loader

शहरी इलाक़ों में बीजेपी को हुआ भारी नुक़सान

शहरी और मध्यमवर्गीय मतदाताओं के बीच पारंपरिक रूप से गहरी पैठ रखने वाली भारतीय जनता पार्टी को हाल में हुए विधानसभा चुनावों में अच्छा ख़ासा नुक़सान इन्हीं इलाक़ों में हुआ है। इसलिए यह सवाल उठने लगा है कि बीजेपी की पकड़ शहरी मतदाताओं पर ढीली क्यों पड़ने लगी है। चुनाव नतीजों पर एक नज़र डालने से यह साफ़ हो जाता है कि मध्य प्रदेश के शहरी इलाक़ों में सत्तारूढ़ दल को पहले की तुलना में लगभग 7 फ़ीसद अंक यानी परसेंट पॉयंट कम वोट मिले। यह प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस से कम तो है ही, ख़ुद इसके पिछले चुनाव यानी 2013 में हुए चुनाव से भी कम है। ज़ाहिर है, शहरी और अर्द्धशहरी मतदाताओं के बीच इसकी अपील कम हुई है।

BJP loses drastically in urban areas - Satya Hindi
मध्य प्रदेश के शहरी इलाक़ों का वोटिंग पैटर्न
यह ट्रेंड एक राज्य तक सीमित नहीं रहा। राजस्थान और मध्य प्रदेश दोनों ही जगहों पर शहरी मतदाताओं ने पार्टी से समान रूप से दूरी बना ली है। पार्टी को इन जगहों पर वोट शेयर कम मिल हैं। बीजेपी भले ही मध्य प्रदेश में हार गई है, पर वहां उसे कांग्रेस की तुलना में बहुत ही कम वोट मिले है, ऐसा भी नहीं है। उसका कुल वोट शेयर प्रतिद्वंद्वी के वोट शेयर से थोड़ा ही कम है। उसे कांग्रेस की तुलना में सिर्फ़ 0.10 फ़ीसद कम वोट ही मिले है, हालांकि वह इतने ही अंतर की वजह से पूरा राज्य हार गई। लेकिन शहरी इलाक़ों में उसे अधिक नुक़सान उठाना पड़ा है। 
बेरोजगारी, महँगाई और शहरी मतदाताओं की दूसरी दिक्क़तों को ठीक करने में बीजेपी नाकाम रही। उसे पार्टी के मुख्य विंदु मसलन हिदुत्ववाद और राम मंदिर जैसे मुद्दों ने अधिक आकर्षित नहीं किया। यह निष्कर्ष भी निकलता है कि शहरी मतदाताओं के बीच नरेंद्र मोदी की चमक फीकी हो गई है।
यह हाल मध्य प्रदेश और राजस्थान दोनों ही राज्यों में एक सा रहा है। दोनों ही सूबों में शहरी इलाक़ों में पार्टी को कम वोट मिले हैं, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में उसे इसकी तुलना में कम नुक़सान हुआ है। इसे आँकड़ों पर एक नज़र डाल कर समझा जा सकता है।
BJP loses drastically in urban areas - Satya Hindi
राजस्थान के शहरी इलाक़ों का वोटिंग पैटर्न
यह पार्टी के लिए ख़तरे की घंटी है, क्योंकि इसका आधार तो शहरों में ही ज़्यादा मजबूत रहा है। शायद यह  पार्टी की उन कोशिशों का नतीजा भी है, जिसके तहत यह ख़ुद को अखिल भारतीय और सबको स्वीकृत पार्टी के रूप में स्थापित करना चाहती है। पार्टी अपने पुरानी पहचान से निकल कर खुद को नए रूप में रखना चाहती है। यह दांव उल्टा पड़ा है और इसे नुक़सान उठाना पड़ा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विधानसभा चुनाव से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें