loader

बोरिस जॉनसन कैबिनेट से 2 बड़े मंत्रियों का इस्तीफ़ा

ब्रिटेन की बोरिस जॉनसन सरकार के 2 बड़े मंत्रियों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। इन मंत्रियों के नाम साजिद जावीद और ऋषि सुनाक हैं। साजिद जावीद के पास सेहत का जबकि ऋषि सुनाक के पास वित्त महकमा था। 

जॉनसन की मुश्किलें तब बढ़नी शुरू हुई थी जब उन्होंने यौन दुराचार के एक मामले में आरोपी होने के बाद भी सांसद क्रिस पिंचर को सरकार में अहम ओहदा दिया था। 

2019 में बोरिस जॉनसन ने पिंचर को विदेश दफ्तर का मंत्री बनाया था और इस साल फरवरी में उन्हें डिप्टी चीफ व्हिप बनाया गया था।

ताज़ा ख़बरें

बोरिस जॉनसन पर पिंचर को हटाए जाने को लेकर जबरदस्त दबाव था। हालांकि वह अपनी सफाई दे चुके थे। 

पिंचर के खिलाफ 2019 में यौन दुराचार के आरोप लगे थे। जॉनसन पर यह आरोप लग रहा था कि वह पिंचर के खिलाफ लगे आरोपों के बारे में जानते हैं लेकिन बावजूद इसके वह उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। हालांकि सरकार की ओर से कहा जा रहा था कि पिंचर पर लगे आरोपों के बारे में जॉनसन को पता नहीं है।

Rishi Sunak Sajid Javid Quit In Boris Johnson cabinet - Satya Hindi
ऋषि सुनाक।

ऋषि सुनाक ने अपने इस्तीफे के पत्र में कहा है कि जब पूरी दुनिया महामारी, यूक्रेन में युद्ध और अन्य कारणों से आर्थिक संकट का सामना कर रही है, ऐसे वक्त में मुझे यह फैसला लेना पड़ा है। लेकिन जनता चाहती है कि सरकार सही तरीके से और गंभीरता से चले। जबकि साजिद जावीद ने कहा कि वह इस तरह सरकार में आगे नहीं बने रह सकते। 

क्या था मामला?

29 जून को पिंचर एक क्लब में गए थे जहां पर दो लोगों ने उन पर मारपीट करने का आरोप लगाया था। यह मामला सामने आने के बाद जब विवाद बढ़ा तो पिंचर ने डिप्टी चीफ व्हिप के पद से इस्तीफा दे दिया था। पिंचर पर इससे पहले भी कई आरोप लग चुके हैं। 

दुनिया से और खबरें

पिंचर को सरकार में बड़े पद पर नियुक्त किए जाने के फैसले को लेकर जॉनसन ने कहा था कि हां यह एक गलती थी और वह इसके लिए माफी मांगते हैं। उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार में ऐसे किसी शख्स के लिए कोई जगह नहीं है जिसने अपनी ताकत का दुरुपयोग किया हो। 

जॉनसन की सरकार के खिलाफ हाल ही में अविश्वास प्रस्ताव भी लाया गया था। हालांकि वह इसका सामना करने में कामयाब रहे थे इसके अलावा हालिया दो उपचुनाव में भी उनकी पार्टी को हार मिली थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें