loader

राज्यसभा: यूपी में सहयोगी दलों के लिए सीट नहीं छोड़ेगी बीजेपी?

उत्तर प्रदेश के विधानसभा और विधान परिषद चुनाव में जीत हासिल करने के बाद बीजेपी की नजर राज्यसभा के चुनाव में ज्यादा सीटें झटकने पर है। कहा जा रहा है कि बीजेपी राज्यसभा चुनाव में अपने सहयोगी दलों के साथ सीटों का बंटवारा नहीं करेगी।

उत्तर प्रदेश में बीजेपी का अपना दल (सोनेलाल) और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन है। लेकिन जिन नामों की चर्चा बीजेपी की ओर से टिकट के दावेदार के तौर पर है, उनमें सहयोगी दलों के नेताओं के नाम नहीं दिखाई देते।

उत्तर प्रदेश में 11 सीटों के लिए राज्यसभा का चुनाव होना है और इसके लिए 10 जून को मतदान होगा।

ताज़ा ख़बरें

ये हैं दावेदार

खबरों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश बीजेपी ने जिन दावेदारों का नाम पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को भेजा है उनमें सैयद जफर इस्लाम, शिव प्रताप शुक्ला, संजय सेठ, सुरेंद्र नागर, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी, पूर्व सांसद नरेश अग्रवाल, आरपीएन सिंह, जयप्रकाश निषाद, प्रियंका रावत आदि का नाम शामिल है।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश से भी किसी एक जाट नेता को राज्यसभा में भेजा जा सकता है। क्योंकि राष्ट्रीय लोक दल के प्रमुख जयंत चौधरी सपा-लोकदल के गठबंधन के प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान में हैं और उनकी जीत तय मानी जा रही है। ऐसे में जाट मतों को हाथ से ना छिटकने देने के लिए बीजेपी किसी जाट नेता को राज्यसभा में भेज सकती है।

इस बात की भी चर्चा है कि बीजेपी राज्य सरकार के किसी बड़े मंत्री को राज्यसभा में भेज सकती है।

7 सीटें जीतना तय 

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के पास 255 विधायक हैं जबकि सहयोगी दलों के विधायकों को मिलाकर यह आंकड़ा 273 बैठता है। राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए 37 विधायक चाहिए। 

विधायकों के आंकड़ों के लिहाज से बीजेपी 11 में से 7 सीटें जीत सकती है जबकि समाजवादी पार्टी गठबंधन को 3 सीटें मिलेंगी। 11वीं सीट के लिए दोनों दलों के बीच जोरदार मुकाबला होगा। कहा जा रहा है कि बीजेपी लखनऊ के किसी बड़े व्यवसायी को इस 11 वीं सीट के लिए मुकाबले में उतार सकती है।

उत्तर प्रदेश से और खबरें

11वीं सीट के लिए होने वाले मुकाबले में कांग्रेस के दो विधायकों, बसपा के एक विधायक, जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के 2 विधायकों का भी रोल बेहद अहम हो सकता है।

अगर बीजेपी सहयोगी दलों के लिए सीट नहीं छोड़ती है तो वे नाराजगी जता सकते हैं। हालांकि इससे बीजेपी की सरकार पर कोई असर नहीं पड़ेगा क्योंकि उत्तर प्रदेश में सरकार चलाने के लिए जरूरी 202 के विधायकों के आंकड़े से कहीं ज्यादा विधायक उसके पास हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें