loader
फ़ाइल फोटो।

कैपिटल हिंसा पर पैनल- 'ट्रंप ने भीड़ जुटाई, तख्तापलट की कोशिश की'

अमेरिका की कैपिटल हिल बिल्डिंग हिंसा में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप पर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं। यूएस कैपिटल पर भीड़ के हमले की जांच कर रहे एक कांग्रेस पैनल ने कहा है कि तब चुनाव में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए ट्रंप ने सत्ता में बनने रहने के लिए तख्तापलट की कोशिश की थी। इसने यह भी कहा है कि तब ट्रंप ने अपने कथित भड़काऊ बयान से अपने समर्थकों की भीड़ को इकट्ठा किया और 'हमले के लिए भड़काया'। उस हिंसा मामले में फ़िलहाल सुनवाई चल रही है और इसी मामले में ये बयान आए हैं।

बता दें कि पिछले साल 6 जनवरी को चुनाव में डोनल्ड ट्रंप के हार न मानने के कारण हिंसा हुई थी। उसमें कम से कम 5 लोग मारे गए थे और कई घायल भी हुए थे। 

ताज़ा ख़बरें

दरअसल, यह घटना तब हुई थी जब यूएस हाउस ऑफ़ रिप्रेजेंटेटिव्स और सीनेट ने इलेक्टोरल कॉलेज के परिणामों के प्रमाणन पर विचार करने के लिए एक संयुक्त सत्र बुलाया था। इसमें पता चल रहा था कि डेमोक्रेट जो बाइडन ने डोनल्ड ट्रम्प को हरा दिया है। लेकिन शुरुआती चुनाव नतीजों के बाद से ही हार नहीं मानने पर अड़े ट्रंप ने वाशिंगटन में अपने समर्थकों की एक रैली की थी और कथित तौर पर भड़काऊ भाषण दिया था। इसमें उन्होंने कहा था कि 'हम कभी हार नहीं मानेंगे।' उन्होंने भीड़ को भड़काते हुए कहा था, 'आप कमज़ोरी से अपना देश फिर हासिल नहीं कर सकते।' ट्रंप ने भीड़ को कैपिटल बिल्डिंग की ओर कूच करने को कहा था। ट्रंप के भाषण के बाद ही उनके समर्थकों ने कैपिटल बिल्डिंग में घुसने की कोशिश की और हिंसात्मक प्रदर्शन किया था। 

इसके बाद से ही इस मामले की जाँच की जा रही थी। एक साल की लंबी जांच के बाद विशेष समिति ने अपने निष्कर्षों की एक प्रस्तुति दी। एएफ़पी की रिपोर्ट के अनुसार पैनल के रिपब्लिकन उपाध्यक्ष लिज़ चेनी ने गर्मियों की सुनवाई की एक श्रृंखला में पहली बार अपनी प्रारंभिक टिप्पणी में कहा, 'राष्ट्रपति ट्रम्प ने भीड़ को बुलाया, भीड़ को इकट्ठा किया और इस हमले के लिए भड़काया।'

लिज़ से पहले डेमोक्रेटिक कमेटी के प्रमुख बेनी थॉम्पसन ने ट्रम्प पर 'इस साजिश के केंद्र में' होने का आरोप लगाया।

थॉम्पसन ने कहा, '6 जनवरी तख्तापलट के प्रयास की परिणति थी- एक निर्लज्ज प्रयास, जैसा कि 6 जनवरी के तुरंत बाद एक दंगाई ने कहा- सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए। हिंसा कोई दुर्घटना नहीं थी।' उन्होंने कहा कि दंगाइयों ने 'संयुक्त राज्य के राष्ट्रपति के उकसावे पर' कांग्रेस तक मार्च किया और सांसदों द्वारा बाइडन को सत्ता के औपचारिक हस्तांतरण को रोकने का काम किया।

दुनिया से और ख़बरें

पैनल में सात हाउस डेमोक्रेट और दो रिपब्लिकन शामिल हैं। उन्होंने दो गवाहों को भी बुलाया जिनमें कैरोलिन एडवर्डस भी शामिल हैं, जो हमले में घायल हुए पहले पुलिस अधिकारी थे। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, एडवर्डस ने गवाही दी कि बेहोश होने से पहले उन्हें दंगाइयों द्वारा देशद्रोही और कुत्ता कहा जा रहा था। चयन समिति के अध्यक्ष डेमोक्रेट बेनी थॉम्पसन ने कहा कि 6 जनवरी को तख्तापलट की कोशिश की गई थी।

न्यूज़ एजेंसी एपी की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी पैनल ने कहा कि घातक हमले और उसके लिए ज़िम्मेदार झूठ के कारण ‘ढाई सदी पुराना संवैधानिक लोकतंत्र ख़तरे में पड़ गया।’ बेनी थॉम्पसन ने कहा कि अमेरिका से लंबे समय से एक महान देश बनने की उम्मीद की जाती रही है। उन्होंने कहा, ‘एक आशा एवं आजादी की किरण। हम यह भूमिका कैसे निभा सकते हैं, जब हमारा खुद का सदन इस तरह अव्यवस्थित है? हमें सच्चाई का डटकर सामना करना चाहिए।’

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें