loader

अमेरिकी चुनाव: माँ को याद कर भावुक हो उठीं कमला हैरिस

भारतीय मूल की कमला हैरिस अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे आने के बाद बहुत ही भावुक हो उठीं। डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन के राष्ट्रपति चुने जाने के साथ ही वह उप राष्ट्रपति चुन ली गईं। अमेरिका की उप राष्ट्रपति बनने वाली वह पहली महिला, पहली अश्वेत और पहली एशियाई मूल की नागरिक होंगी। 

भावुक हुईं कमला

ज़ाहिर है, इस भावुकतपूर्ण घड़ी में उन्हें सबसे अधिक याद अपनी माँ की आई, वह माँ जो 19 साल की उम्र में भारत छोड़ हजारों किलोमीटर दूर अमेरिकी चली गईं। वह माँ, जिसने कमला के जन्म के कुछ साल बाद से ही अपनी बच्ची को अकेले पाल पोष कर बड़ा किया। 
ख़ास ख़बरें
कमला हैरिस ने अपनी माँ को याद करते हुए कहा, 

'मैं शुक्रगुज़ार हूं उस महिला का जो मेरे आज यहां होने के लिए सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदार है, वह है श्यामला गोपालन हैरिस। जब वह 19 साल की उम्र में यहां आईं, उन्होंने शायद इस क्षण की कल्पना नहीं की होगी। पर उन्होंने यह भरोसा किया था कि अमेरिका में ऐसा भी हो सकता है।'


कमला हैरिस, निर्वाचित उप राष्ट्पति, अमेरिका

निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के डेलावेअर के विलमिंग्टन स्थित आवास पर मौजूद सैकड़ों लोगों की तालियों की गड़गड़हाट के बीच कमला ने कहा, 'आज मैं सोच रही हूं उनके बारे में और कई पीढ़ियों की अश्वेत, एशियाई, श्वेत, लातिनी और मूल अमेरिकी महिलाओं की कई पीढ़ियों के बारे में, जिन्होंने इस देश के इतिहास में अहम भूमिका निभाईं और आज के दिन की आधारशिला रखीं।'
US Vice President elect kamala harris misses mother shyamala - Satya Hindi
निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ कमला हैरिस

भारत की याद

कमला हैरिस ने इस मौके पर बताया कि किस तरह वह भारत के तमिलनाडु स्थित अपने घर जाती थीं और अपनी मौसियों से मुलाक़ात करती थीं। तमिल में उन्हें चिट्टी कहते हैं। कमला ने भावुकता से याद दिलाया कि किस तरह उन्होंने अपन 'चिट्टियों' से मिलती थीं। 
कमला हैरिस के मामा गोपालन बालाचंद्रन दिल्ली के मालवीय नगर में रहते हैं। उन्होंने कहा है कि भारत में रह रहे वह और कमला हैरिस को परिवार के दूसरे लोग अगले साल जनवरी में होने वाले उनके शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने जाएंगे।
US Vice President elect kamala harris misses mother shyamala - Satya Hindi
चुनाव प्रचार के दौरान कमला हैरिस और जो बाइडन

जड़ से जुड़ी रहीं कमला

कमला की माँ श्यामला गोपालन 1960 में भारत के तमिलनाडु से यूसी बर्कले पहुंची थीं। वहां उनकी मुलाक़ात ब्रिटिश जमैका से अर्थशास्त्र में स्नातक करने गए डोनल्ड जे. हैरिस से हुई। दोनों ने विवाह कर लिया। कमला हैरिस सिर्फ सात साल की थीं, तो उनके माता-पिता का तलाक हो गया। मां श्यामला ने ही दोनों बेटियों कमला और माया को पाल पोष कर बड़ा किया। 

श्यामला खुद ईसाई और अमेरिकी बन गईं, लेकिन अपनी बेटियों कमला और माया की परवरिश के दौरान अपनी पृष्ठभूमि से जोड़े रखा और उन्हें अपनी साझा विरासत पर गर्व करना सिखाया। एक बच्चे के रूप में, हैरिस ब्लैक बैपटिस्ट चर्च और हिंदू मंदिर दोनों में गईं। हैरिस ने अपनी आत्मकथा में लिखा, "मेरी मां बहुत अच्छी तरह से समझती थी कि वह दो अश्वेत बेटियों की परवरिश कर रही है।"

कमला हैरिस छोटी सी उम्र में भारत आई थीं। वह अपने नाना से बहुत प्रभावित थीं जो भारत में बड़े सरकारी अधिकारी थे। उनके नाना ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा भी लिया था। हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अध्ययन के बाद हैरिस ने कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई की थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें