loader
फाइल फोटो

श्रीलंका में अब हिंसा करते दिखते ही गोली मारने का आदेश

श्रीलंका के रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को सार्वजनिक संपत्ति लूटने या दूसरों को नुक़सान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति पर गोली चलाने का आदेश दिया है।  अभूतपूर्व आर्थिक और राजनीतिक संकट को लेकर हिंसक विरोध के बीच रक्षा मंत्रालय ने यह आदेश सेना, वायु सेना और नौसेना कर्मियों को दिया है।

श्रीलंका अपने इतिहास में अपने सबसे ख़राब आर्थिक संकट से जूझ रहा है। हजारों प्रदर्शनकारियों ने सरकारी अमलों पर हमला करने के लिए कर्फ्यू का उल्लंघन किया, सत्ताधारी पार्टी के सांसदों और प्रांतीय राजनेताओं के घरों, दुकानों और व्यवसायों को आग लगा दी। रिपोर्टों में कहा गया है कि क़रीब 250 लोग हिंसा में घायल हुए हैं। एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया है कि हिंसा में कम से कम आठ लोगों की जान चली गई है। 

ताज़ा ख़बरें

बहरहाल, हिंसा करने वालों को गोली मारने का यह आदेश तब आया है जब राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने लोगों से साथी नागरिकों के ख़िलाफ़ 'हिंसा और बदले की कार्रवाई' को रोकने का आग्रह किया और राष्ट्र के सामने आने वाले राजनीतिक और आर्थिक संकट को दूर करने का संकल्प लिया।

श्रीलंका के रक्षा महासचिव (सेवानिवृत्त) कमल गुणरत्ने ने मंगलवार को प्रदर्शनकारियों से शांत रहने और हिंसा का सहारा नहीं लेने का आग्रह किया। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर लूटपाट और संपत्ति की क्षति जारी रहती है तो रक्षा मंत्रालय उल्लंघन करने वालों के ख़िलाफ़ क़ानून को सख्ती से लागू करने के लिए मजबूर होगा।

इधर, महिंदा राजपक्षे ने आखिरकार सोमवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया, लेकिन उनके इस्तीफे के तुरंत बाद श्रीलंका में हिंसा भड़क उठी। महिंदा राजपक्षे के समर्थकों ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर हमला किया।

श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद से सोमवार को इस्तीफा देने वाले महिंदा राजपक्षे को हिंसा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किए जाने की मांग की जा रही है।
दुनिया से और ख़बरें

महिंदा राजपक्षे घर छोड़कर भागे: रिपोर्ट

एनडीटीवी के मुताबिक, पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे और उनके परिवार ने घर छोड़ दिया है और उन्होंने त्रिंकोमाली में एक नौसैनिक अड्डे में शरण ली है। बता दें कि श्रीलंका में बीते कई महीनों से चल रहे विरोध प्रदर्शन सोमवार से तेज और उग्र हो गए हैं। 

हालात इस कदर खराब हैं कि गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने कई पूर्व मंत्रियों और सांसदों के घरों को आग के हवाले कर दिया है। राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के पैतृक घर को भी सोमवार रात को आग लगा दी गई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें