loader

तालिबान ने बामियान में अब्दुल अली हज़ारा की मूर्ति तोड़ी

तालिबान भले ही यह दावा करे कि वह 'नया तालिबान' है और किसी के ख़िलाफ़ बदले की कार्रवाई नहीं की जाएगी, सच यह है कि उसने बदला लेना शुरू कर दिया है।

एक ताज़ा घटनाक्रम में तालिबान लड़ाकों ने मशहूर शिया हज़ारा नेता अब्दुल अली हज़ारा की मूर्ति तोड़ दी है। 

अब्दुल अली हज़ारा समुदाय के बहुत ही प्रतिष्ठित नेता थे, तालिबान ने 1995 में उनका अपहरण कर उनकी हत्या कर दी थी। उसके बाद बामियान में उनकी मूर्ति स्थापित की गई थी।

तालिबान लड़ाकों ने मंगलवार को उनकी मूर्ति तोड़ दी। 

ख़ास ख़बरें
हज़ारा अफ़ग़ानिस्तान का अल्पसंख्यक क़बीला है, जिसके लोग इसलाम के शिया संप्रदाय को मानते हैं। हज़ारा जनजाति पर पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान में कई बार हमले हो चुके हैं।
अफ़ग़ानिस्तान के तालिबान को पश्तून आन्दोलन के रूप में देखा जाता है क्योंकि इसके ज़्यादातर लड़ाके इसी क़बीले के हैं। पश्तून हमेशा ही दबंग रहे हैं, हज़ारा समुदाय से उनकी नहीं बनी है और वे उन्हें निशाने पर लेते रहते हैं।

अब्दुल अली हज़ारा की मूर्ति तोड़ने को इसी रूप में देखा जा रहा है।

अल्पसंख्यकों को संकेत?

सवाल यह है कि क्या इस मूर्ति को तोड़ कर तालिबान ने हज़ारा और दूसरे अल्पसंख्यक समुदायों को संकेत दिया है? 

इसी तरह क्या शिया व दूसरे अल्पसंख्यक समुदाय को भी यह एक संकेत है और आने वाले दिनों में तालिबान प्रशासन के व्यवहार की झलक है?

afghanistan : taliban vandalise  bamiyan abdul ali hazara statue - Satya Hindi
बामियान के पहाड़ पर खोदी गई बुद्ध की प्रतिमा, जिसे तालिबान ने तोड़ दिया।

बामियान बुद्ध की याद

इसके साथ ही लोगों को बामियान बुद्ध की प्रतिमा की याद आई, जिसे तालिबान ने 2001 में अंतरराष्ट्रीय समुदाय के विरोध और कई मुसलिम विद्वानों व नेताओं की गुजारिश के बावजूद तोड़ दी थी। 

उनका तर्क था कि इसलाम में बुतपरस्ती यानी मूर्ति पूजा हराम है। 

afghanistan : taliban vandalise  bamiyan abdul ali hazara statue - Satya Hindi
मूर्ति ध्वंस के बाद बामियान xinhuanet

तालिबान ने रविवार को काबुल पर क़ब्ज़ा कर लिया और प्रशासन अपने हाथ में ले लिया।

उसके बाद से तालिबान के प्रवक्ता कह रहे हैं कि किसी से बदला नहीं लिया जाएगा, महिलाओं को हिज़ाब पहनने पर सबकुछ करने की छूट होगी। 

सोमवार को काबुल के एक गुरुद्वारे जाकर स्थानीय तालिबान कमान्डर ने डरे हुए सिखों व हिन्दुओं को आश्वस्त किया कि उन्हें उनका धर्म मानने की छूट होगी और उनकी सुरक्षा की जाएगी।

इससे लोगों को उम्मीदें बंधी हैं।

 

क्या यह नया तालिबान है और महिलाओं को कुछ छूट दे सकता है? या यह दिखावा है और महिलाओं के प्रति वैसा ही क्रूर होगा जैसा मुल्ला उमर का तालिबान था? देखें, यह वीडियो।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें