loader

श्रीलंका: प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति राजपक्षे के पैतृक घर में भी लगाई आग 

श्रीलंका में सोमवार का दिन प्रदर्शनकारियों के गुस्से के नाम रहा। सरकार से बेहद नाराज लोगों ने दो सांसदों और तीन पूर्व मंत्रियों के घरों को आग लगाने के साथ ही देश के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के पैतृक घर में भी आग लगा दी।

यह घर राजधानी कोलंबो से 250 किलोमीटर दूर हंबनटोटा में है। घर में बने राष्ट्रपति के माता-पिता के स्मारक को भी तहस-नहस कर दिया गया है। इसके अलावा कुछ बसों को भी आग के हवाले कर दिया गया है।

पुलिस ने हालात को संभालने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और पानी की बौछारों का भी इस्तेमाल किया। राजधानी कोलंबो के साथ ही पूरे देश भर में तुरंत प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया गया है।

कर्फ्यू और आपातकाल के बीच भी हजारों लोग सड़कों पर उतर आए हैं और उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के समर्थकों पर हमला किया है।
जिन मंत्रियों व सांसदों के घरों को निशाना बनाया गया है उनमें पूर्व मंत्री जॉनसन फर्नांडो और सांसद सनत निशांत का भी नाम शामिल है। 
ताज़ा ख़बरें

सांसद ने की आत्महत्या 

उधर, प्रदर्शनकारियों के साथ हुई झड़प में सांसद अमरकीर्ति अथुकोराला की मौत हो गई है। वह सत्तारूढ़ पार्टी के सांसद थे। 

पुलिस ने कहा कि सांसद ने प्रदर्शनकारियों पर फायर झोंक दिए थे और इसमें दो लोग घायल हो गए। प्रदर्शनकारियों ने निट्टंबुवा इलाके में उनकी कार को रोकने की कोशिश की थी। 

Sri Lanka worst economic crisis PM quits  - Satya Hindi
पुलिस ने कहा कि सांसद की फायरिंग में घायल एक शख्स की मौत हो गई। इसके बाद सांसद वहां से भागे और नजदीक की एक इमारत में छिपने की कोशिश की। लेकिन हजारों लोगों ने इस इमारत को घेर लिया और इसके बाद सांसद ने अपनी ही रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली। 
दुनिया से और खबरें

सरकार की ओर से पुलिस से प्रदर्शनकारियों से सख्ती से निपटने के लिए कहा गया है लेकिन अब पुलिस के लिए भी हालात को संभालना बेहद मुश्किल हो रहा है। 

प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के इस्तीफा देने के बाद अब उनके भाई और राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे पर इस्तीफा देने के लिए दबाव बढ़ गया है। प्रदर्शनकारी उनके भी इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें