loader

बाबरी मसजिद केस: फ़ैसला वही आया, जैसी कि उम्मीद थी!

बाबरी मसजिद विध्वंस मामले में 28 साल बाद आए सीबीआई की विशेष अदालत के फ़ैसले में कहा गया है कि ढांचे को गिराये जाने की घटना पूर्व नियोजित नहीं बल्कि स्वत: स्फूर्त थी। अदालत ने कहा है कि इस घटना को अराजक तत्वों ने अंजाम दिया और यह घटना अचानक हुई। क्या घटना के उपलब्ध वीडियो, तसवीरों को देखकर यह माना जा सकता है कि यह घटना अचानक हुई होगी। 
नीरेंद्र नागर

बाबरी मसजिद विध्वंस मामले में दो ही तरह के फ़ैसलों की उम्मीद (आशंका भी कह सकते हैं) थी।

1. बाबरी मसजिद विध्वंस किसी साज़िश या उकसावे का नतीजा नहीं था, इसलिए इन सभी अभियुक्तों को बरी किया जाता है।

2. बाबरी मसजिद विध्वंस साज़िश और उकसावे का नतीजा था लेकिन अभियुक्त उस साज़िश या उकसावे के दोषी नहीं थे। असली षड्यंत्रकर्ता कोई और थे।

इससे इतर किसी तीसरे या चौथे फ़ैसले की उम्मीद बेमानी थी। बेमानी इसलिए कि जब जाँच की महज़ ख़ानापूर्ति की जाये, सबूत जानबूझकर न जुटाये जायें और वादी अपने मामले को साबित करने की कोशिश भी न करे, तो निर्णय तो यही आना था। 

ताज़ा ख़बरें

इससे पहले समझौता ट्रेन ब्लास्ट और भगवा आतंकवाद के कई मामलों में हम इसी तरह का पैटर्न देख चुके हैं। सीबीआई पुलिस अभियुक्तों के ख़िलाफ़ या तो साक्ष्य जुटाती नहीं है, जुटाती है तो दिखाती नहीं है और दिखाती है तो इस तरह कि उन्हें प्रतिवादी पक्ष के वकील कमज़ोर और झूठा साबित कर सकें। 

बाबरी मसजिद मामले में भी यही हुआ। सीबीआई ने प्रमाण के तौर पर कुछ वीडियो, ऑडियो और तसवीरें दिखाईं लेकिन जज साहब को वे ऑथेंटिक (विश्वसनीय) नहीं लगे। उन्हें विध्वंस के दौरान के वीडियो, ऑडियो और तसवीरें और तसवीरों के नेगेटिव चाहिए थे जो सीबीआई, आप समझ ही सकते हैं क्यों, उपलब्ध नहीं करा सकी।

कहा जाता है कि जब विध्वंस शुरू हुआ तो वहाँ मौजूद पत्रकारों को भगा दिया गया, महिला-पुरुष सभी के साथ बदसलूकी की गई, उन्हें मारा-पीटा गया, उनके कैमरे तोड़ दिए गए और ऐसी सारी रिकॉर्डिंग नष्ट कर दी गईं जिनसे इन नेताओं की मिलीभगत साबित हो सकती थी।

इसलिए, विध्वंस के दौरान किसने क्या किया, क्या कहा, इसका रिकॉर्ड बहुत कम है। लेकिन जब स्थिति ऐसी थी और जज साहब को इसके बारे में बताया गया था तो उनको उन निष्पक्ष गवाहों के बयानों पर भरोसा करना चाहिए था जिन्होंने बताया कि विध्वंस के दौरान वहाँ क्या-क्या हुआ। क्या दुनिया में जितने भी अपराध होते हैं, उनका फ़ैसला वीडियो और ऑडियो रिकॉर्डिंग के आधार पर होता है?

देखिए, अदालत के फ़ैसले पर चर्चा- 

सब कुछ अचानक हुआ?

जज साहब कहते हैं कि जो किया, अराजक तत्वों ने किया जिनपर इन नेताओं का कोई कंट्रोल नहीं था। वे यह भी कहते हैं कि जो हुआ, अचानक हुआ। जज साहब ने शायद इस पर ध्यान नहीं दिया कि क्या पुलिस ने जो कार्रवाई नहीं की, वह भी अचानक नहीं की (या किसी के कहने पर नहीं की)? पत्रकारों को जो पीटा गया, वह भी अचानक पीटा गया? फावड़े, कुदालें भी वहाँ अचानक आए? माइक से जो नारे लगे- ‘एक धक्का और दो, बाबरी मसजिद तोड़ दो’, वे भी अचानक लगे?

दरअसल, अचानक कुछ भी नहीं हुआ था और इस जजमेंट को भी अचानक आया फ़ैसला नहीं माना जा सकता है। पिछले साल के अयोध्या फ़ैसले के बाद आये इस जजमेंट से एक तरह से हिंदू ब्रिगेड की जीत न केवल पूरी हो गयी, बल्कि उस पर वैधानिक मुहर भी लग गयी।

अगर आज के अपने फ़ैसले में अदालत यह कह देती कि बाबरी मसजिद विध्वंस में, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने एक आपराधिक घटना कहा था, बीजेपी-वीएचपी और आरएसएस के नेताओं की अहम भूमिका थी और उन्हें इसके लिए सज़ा होती तो यह खाने में कंकड़ आने जैसा हो जाता।

विश्लेषण से और ख़बरें

किसी को नहीं हुई सजा

कितने अफ़सोस की बात है। प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट के चीफ़ जस्टिस के ख़िलाफ़ दो ट्वीट किए तो सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें अदालत की अवमानना का दोषी ठहरा दिया और सज़ा सुनाई जबकि प्रशांत भूषण के ट्वीट से देश में एक चींटी भी नहीं मरी। लेकिन 1992 में जब संघ परिवार और तत्कालीन यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को दिया गया अपना वादा तोड़ दिया और बाबरी मसजिद को टूटने दिया, जिसके परिणामस्वरूप कितनों की जानें गईं तो इस वादाख़िलाफ़ी के लिए सुप्रीम कोर्ट ने आज तक किसी नेता को एक दिन की सज़ा भी नहीं दी है। 

जब सुप्रीम कोर्ट ऐसे नेताओं के प्रति इतनी नरमी दिखा सकता है तो स्पेशल कोर्ट से हम कैसे उम्मीद करें कि वह कुछ और फ़ैसला देगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
नीरेंद्र नागर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें