loader
फ़ाइल फ़ोटो

सीमा विवाद: असम-मिज़ोरम के लोगों में झड़प, कई घायल

वर्षों से चल रहे सीमा विवाद के कारण असम और मिज़ोरम के लोगों के बीच एक बार फिर हिंसक झड़प हुई है। इसमें कई लोग घायल हो गए हैं। यह झड़प असम के लैलापुर इलाक़े के कचर जिले में हुई है। 

इंडिया टुडे के मुताबिक़, उपद्रवियों ने इस दौरान कई घरों में आग लगा दी। हालात को देखते हुए दोनों राज्यों की सीमा पर भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है और हालात के क़ाबू में होने का दावा किया गया है। यह झड़प शनिवार शाम को हुई। हालात को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय के सचिव अजय कुमार भल्ला ने दोनों राज्यों के अफ़सरों की बैठक बुलाई है। 

इंडिया टुडे के मुताबिक़, ताज़ा झड़प एक झोपड़ी को तोड़ने को लेकर हुई, यह झोपड़ी असम में सीमा पर स्थित सहाईपुई गांव में है। इस झोपड़ी को सीमा की रक्षा करने वाले स्थानीय लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाता था। यह गांव वैरेंगते गांव से 3 किमी. दूर है, जो कि मिज़ोरम में पड़ता है। 

ताज़ा ख़बरें

झोपड़ी को तोड़ने के बाद थोड़ी ही देर में असम के लोग बड़ी संख्या में वहां हथियारों के साथ जमा हो गए और उन्होंने एक ऑटो रिक्शा स्टैंड में तोड़फोड़ शुरू कर दी। इसके जवाब में वैरेंगते गांव के लोगों ने भी असम के लैलापुर इलाक़े में बनी बांस की 20 झोपड़ियों में आग लगा दी। 

असम से और ख़बरें

घटना को लेकर असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने रविवार को प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय गृह मंत्रालय को सूचना दी और मिज़ोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरामथंगा से भी बात की। 

ज़ोरामथंगा ने भी केंद्र को हालात की जानकारी दी और सोनोवाल को भरोसा दिलाया कि इलाक़े में शांति बनाई रखी जाएगी। इसे लेकर रविवार को मिज़ोरम में कैबिनेट की आपात बैठक भी बुलाई गई और इसमें विवाद के लिए असम सरकार को जिम्मेदार ठहराया गया। 

मिज़ोरम की असम के साथ 164.6 किमी लंबी सीमा लगती है। 1995 से ही इस विवाद को सुलझाने के लिए कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला है और सीमा को लेकर दोनों राज्यों के बीच में तनाव बना रहता है। पहले भी इस तरह की झड़पें होती रही हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें