loader

कोरोना ने क्या अमेरिका को डकैती के लिये मजबूर कर दिया है ?

हम भारतीय शायद इस बात पर गहरी साँस ले सकते हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप सिर्फ दबाव बनाकर भारत से क्लोरोक्वीन दवा हासिल कर रहे हैं। कम से कम वे हमारे दवाओं को पाने के लिये डकैती नहीं डाल रहे हैं। 

हो सकता है आपको यह पढ़ कर हैरानी हो और यकीन न आये, लेकिन ब्रिटेन के एक मशहूर अख़बार ने इस बारें में एक ख़बर छापी है। उसके मुताबिक़, अमेरिका ने फ़्रांस और जर्मनी जा रहे कोरोना से लड़ने के लिये ज़रूरी मेडिकल सामान रास्ते में ही लूट लिया।
अमेरिका ने दवा हासिल करने के लिए इन देशों पर दवाब नहीं बनाया। मास्क और दूसरे पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपटमेंट लेने के लिए चोरी कराई और मेडिकल सामान को बीच में ही गायब करवा दिया है।

डकैती?

इसी अख़बार के अनुसार 3 अप्रैल को चीन से जर्मनी जा रहा एक कनसाइनमेंट थाईलैंड के हवाई अड्डे पर उड़ा लिया गया। इसमें दो लाख एन-65 मास्क थे। यह कनसाइनमेंट भी अमेरिका पहुँच गया। बर्लिन पुलिस ने इन मास्क का ऑर्डर दिया था। जर्मनी में कोरोना वायरस से एक लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं। 
ट्रंप के अमेरिका ने ऐसे वैश्विक संकट के समय  में ये हरकत की है जब देशों के बीच की दूरियाँ कम हो गई हैं, सीमाएं मिट गई हैं और देश एक दूसरे की मदद कर रहे हैं। दुर्भाग्य से जिस अमेरिका से दुनिया यह उम्मीद लगाये बैठी थी कि वह विश्व को एक नई राह दिखायेगा वह ख़ुद आज शर्मनाक हरकत कर रहा है।
वह संकट की इस घड़ी में कोरोना से संयुक्त रूप से लड़ने की कोशिश नहीं कर रहा है। वह इस वक्त अधिक से अधिक दवा और उपकरण इकट्ठा करने में लगा है। और इस के लिये वह कुछ भी करने को तैयार है।

क्या कर रहा है अमेरिका?

दिलचस्प बात यह है कि जो ट्रंप भारत पर दबाव बना कर क्लोरोक्वीन ले रहा है वह खुद अपनी कंपनियों को धमकी दे रहा है कि वे कोरोना से जुड़ी चीज़ें दूसरे देशों को न बेचें और अगर ऐसा हुआ तो वह कड़ी कार्रवाई करेगा । 
ट्रंप प्रशासन ने अमेरिकी  कंपनी 3एम को अपने आपातकालीन अधिकारों का इस्तेमाल कर यह चेतावनी दी है कि वह देश में बने मेडिकल सामानों को पड़ोसी लैटिन अमेरिकी देशों और कनाडा को न बेचें।
कंपनी से यह भी कहा गया है कि जो सामान वह अमेरिका के बाहर किसी दूसरे देश में बना रहा है उसे भी वो किसी और देश या कंपनी को न निर्यात करे।

‘द इंडपेंडेंट’ ट्रंप की इन हरकतों से क्षुब्ध होकर  काफी तल़्खी से लिखा कि संक्रमण राष्ट्र की सीमाओं को नहीं पहचानता है, पर ट्रंप से यह कहना वैसा ही है जैसा किसी एक साल के बच्चे से यह उम्मीद करना कि वह शरारत न करे। एक ऐसा नेता जिसके पास भविष्य की कोई दृष्टि न हो, देश की अगुआई नहीं कर सकता। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें