loader

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से वरूण, मेनका बाहर; बोलने की सजा मिली?

लखीमपुर खीरी में 4 किसानों सहित 8 लोगों की मौत के मामले में पीड़ित परिवारों को इंसाफ़ देने की मांग करना शायद बीजेपी सांसद वरूण गांधी को भारी पड़ गया है। गुरूवार को घोषित की गई बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में न तो वरूण गांधी को जगह मिली है और न ही उनकी मां और पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को। बीजेपी के इस क़दम का और क्या मतलब समझा जाना चाहिए। 

वरूण गांधी उत्तर प्रदेश की पीलीभीत सीट से जबकि मेनका गांधी सुल्तानपुर सीट से सांसद हैं।

वरूण गांधी लखीमपुर की घटना में मारे गए किसानों के हक़ में आवाज़ उठा रहे हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर इस मामले में सख़्त से सख़्त कार्रवाई करने की मांग की थी। 

ताज़ा ख़बरें

ऐसे वीडियो जिनमें ये साफ दिख रहा है कि किसानों को मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे की गाड़ी ने रौंद दिया, उन वीडियो को भी वरूण गांधी ने ट्वीट किया है। 

वरूण ने कहा है कि प्रदर्शनकारियों को हत्या करके चुप नहीं कराया जा सकता है और पीड़ित परिवारों को इंसाफ़ मिलना चाहिए। वरूण ने कुछ दिन पहले गोडसे जिंदाबाद के नारे लगाने वालों को भी लताड़ा था। उन्होंने कहा था कि ऐसे लोग इस देश को शर्मिंदा कर रहे हैं। 

Varun and menaka Gandhi out from BJP National Executive - Satya Hindi

बोलने पर होगी कार्रवाई?

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नज़दीक हैं और ऐसे वक़्त में लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर योगी सरकार जबरदस्त दबाव में है। लेकिन इस चुनावी राज्य से अपने दो सांसदों को राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर कर पार्टी ने क्या संदेश दिया है। क्या संदेश यह है कि जो भी नेता पार्टी को असहज करने वाले बयान देगा, उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई होगी। 

लेकिन बीजेपी ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का महिमांडन करने वाले अपने सांसदों या नेताओं पर दिखावे के अलावा कोई सख़्त कार्रवाई कभी नहीं की। बाक़ायदा उन्हें पार्टी में बड़े ओहदे दिए।

होगा चुनावी नुक़सान?

लखीमपुर खीरी की घटना बीजेपी को काफी भारी पड़ सकती है। इस घटना की वजह से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बाद किसान आंदोलन यहां से बाहर भी मजबूत होता दिख रहा है क्योंकि कई जगहों पर किसान बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे हैं। 

किसानों और विपक्षी दलों के द्वारा हमला बोलने के कारण लखीमपुर खीरी के अलावा इसके पड़ोसी जिलों- पीलीभीत, शाहजहांपुर, हरदोई, सीतापुर और बहराइच में भी बीजेपी को राजनीतिक नुक़सान हो सकता है।
इसी तरह उत्तराखंड के तराई वाले इलाक़ों में भी इस घटना के बाद किसानों में बीजेपी के ख़िलाफ़ जबरदस्त उबाल है। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

लिखी थी किताब

बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने तीन साल पहले ‘ए रूरल मैनिफ़ेस्टो’ के नाम से किताब लिखी थी। वरुण की यह क़िताब किसानों के संघर्ष और गांवों की परेशानियों के बारे में बताती है। किताब बताती है कि खेती करना बहुत कठिन हो गया है और किसानों की आत्महत्या की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। 

वरुण गांधी का कहना है कि किसानों की ख़राब माली हालत बड़ा मुद्दा है। उनके अनुसार, आज के समय में किसान अपने बच्चों को खेती के काम में नहीं लगाना चाहते और इसके लिए आर्थिक कारण ज़िम्मेदार हैं। वरुण के अनुसार, हमें ख़राब आर्थिक हालात का सामना कर रहे किसानों के लिए बेहतर नीतियां बनाने की ज़रूरत है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें