आगे से इस मामले से दूर रहने को कहा। 

उन्नाव के स्थानीय पत्रकार राम कुमार बताते हैं कि शुभममणि ने मामले का फ़ॉलो अप भी लिखा और उसे सोशल मीडिया पर जमकर प्रचारित भी किया। लेडी डॉन ने एक साल पहले भी शुभममणि पर गोलियां चलवा कर हमला किया था और फिर इसी महीने 19 जून को उनकी हत्या करा दी। 

कुछ लोगों का कहना है कि शुभममणि और लेडी डॉन दोनों सत्ताधारी दल के नेताओं के करीबी थे और इसी के चलते दोनों में समझौता कराने की कोशिशें भी की गयी थीं।

चार लाख में हुई हत्या 

बीते शुक्रवार को दोपहर के वक़्त शुभममणि की उस समय हत्या कर दी गयी थी, जब वह उन्नाव से शुक्लागंज लौट रहे थे। शुभममणि की गंगाघाट कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला पोनी रोड झंडा चौराहे पर मोबाइल की दुकान भी है। बीते कुछ समय से वह शुक्लागंज के कटरी पीपरखेड़ा इलाक़े में सरकारी जमीनों पर हो रहे कब्जों व अवैध निर्माण को लेकर न केवल ख़बर लिख रहे थे बल्कि अधिकारियों से शिकायत भी कर रहे थे। 

उन्नाव शुक्लागंज रोड पर सहजनी के क़रीब उन्हें रोक कर कई गोलियां मार कर मौत की नींद सुला दिया गया। इस मामले में तीन लोग पकड़े गए। पुलिस की गिरफ्त में आए इन लोगों ने कुबूल किया कि उन्होंने लेडी डॉन दिव्या अवस्थी से चार लाख रुपये की सुपारी ली थी। लेडी डॉन से पैसों की डील में उनका पति भी शामिल था। लेडी डॉन ने हत्या हो जाने के कुछ घंटों में ही पैसा दे देने की बात कही थी। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

मिलती रहती थीं धमकियां 

जमीनों पर कब्जे, रेत माफिया के ख़िलाफ़ ख़बरें लिखने पर शुभममणि को कई बार धमकियां मिलती थीं। करीब डेढ़ साल से तो लेडी डॉन दिव्या उन्हें आए दिन धमकाती रहती थी। इसी साल फरवरी में शुभममणि की शादी के ठीक एक दिन पहले भी उन्हें जान से मारने की धमकी दी गयी थी। शुभममणि ने इस मामले में पुलिस से शिकायत भी की थी। 

शुभममणि ने अपनी हत्या से ठीक पहले फेसबुक पर लिखा था कि भूमाफिया ने उन पर किसी के द्वारा फर्जी मुकदमा दर्ज करा दिया है। जिस दिन शुभममणि की हत्या हुई, उसी दिन उनके भाई ने एक वीडियो कई लोगों को वॉट्सऐप पर शेयर किया। इस वीडियो में उन्होंने कहा कि पुलिस की शह पर उनके भाई की हत्या हुई है और वो लगातार पुलिस से अपने भाई के लिए सुरक्षा की मांग कर रहे थे। बीते साल जब शुभम पर गोली चली थी तब भी पुलिस के आला अधिकारियों से शिकायत कर सुरक्षा मांगी गयी थी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें