loader

जमात, मज़दूरों की आड़ अब नहीं लेगी योगी सरकार, कराएगी ज़्यादा कोरोना जाँच

पहले तबलीग़ी जमात और फिर प्रवासी मज़दूरों को कोरोना संकट की जड़ बताने में जुटी रही उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अब ज़्यादा लोगों की जाँच कराने पर ध्यान देगी।
कोरोना संकट और लॉकडाउन की शुरुआत के एक महीने यूपी सरकार का सारा ज़ोर इसके पीछे मरक़ज़ और तबलीग़ी जमात को बताने में लगा रहा। रोक के बाद भी लंबे समय तक प्रदेश सरकार की हर रोज़ कोरोना संक्रमितों की संख्या व रोकथाम के उपाय बताने के लिए आयोजित होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस का बड़ा हिस्सा इसी पर केंद्रित रहता था।
उत्तर प्रदेश से और खबरें

शुतुरमुर्गी नीति!

लॉकडाउन के बढ़ते जाने और बड़ी तादाद में कोरोना संक्रमितों के मिलने के साथ ही जमात का राग किनारे हुआ तो सरकार ने प्रवासी मज़दूरों को इसका ज़िम्मेदार बताना शुरू किया।

प्रवासी मज़दूरों में कोरोना संक्रमण को लेकर आई एक रिपोर्ट ने इसे भी झुठला दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक़, लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों से वापस यूपी लौटे महज 3 फ़ीसदी प्रवासी मज़दूरों में ही कोरोना संक्रमण पाया गया है।

पूल टेस्ट

इस सबके बीच एक स्थापित तथ्य यह भी कि अन्य राज्यों के मुक़ाबले यूपी में कोरोना टेस्ट की रफ़्तार सबसे कम रही है। अब जाकर प्रदेश सरकार ने टेस्ट की तादाद बढ़ाने के उपाय करने शुरु किये हैं।
पूल टेस्ट के ज़रिए ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की जाँच करने की शुरुआत हुई है। इसके साथ ही गोवा से मशीन मंगायी जा रही है ताकि जल्द से जल्द जाँच की रिपोर्ट आ सके।

संक्रमण में टॉप, टेस्ट में फिसड्डी

भारी प्रचार और रोज़ ख़ुद की पीठ थपथपाने के बाद भी उत्तर प्रदेश में हर रोज़ औसतन 8,000 सैंपलों की जाँच हो रही है। लॉकडाउन के पहले एक महीने में तो यहाँ आँकड़ा महज 5,000 पर ही रहा था। बीते एक सप्ताह में ज़रूर इसे 10,000 के ऊपर  पहुँचाया गया है।

अभी भी पूरे उत्तर प्रदेश के सिर्फ 0.11 फ़ीसदी आबादी की ही जाँच हो सकी है। यूपी जाँच के मामले में अंतिम दूसरे स्थान पर है और बिहार से थोड़ा बेहतर है। बिहार में कुल आबादी के 0.06 फ़ीसदी की कोरोना जाँच हुई है।
दिल्ली में यह आँकड़ा 1.10, तमिलनाडु में 0.60 और महाराष्ट्र में 0.36 फ़ीसदी पर था। बीजेपी नेताओं की लगातार आलोचना झेल रहे पश्चिम बंगाल तक का रिकार्ड यूपी से बेहतर रहा है, जहाँ कुल आबादी के 0.17 फ़ीसदी लोगों की कोरोना जाँच हुई है।

अब ग़लती सुधार 

मई के पहले सप्ताह में जब महाराष्ट्र, गुजरात व दिल्ली से प्रवासी मज़दूरों को वापस लाने के लिए विशेष ट्रेनें व बसें चलाई गयीं तो यूपी के ज़िम्मेदारों ने कहना शुरू किया कि कोरोना का संक्रमण बढ़ने की यही वजह बन रहा है। 
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक टीवी इंटरव्यू में कह दिया कि महाराष्ट्र से आने वाले 75 फ़ीसदी और दिल्ली से आने वाले 50 फ़ीसदी प्रवासी मजदूरों में कोरोना संक्रमण है।
सरकार के आला अफ़सरों ने बाद में इसे सुधारा। प्रवासी मजदूरों के लिए किए गए पहले रैंडम टेस्ट में जहाँ संदिग्धों की ही जाँच की गयी तो संक्रमण 25 फ़ीसदी से कम निकला।

सिर्फ 3 प्रतिशत

इसके बाद एक रिपोर्ट में बताया गया कि अब तक जितने भी प्रवासियों की जाँच की गयी उनमें 3 फ़ीसदी संक्रमित निकले हैं, जबकि अन्य के मामले में यह औसत 2.85 फ़ीसदी रहा है। इसके बाद बीते चार दिनों में यूपी में जाँच की तादाद बढ़ाने पर खासा ज़ोर दिया जाने लगा।

जाँच की रफ्तार धीमी

यूपी में कोरोना की पीसीआर से जाँच हो रही है। इसके तहत सैंपल लैब में जाता है और रिपोर्ट कम से कम एक दिन बाद ही आ पाती है। प्रदेश की एक लैब में औसतन एक दिन में 300 तक ही जाँच हो पा रही है।

इस समय यूपी में 22 लैब काम कर रहे हैं। बड़े संस्थानों जैसे किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी या पीजीआई  में ही हर दिन 1,000 तक जाँच हो सकती है। डॉक्टरों का कहना है कि एंटीबॉडी किट से जाँच तेज़ी से हो सकती है और इसमें आधे घंटे में नतीजा भी आ सकता है।
पर्याप्त सुविधा न होने के चलते यूपी में कांटैक्ट ट्रेसिंग के आधार पर ही जाँच हो रही है। रैंडम जाँच का सिलसिला पूरी तरह से शुरू नही हो सका है। लक्षण वाले लोगों की ही जाँच की जाती है, जबकि बहुत से लोग बिना लक्षण के भी कोरोना के वाहक हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें