loader

महिला से बदसलूकी के मामले में सीओ सहित कई पुलिस अफ़सर निलंबित 

उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख पद के चुनावों में एक महिला से जिस तरह की बदसलूकी हुई है, इसे लेकर योगी सरकार और बीजेपी सवालों के घेरे में है क्योंकि महिला से बदसलूकी करने का आरोप बीजेपी के कार्यकर्ताओं पर लगा है। महिला ने शुक्रवार को लखनऊ पहुंचकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाक़ात की। 

इधर, इस मामले में सख़्त कार्रवाई करते हुए शासन के आदेश पर सीओ मोहम्मदी अभय मल्ल, इंस्पेक्टर पसगंवा आदर्श कुमार सिंह, इंस्पेक्टर हनुमान प्रसाद, चौकी इंचार्ज बरवर महेश गंगवार, चौकी इंचार्ज जेबीगंज दुर्वेश गंगवार और उचौलिया चौकी इंचार्ज उग्रसेन सेन को निलंबित कर दिया गया है। 

ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में दबंगई के साथ ही मारपीट के नजारे भी दिखाई दिए और गोलियां तक चलीं। 

ताज़ा ख़बरें

जिस महिला से बदसलूकी हुई है, वह लखीमपुर खीरी जिले की पसगंवा ब्लॉक से एसपी की ब्लॉक प्रमुख की उम्मीदवार रितु सिंह की प्रस्तावक हैं। रितु सिंह ने शुक्रवार को बताया कि जब यह महिला प्रस्तावक होने से जुड़े कागजात दाख़िल करने जा रही थीं, उस दौरान बीजेपी के नेताओं ने उनसे बदसलूकी की। बदसलूकी के वायरल हुए वीडियो को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी ट्वीट किया है। 

इस वायरल वीडियो में दिख रहा है कि दो लोग इस महिला की साड़ी खींच लेते हैं और उनसे पूछते हैं कि कहां जा रही हो। रितु सिंह ने आरोप लगाया है कि ये लोग बीजेपी के स्थानीय विधायक लोकेंद्र प्रताप सिंह के समर्थक हैं।

एसपी के नेताओं ने आरोप लगाया है कि बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने उस महिला के पास नामांकन से संबंधित जो कागज थे, उन्हें फाड़ दिया। रितु सिंह की शिकायत पर यश वर्मा और एक अज्ञात बीजेपी कार्यकर्ता के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज़ कर लिया गया है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

अखिलेश ने उठाया मामला

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को इस मामले को उठाया है और कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ख़ुद गुंडों को बढ़ावा दे रहे हैं और यूपी की जनता आने वाले चुनाव में इन्हें सबक सिखाएगी। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में केवल एसपी के कार्यकर्ता ही शासन के ज़ुल्म के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ रहे हैं। 

अखिलेश ने कहा कि जिस जिले का डीएम, एसपी ख़ुद चुनाव को हराने के लिए बैठा हो, तो आप क्या करेंगे। उन्होंने कहा कि एसपी ऐसे अफ़सरों की पूरी सूची बना रही है जिन्होंने एसपी कार्यकर्ताओं और जनता को अपमानित किया है।

विधानसभा चुनाव में क्या होगा?

पहले जिला पंचायत और अब ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में जो आलम उत्तर प्रदेश में दिखाई दिया है, उसे देखकर राजनीतिक विश्लेषक यही सवाल पूछ रहे हैं कि विधानसभा चुनाव में क्या होगा। हालांकि विश्लेषक कहते हैं कि पंचायत और ब्लॉक प्रमुख के चुनाव का काम स्थानीय प्रशासन के पास होता है और वह राज्य की सरकार के दबाव में होता है जबकि विधानसभा और लोकसभा चुनाव में प्रशासन के काम पर केंद्रीय निर्वाचन आयोग की पैनी नज़र रहती है। 

लेकिन अभी भी राज्य की राजधानी में तो निर्वाचन आयोग है ही, फिर भी उत्तर प्रदेश में यह सब हुआ। इसका सीधा ख़तरा यही दिखाई देता है कि विधानसभा चुनाव में आम लोग या विपक्षी दलों के कार्यकर्ता सत्ताधारी दल के लोगों की दबंगई, गुंडई को लेकर डरे ज़रूर रहेंगे और निश्चित रूप से यह लोकतंत्र के दामन पर कालिख की तरह होगा और तब निर्वाचन आयोग की भूमिका बेहद अहम हो जाएगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें