loader

भारत में तबाही लाने वाले डेल्टा वैरिएंट से 70% ऑस्ट्रेलिया में 'लॉकडाउन'

भारत में जिस डेल्टा वैरिएंट को तबाही मचाने के लिए ज़िम्मेदार माना गया उसी डेल्टा वैरिएंट के कारण ऑस्ट्रेलिया में अब ख़तरे की घंटी बजती लग रही है! डेल्टा वैरिएंट के मामले बढ़ने के कारण क़रीब 70 फ़ीसदी ऑस्ट्रेलियाई लोग किसी न किसी तरह के कोरोना के कारण लगाए गए लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधों का सामना कर रहे हैं।

कोरोना का यह डेल्टा वैरिएंट सबसे पहले भारत में मिला था। पहले इसे इसके वैज्ञानिक नाम बी.1.617.2 वैरिएंट से ही बुलाया जा रहा था लेकिन बाद में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसका नामकरण डेल्टा किया। अब तक कई देशों में डेल्टा वैरिएंट के मामले आ चुके हैं। यूरोप के कई देशों में भी इसको लेकर चेतावनी जारी की गई है। हाल ही एक रिपोर्ट में तो यह कहा गया कि इंग्लैंड में नये आने वाले संक्रमण के मामलों में से 90 फ़ीसदी डेल्टा वैरिएंट के थे। अमेरिका में भी डेल्टा वैरिएंट को लेकर अतिरिक्त सावधानी बरती जा रही है। 

ताज़ा ख़बरें

डेल्टा वैरिएंट को लेकर दुनिया भर में इसलिए डर ज़्यादा है कि इस वैरिएंट को काफ़ी घातक माना जा रहा है। इसके बारे में कहा जा रहा है कि यह वैरिएंट शरीर के इम्युन सिस्टम यानी प्रतिरक्षा प्रणाली से बच निकलता है। इसी वैरिएंट को भारत में दूसरी लहर के लिए ज़िम्मेदार माना गया। ऐसा इसलिए कि भारत में जब दूसरी लहर अपने शिखर पर थी तो हर रोज़ 4 लाख से भी ज़्यादा संक्रमण के मामले रिकॉर्ड किए जा रहे थे। देश में 6 मई को सबसे ज़्यादा 4 लाख 14 हज़ार केस आए थे। यह वह समय था जब देश में अस्तपाल बेड, दवाइयाँ और ऑक्सीजन जैसी सुविधाएँ भी कम पड़ गई थीं। ऑक्सीजन समय पर नहीं मिलने से बड़ी संख्या में लोगों की मौतें हुईं। अस्पतालों में तो लाइनें लगी ही थीं, श्मशानों में भी ऐसे ही हालात थे। इस बीच गंगा नदी में तैरते सैकड़ों शव मिलने की ख़बरें आईं और रेत में दफनाए गए शवों की तसवीरें भी आईं।

इसी डेल्टा के मामले अब ऑस्ट्रेलिया में बढ़ने से चिंता जताई जा रही है। पहले जहाँ ऑस्ट्रेलिया में 2-4 या कभी-कभी तो एक भी संक्रमण के मामले नहीं आ रहे थे वहाँ अब 40-50 के बीच केस आने लगे हैं। एक दिन पहले ही 43 नये मामले आए। जीनोम सिक्वेंसिंग से पता चला है कि अब तक कई मामले डेल्टा वैरिएंट के आ चुके हैं। 

ऑस्ट्रेलियाई अधिकारियों ने इस पर चिंता जताई है। रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार फेडरल ट्रेजरर जोश फ्राइडेनबर्ग ने सोमवार को ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कॉर्प को बताया कि ऑस्ट्रेलिया के लिए कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई में यह काफ़ी अहम वक़्त है।

उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि अधिक संक्रामक डेल्टा वैरिएंट के साथ हम इस महामारी के एक नए चरण में प्रवेश कर रहे हैं।' फ्राइडेनबर्ग ने कहा कि प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन की अध्यक्षता वाली राष्ट्रीय सुरक्षा समिति को देश के मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोमवार को इस बारे में जानकारी देंगे।

australia imposes covid restrictions on 70 percent population amid delta variant surge - Satya Hindi

ऑस्ट्रेलिया के सबसे अधिक आबादी वाले शहर सिडनी में दो हफ़्ते का लॉकडाउन लगाया गया है। जबकि उत्तरी शहर डार्विन में दो दिनों की पाबंदी लगाई गई है। क्वींसलैंड में सोमवार को फिर से लोगों को मास्क लगाना ज़रूरी कर दिया गया है और सीमित संख्या में ही लोगों के इकट्ठा होने की इजाज़त होगी। कुछ ऐसी ही पाबंदियाँ मेलबर्न, पर्थ, कैनबरा जैसे शहरों में भी हैं। 

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया ने अब तक कोरोना को अपेक्षाकृत बेहतर ढंग से नियंत्रित किया है और वहाँ अब तक कुल मिलाकर क़रीब 30 हज़ार मामले आए हैं। अब तक 910 लोगों की मौत हुई है। 

दुनिया से और ख़बरें
जिस डेल्टा वैरिएंट को काफ़ी ज़्यादा संक्रामक और घातक माना जा रहा है उसका अब नया रूप डेल्टा प्लस वैरिएंट आ गया है। इसके भी घातक होने के संकेत मिल रहे हैं। पिछले हफ़्ते ही रिपोर्ट आई थी कि देश के 10 से ज़्यादा राज्यों में डेल्टा प्लस वैरिएंट के 50 केस मिले हैं। तब स्वास्थ्य मंत्रालय ने ही यह भी कहा था कि आठ राज्यों में 50 प्रतिशत से अधिक डेल्टा वैरिएंट के मामले पाए गए हैं जो अब भारत में चिंता का विषय है। ये राज्य हैं- आंध्र प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, केरल, महाराष्ट्र, पंजाब, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल। बहरहाल, इस डेल्टा के नये वैरिएंट से तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है। यानी ढिलाई बरती नहीं कि भारत में एक और गंभीर संकट आ धमकेगा!
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें