loader

चंपावत उपचुनाव: सीएम धामी की जोरदार जीत, 55 हजार वोटों से जीते

उत्तराखंड में चंपावत सीट पर हुए उपचुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बड़ी जीत हासिल की है। धामी ने 55 हजार वोटों से कांग्रेस की उम्मीदवार निर्मला गहतोड़ी को हराया। विधानसभा चुनाव की तरह ही कांग्रेस का प्रदर्शन इस उपचुनाव में भी बेहद खराब रहा है। 31 मई को यहां वोट डाले गए थे। 

इस जीत के साथ ही धामी का मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए रास्ता साफ हो गया है। पुष्कर सिंह धामी को 58,258 वोट मिले जबकि निर्मला गहतोड़ी को सिर्फ 3233 मतों से संतोष करना पड़ा। धामी को कुल पड़े मतों में से 92.94 फीसद मत मिले। 

धामी की जीत पर उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, पार्टी के पूर्व अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी सहित तमाम बड़े नेताओं ने बधाई दी है। 

खटीमा से हार गए थे धामी

पुष्कर सिंह धामी विधानसभा चुनाव में अपनी पुरानी सीट खटीमा से हार गए थे। उन्हें कांग्रेस के प्रत्याशी भुवन कापड़ी ने हराया था।

ताज़ा ख़बरें

विधानसभा चुनाव में धामी तो हार गए थे लेकिन बीजेपी ने राज्य में बड़ी जीत हासिल की थी। बीजेपी हाईकमान ने कई दिनों तक चले मंथन के बाद पुष्कर सिंह धामी पर ही भरोसा जताया था और उन्हें फिर से राज्य के मुख्यमंत्री की कुर्सी सौंपी थी।

लेकिन मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए धामी को विधानसभा का चुनाव जीतना जरूरी था इसलिए बीजेपी विधायक के द्वारा खाली की गई चंपावत सीट पर उपचुनाव कराया गया।

उत्तराखंड से और खबरें

चंपावत खटीमा से लगती हुई सीट है और इस सीट पर विधानसभा चुनाव में बीजेपी को जीत मिली थी। चंपावत को पुष्कर सिंह धामी के लिए आसान सीट समझा जा रहा था और इसलिए धामी ने यहां से मैदान में उतरना ठीक समझा।

इस सीट पर करारी हार मिलने के बाद पहले से ही पस्त हो चुकी कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का मनोबल और गिरेगा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें