loader

गाय के नाम पर 'लिंचिंग' तक हुई और गाय मंत्री ही हार गए

देश के किसी राज्य में पहले गाय मंत्री देवाराम ओटासी राजस्थान विधानसभा चुनाव हार गए। यह देश के उस इकलौते राज्य का मामला है जहां गोपालन मंत्रालय है। राज्य में गायों के नाम पर लिंचिंग की घटनाएँ तक हुईं। उनकी हार से यह सवाल भी उठने लगा है कि क्या गाय की सियासत अब वोट बटोरू नहीं रही?

सिरोही विधानसभा से चुनाव लड़ रहे गाय मंत्री यानी गोपालन मंत्री ओटाराम हारे भी तो किससे, निर्दलीय उम्मीदवार संयम लोढ़ा से। लोढ़ा कांग्रेस से दो बार विधायक रहे थे और इस बार वे पार्टी से बाग़ी होकर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में उतरे थे। 

देवासी की क़रीब 10 हज़ार वोटों से हार हुई। इससे पहले 2013 में देवासी को 82098 वोट मिले थे और उन्होंने लोढ़ा को 24439 वोटों के अंतर से शिकस्त दी थी। 2008 के चुनाव में भी ओटाराम को 56400 वोट मिले थे और लोढ़ा को 47830 वोट मिले थे। वह चुनाव ओटाराम ने 8570 वोटों के अंतर से जीता था।

बीजेपी का 'गाय मंत्रालय'

2013 में बीजेपी ने चुनाव के वक़्त घोषणा-पत्र में वादा किया था कि वह गायों के लिए अलग मंत्रालय बनाएगी। सरकार बनी तो मंत्रालय भी बना दिया गया। राज्य सरकार का कहना था कि गोकशी को रोकने और गोशालाओं की स्थिति‍ बेहतर बनाने के लिए इस मंत्रालय को बनाया था।

गाय पर शोर को नकारा?

राजस्थान की 199 सीटों पर बीजेपी केवल 73 सीटों पर ही जीत दर्ज़ कर पाई है। हालाँकि बीजेपी की हार के कई कारण बताए जाते हैं, लेकिन चुनाव विश्लेषकों का यह भी मानना है कि बीजेपी का सॉफ़्ट हिंदुत्व इस बार नहीं चला। गो-रक्षा और गोकशी पर रोक और गोपालन जैसे मुद्दे भी इसी का हिस्सा रहे हैं। यही कारण है कि चुनावी हार के पीछे एक तर्क यह भी दिया जा रहा है कि मतदाता अब गाय पर होने वाली सियासत को समझने लगी है। तो ऐसे में सवाल यह है कि जब देश भर में गाय पर शोर था, तो उसी दौरान एक गाय मंत्री को मतदाताओं ने क्यों नकार दिया? 

अलवर में ही 'लिंचिंग' के दो मामले

इसी साल जुलाई में अलवर में गो-तस्करी के शक में अकबर नाम के एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या का मामला सामने आया था। बता दें कि इससे पहले 2017 में भी अलवर में ही 55 साल के पहलू खान की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड के बाद देशभर में जबर्दस्त आक्रोश फैला था। जिस वक्त पहलू पर हमला हुआ उस वक्त वह राजस्थान में गाय खरीदने के बाद हरियाणा जा रहे थे। पहलू खान डेयरी का बिज़नस करते थे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विधानसभा चुनाव से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें