loader

शरद पवार जी! अब नेहरू-गाँधी परिवार की तारीफ़ क्यों?

राजनीति भी अजीब होती है। कब किसको किसमें गुण दिख जाए और कब कौन किसको गाली देने लग जाए, पता ही नहीं चलता! जिस शरद पवार ने दो-दो बार कांग्रेस छोड़ी और एक समय वह कांग्रेस के ख़िलाफ़ बोलते नहीं थकते थे, अब वही शरद पवार नेहरू-गाँधी परिवार की तारीफ़ में क़सीदे पढ़ रहे हैं। 

पवार ने सोनिया गाँधी के विदेशी मूल के मुद्दे को बड़ा मुद्दा बनाया था और कांग्रेस से नाता तोड़कर 1999 में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी बनायी थी, अब वह उन्हीं सोनिया-राहुल के बारे में कहते हैं कि ये दोनों नेता देश की सेवा में लगे हैं और नरेंद्र मोदी को ख़ूब खरी-खोटी सुनाते हैं।

पीएम बनने की है उम्मीद 

पवार देश के बहुत सीनियर नेता हैं। वह कभी प्रधानमंत्री पद के दावेदार थे। आज भी उम्मीद लगाए बैठे हैं कि 2019 में उनकी क़िस्मत खुल सकती है। वह एक बार फिर से प्रधानमंत्री की रेस में शामिल हैं। शरद पवार का कहना है कि नेहरू-गाँधी परिवार ने देश की बहुत सेवा की है और देश के लिए काफ़ी बलिदान किया है। 

पवार के मुताबिक़, कई जान गँवाने के बाद भी इस परिवार ने देश सेवा का काम नहीं छोड़ा है। शरद पवार का इशारा इंदिरा गाँधी और राजीव गाँधी की तरफ़ है। दोनों नेताओं की हत्या आतंकवादियों ने की थी। इंदिरा गाँधी की हत्या सिख आतंकवादियों ने की तो राजीव गाँधी तमिल आतंकवाद का शिकार हुए। 

शरद पवार कभी कांग्रेस पार्टी में थे। इंदिरा गाँधी के जमाने में। फिर महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनने के लिए उन्होंने पार्टी तोड़ी। पवार कहते हैं कि इंदिरा गाँधी ने इमरजेंसी लगायी। उन्होंने लोकतंत्र का गला घोटने की कोशिश की पर उन्हें अपनी ग़लती का अहसास हुआ। जनता से माफ़ी माँगी और दुबारा प्रधानमंत्री बनीं।

हाल में तीन राज्यों में कांग्रेस ने बीजेपी को हराया है। महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी साथ चुनाव लड़ने को तैयार हैं। ऐसे में पवार को लगता है कि 1996 में देवेगौड़ा की तरह उनके भाग्य का भी छींका टूट सकता है।

मोदी की करते हैं आलोचना 

पवार का कहना है कि इंदिरा गाँधी ग़रीबों के हित में सोचने वाली नेता थीं। आज देश को ऐसे प्रधानमंत्री की ज़रूरत है। प्रधानमंत्री किसी पार्टी का नहीं होता। वह देश का होता है। फिर पवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिए बग़ैर उनकी तीखी आलोचना करते हैं। 

पवार, मोदी के बारे में कहते हैं कि पहले जब प्रधानमंत्री विदेश जाते थे तो वह देश की बात करते थे। किसी गुट या पार्टी का ज़िक्र नहीं करते थे। आज के प्रधानमंत्री विदेश जाते हैं तो इंदिरा गाँधी और जवाहरलाल नेहरू का ज़िक्र करते हैं। मोदी लगातार इंदिरा गाँधी और नेहरू की विरासत को मिटाने का प्रयास कर रहे हैं। देश हो या विदेश उनके योगदान की खिल्ली उड़ाने से नहीं चूकते। पवार इसी ओर इशारा कर रहे हैं।

पवार ने मोदी और बीजेपी का नाम लिए बग़ैर कहा कि इन लोगों ने किया क्या है? नेहरू जी आज़ादी की लड़ाई में 13 साल तक जेल में रहे। पवार कहते हैं, नेहरू ने देश के आज़ाद होने के बाद 13-14 साल तक प्रधानमंत्री के तौर पर काम किया और विदेशों में देश का नाम रोशन किया। 

नेहरू के बाद इंदिरा गाँधी और राजीव गाँधी ने देश के लिए त्याग किया। गाँधी परिवार के सदस्यों को गोलियाँ मारी गयीं पर इस परिवार ने देश सेवा का काम नहीं छोड़ा है। अब नई पीढ़ी आ गयी है। यह पीढ़ी भी उनके काम को आगे बढ़ा रही है। 

मोदी जी, आपने क्या किया?

एनसीपी प्रमुख कहते हैं कि राजनीति में एक-दूसरे पर टीका-टिप्पणी की जाती है। फिर वह मोदी की ओर इशारा करते हुए कहते हैं कि आज कहा जाता है कि गाँधी परिवार ने कुछ किया ही नहीं। पवार गुस्से में कहते हैं कि मोदी जी आप ने क्या किया है? अगर कुछ किया है तो बताओ। कुछ तो दिखाओ।

बढ़ रहा है कांग्रेस का ग्राफ़ 

अब यह काफ़ी साफ़ हो चला है कि 2019 में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिलने वाला। 1996, 1998, 1999 और 2004 की ही तरह गठबंधन की सरकार बनने के आसार हैं। तीन हिंदी भाषी राज्यों में कांग्रेस ने बीजेपी को हराया है। कांग्रेस का ग्राफ़ लगातार बढ़ रहा है। 

महाराष्ट्र में कांग्रेस और शरद पवार की पार्टी एक साथ चुनाव लड़ने को तैयार हैं। सीटों का बँटवारा हो रहा है। ऐसे में पवार को लगता है कि 1996 में देवेगौड़ा की तरह उनके भाग्य का भी छींका टूट सकता है। वह भी प्रधानमंत्री बन सकते हैं। लिहाज़ा उनके मुँह से नेहरू गाँधी परिवार के लिए फूल झड़ रहे हैं और मोदी को कोस रहे हैं। राजनीति में कुछ भी अकारण नहीं होता। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
आशुतोष
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें