loader

‘धर्मनिरपेक्षता’ भारतीय परंपरा के लिए बड़ा ख़तरा: योगी

‘धर्मनिरपेक्षता’ योगी आदित्‍यनाथ के लिए क्या मायने रखती है? यह समझने के लिए आपको ज़्यादा कसरत करने की ज़रूरत नहीं है। उन्होंने ख़ुद ही इस पर राय रखी है। हिंदुत्व के फायरब्रांड नेता माने जाने वाले योगी ने कहा है कि धर्मनिरपेक्षता वैश्विक स्‍तर पर भारतीय परंपरा के लिए बड़ा ख़तरा है। उन्होंने इसी संदर्भ में यह भी कहा कि जो लोग भारत के ख़िलाफ़ प्रोपेगेंडा फैला रहे हैं, उन्‍हें सज़ा भुगतनी होगी। उनके इस बयान से सवाल उठता है कि क्या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ धर्मनिरपेक्षता की बात करने वालों को देश के ख़िलाफ़ प्रोपेगेंडा फैलाने वाला मानते हैं?

योगी आदित्यनाथ का यह बयान शनिवार को आया है। वह ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ द रामायण की ‘कर्टेन रेजर' पुस्तक के विमोचन के अवसर पर बोल रहे थे। 

ताज़ा ख़बरें

मुसलिमों को लेकर दिए अपने बयानों और अपनी नीतियों को लेकर अक्सर आलोचनाओं का सामना करते रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हिंदुत्व के प्रखर समर्थक रहे हैं। वह जब शनिवार को रामायण से जुड़ी किताब का विमोचन कर रहे थे तो उन्होंने हिंदू धर्म की तो बात की ही, इसके साथ प्राचीन समय में भारत क्या था और कहाँ-कहाँ तक फैला था, इसका भी ज़िक्र किया। उन्होंने कंबोडिया की अपनी यात्रा का भी ज़िक्र किया और मर्यादा पुरुषोत्तम राम और रामायण की महत्ता का बखान किया है। 

मुख्यमंत्री ने अपने भाषण को ट्वीट भी किया है। उन्होंने कंबोडिया के अंकोरवाट मंदिर परिसर में एक बौद्ध गाइड से बातचीत का वाकया सुनाया। उन्होंने कहा कि उस युवा गाइड ने कहा कि वह हिंदू नहीं है और एक बौद्ध है लेकिन उसने यह भी कहा कि बौद्ध धर्म का उद्गम हिंदू धर्म से हुआ। 

योगी ने कहा, 'कम्बोडिया में युवा लड़का जानता है कि वह बौद्ध है लेकिन यह भी जानता है कि बौद्ध धर्म की उत्पत्ति क्या है और वह अपनी भावनाओं को व्यक्त कर सकता है...। यदि आप भारत में ये बातें कहते हैं तो कई लोगों की 'सेक्युलरिज़्म' को ख़तरा पैदा हो जाता है। ये सेक्युलरिज़्म जो शब्द है यह सबसे बड़ा ख़तरा है भारत की इन समृद्ध परंपराओं को आगे बढ़ाने और वैश्विक मंच पर उसे एक स्थान मिल सके, वहाँ प्रस्तुत करने में। सबसे बड़ी बाधा है, मुझे लगता है, वह यही है।'

yogi adityanath says secularism biggest threat to india tradition - Satya Hindi

उन्होंने यह भी कहा कि हमें इससे बाहर आना होगा और विशुद्ध, स्वस्थ प्रयास करने होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा, 'अपने स्वयं के लाभ के लिए लोगों को गुमराह करने और देश को धोखा देने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। जो लोग कुछ पैसे के लिए भारत के बारे में झूठी बातें फैला रहे हैं उन पर कार्रवाई की जाएगी।'

मुख्यमंत्री ने हिंदू संस्कृति पर कथित तौर पर सवाल उठाने वालों को निशाना बनाया और कहा कि ऐतिहासिक तथ्यों को खारिज नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग हैं जो अभी भी अयोध्या में भगवान राम के अस्तित्व पर सवाल उठा रहे हैं।

योगी ने लोगों से अपील की कि वे छोटे सांप्रदायिक विवादों में शामिल होकर देश की मैत्रीपूर्ण भावना को न खोएँ। उन्‍होंने कार्यक्रम के दौरान कहा कि भगवान श्रीराम की संस्कृति पहली संस्कृति है, जिसने वैश्विक मंच पर अपना स्थान बनाया। इसके हज़ारों वर्ष बाद भगवान बुद्ध की संस्कृति वैश्विक मंच पर स्थापित हुई।

उन्‍होंने कहा कि रामायण और महाभारत की कहानियाँ बहुत कुछ कहती हैं। उन्होंने कहा, 'महाभारत और रामायण सिर्फ़ हमें जीवन के अच्‍छे संदेश ही नहीं देते, बल्कि यह हमें भारतीय सीमाओं विस्‍तार के बारे में भी कहीं अधिक बताते हैं।' 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें