loader

अयोध्या में घमासान : स्वरूपानंद को क्यों फ़ेल करना चाहता है संघ परिवार?

जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद का अयोध्या कूच का कार्यक्रम धार्मिक कम राजनीतिक ज़्यादा है। उन्हें कांग्रेस ख़ेमे का संत माना जाता है। 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले राम मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या कूच करने के पीछे उनका मक़सद विहिप विरोधी संतों व संगठनों को जोड़कर विहिप, आरएसएस को राम मंदिर के मुद्दे पर कटघरे में खड़ा करना ही माना जा रहा है, जिससे कांग्रेस को चुनाव में फ़ायदा पहुँचाया जा सके। 

  • वास्तव में विहिप का धर्म सभा के जरिये मंदिर की आवाज़ को बुलंद करने के बाद इससे हाथ खींच लेने को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। इसीलिए स्वामी स्वरूपानंद द्वारा अयोध्या कूच कार्यक्रम को मुद्दा बनाया गया है। 
आयोजकों के पास ज़मीनी संगठन नहीं होने से उन्हें जनसमर्थन नहीं मिल पा रहा है। बताया गया है कि आयोजक राजनीति के मैदान में उतरे प्रवीण तोगड़िया के संगठन अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद को जोड़ने की कोशिश में हैं।

विहिप ने किया पलटवार

विहिप के कैंप के संत व विहिप प्रवक्ता शरद शर्मा का कहना है कि स्वामी स्वरूपानंद का पूरा कार्यक्रम कागज़ी व मंदिर निर्माण में आगे के लिए बाधाएँ खड़ा करना ही है। शर्मा के मुताबिक़, स्वरूपानंद ने मंदिर आंदोलन का विरोध ही किया था। शर्मा ने कहा कि स्वरूपानंद ने सिर्फ़ कागज़ी समानांतर ट्रस्ट भी बनाया पर मंदिर निर्माण को लेकर तैयारी को शून्य पर ही रखा।

योगी सरकार ने भी स्वामी स्वरूपानंद के कार्यक्रम को विफल बनाने की रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। अयोध्या की धर्मशालाओं, मंदिरों व होटलों के मैनेजरों को हिदायत दी जा रही है कि वे स्वामी स्वरूपानंद के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए अयोध्या आने वालों को अपने संस्थाओं मे ठहरने न दें। 

बीजेपी व विहिप भी स्वामी स्वरूपानंद के अयोध्या कूच कार्यक्रम को फ़ेल करने की जुगत में हैं। हाल ही में स्वामी स्वरूपानंद के सहयोगी अविमुक्तेश्वरानंद अयोध्या में जानकी घाट के मंदिर में महंत जनमेजय शरण के साथ विहिप विरोधी कुछ महंतों की बैठक में आए थे। उन्होंने संतों से 21 फ़रवरी के मंदिर शिलान्यास कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आगे आने की अपील की थी। इससे विहिप ख़ेमे में सरगर्मी बढ़ गई। 

  • विहिप प्रवक्ता शरद शर्मा ने बयान जारी कर कहा कि राम मंदिर का शिलान्यास एक दलित लड़के के हाथों वर्षों पहले ही किया जा चुका है। अब दोबारा इसके शिलान्यास पर राजनीति हो रही है और अयोध्या के संत इसका विरोध करेंगे।
वास्तव में मंदिर आंदोलन के समय से ही स्वरूपानंद व विहिप संतों के अलग-अलग मत रहे हैं। विहिप ख़ेमे के संतों की सहानुभूति बीजेपी से है तो स्वामी स्वरूपानंद को कांग्रेस ख़ेमे का संत माना जाता है।

शिवसेना भी स्वरूपानंद के साथ 

शिवसेना के नेता संतोष दुबे ने भी पिछले महीने संतों के साथ जनसंपर्क अभियान चलाया था, इसमें हिंदू महासभा भी शामिल थी। अभियान में मोदी सरकार को राम मंदिर के निर्माण को लेकर घेरा गया था। साथ ही, विहिप की मंदिर पर चुप्पी को निशाने पर लिया गया था। अब जब विहिप व संघ के नेताओं ने मंदिर आंदोलन को 4 महीनों के लिए टाल दिया है तो विहिप व संघ को घेरने की मुहिम में ये संगठन भी जुड़ रहे हैं। शिवसेना के संतोष दुबे के भी अविमुक्तेश्वरानंद की बैठक में शामिल होने की ख़बर है।

मज़बूत है विहिप संतों की लॉबी

अयोध्या में हालाँकि विहिप समर्थक संतों की लॉबी मज़बूत है पर मंदिर निर्माण के मुद्दे को धर्म सभा के जरिये तेज़ करने के बाद वे अचानक चुनाव के बहाने पीछे हट गए हैं। इसे लेकर संतों में मायूसी है पर वे स्वामी स्वरूपानंद के अयोध्या कूच कार्यक्रम से नहीं जुड़ना चाहते। ऐसे में अयोध्या कूच कार्यक्रम में कोई दम दिखेगा, इसमें भी शक है।

प्रशासन से नहीं मिली है अनुमति

तय कार्यक्रम के मुताबिक़, संत 19 फ़रवरी को स्वामी स्वरूपानंद के नेतृत्व में अयोध्या कूच करेंगे और इसके बाद जानकी घाट के बड़ा स्थान जाएँगे। 20 फ़रवरी को अयोध्या में विराट सभा होगी, 21 फ़रवरी को दोपहर में संत राम जन्म भूमि शिलान्यास के लिए कूच करेंगे। कार्यक्रमों की अनुमति के लिए आवेदन नहीं किया गया है। प्रशासन के सूत्रों का कहना है कि इसके लिए अनुमति नहीं दी जाएगी।

स्वरूपानंद के क़रीबी के ख़िलाफ़ केस

द्वारिका पीठ के जगदगुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद की अयोध्या में मजबूत कड़ी समझे जाने वाले और राम जन्म भूमि निर्माण न्यास से जुड़े महंत जनमेजय शरण के ख़िलाफ़ बीजेपी नेता परमानंद ने हाल ही में केस दर्ज करवाया है। इसमें उन पर जानलेवा हमला करने का आरोप है। 

कार्यक्रम को रोकने की कोशिश 

परमानंद व महंत जनमेजय शरण के बीच पुरानी रंजिश चली आ रही है। अब इस केस के आधार पर पुलिस उनके ख़िलाफ़ एक्शन ले सकती है। दूसरी ओर, महंत जनमेजय शरण ने आरोप लगाया है कि  फ़र्ज़ी केस दर्ज करवा कर उनके ख़िलाफ़ साज़िश रची गई है। जिससे स्वामी स्वरूपानंद के कार्यक्रम को बाधित किया जा सके। क्योंकि कार्यक्रम का मुख्य स्थल उनका मठ ही है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
वी. एन. दास
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अयोध्या विवाद से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें