loader

नीतीश ने आपा खोया, नाम लिए बग़ैर कहा, ‘बाप से पूछो!'

चुप और गंभीर रहने वाले, नपा-तुला और बेहद ज़िम्मेदारी से बोलने वाले और राजनीतिक विरोधियों पर भी संतुलित टिप्पणी करने वाले नीतीश कुमार को क्या हो गया है? वह क्यों बार-बार आपा खो रहे हैं? वह अपने बेटे की उम्र के तेजस्वी यादव पर निजी टिप्पणी क्यों कर रहे हैं? क्या वह चुनाव प्रचार में कुुछ असहज महसूस कर रहे हैं? क्या उनकी टिप्पणियों से लगता है कि यह चुनाव उनके हाथ से निकल रहा है?

ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि बिहार के मुुख्यमंत्री एक के बाद एक कई बार ऐसी टिप्पणियां कर चुके हैं, जो उनके निजी स्वभाव या राजनीतिक शैली से मेल नहीं खाती हैं। 

क्या कहा है नीतीश ने?

नीतीश कुमार ने शनिवार को बेगूसराय ज़िले के तेघड़ा विधानसभा में आरजेडी शासन काल का ज़िक्र करते हुए कहा, 'जब लोगों को मौक़ा मिला तो उन्होंने क्या किया, एक स्कूल बनाया था?'

फिर उन्होंने तेजस्वी यादव का नाम लिए बिना कहा,

‘अगर पढ़ना चाहते हो तो अपने बाप से पूछो, अपनी माता से पूछो कि कहीं कोई स्कूल था, कहीं कोई स्कूल बन रहा था, कहीं कोई कॉलेज बन रहा था? ज़रा पूछ लो...राज करने का मौक़ा मिला तो ग्रहण करते रहे और जब अंदर चले गए, तो पत्नी को बैठा दिया गद्दी पर।’


नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार

'अंदर चले गए' का तंज बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव और तेजस्वी के पिता लालू प्रसाद यादव पर था जो फ़िलहाल जेल में है। इसी तरह 'पत्नी को बैठ दिया' का तंज भी उन्हीं पर था, क्योंकि लालू के जेल जाने पर उन्होंने पत्नी राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री बनवा दिया था।
मुख्यमंत्री ने इसके आगे कहा,

'यही सब तो चल रहा रहा था, उसके बाद आज बता दो कहां कोई गड़बड़ है। आज कोई गड़बड़ करने वाला आदमी होगा तो अंदर जाएगा।'


नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार

पहले भी आपा खोया है नीतीश ने

लेकिन यह पहला मौका नहीं है जब नीतीश ने अपना आपा खोया है। बीते दिनों परसा विधानसभा चुनाव क्षेत्र में वह वहां मौजूद भीड़ पर ही भड़क उठे, क्योंकि उनमें से कुछ ने 'लालू यादव जिंदाबाद' का नारा लगा दिया। 

नीतीश ने नारा लगा रहे लोगों से कहा,

‘क्या बोल रहे हो, अनाप-शनाप क्यों बोल रहे हो, यहां पर हल्ला मत करो। तुमको अगर वोट नहीं देना है, तो मत दो।'


नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री, बिहार

उन्होंने उसके बाद लोगों से पूछा कि ये जो हल्ला कर रहे हैं, ये सही है या ग़लत।

इसके पहले नीतीश कुमार ने तेजस्वी के कम पढ़े-लिखे होने पर भी तंज किया था। बता दें कि तेजस्वी ने सिर्फ नवीं तक की पढ़ाई की है। नीतीश कुमार इंजीनियर हैं।

'थक गए हैं मुख्यमंत्री'

इसके पहले तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के बारे में कहा था कि वह थक चुके हैं और अब उनसे बिहार नहीं संभल रहा है। तेजस्वी ने नीतीश कुमार के इस ज़ोरदार और निजी हमले पर भी कोई तीखा पलटवार नहीं किया है। उन्होंने कहा कि 'मुख्यमंत्री ने अपना चेहरा चमकाने के लिए 500 करोड़ रुपए खर्च किए हैं और अब हास्यास्पद आरोप लगा रहे हैं।'

बिहार में इन दिनों तेजस्वी की रैलियों में ज़बरदस्त भीड़ उमड़ रही है। ख़ास कर उनके 10 लाख लोगों को रोज़गार देने के वायदे को लोगों ने हाथों हाथ लिया है। उसके बाद से ही उनकी रैलियों में ज़बरदस्त भीड़ उमर रही है। पर्यवेक्षकों का कहना है कि जनता के ऐसे रिस्पॉन्स की उम्मीद तो तेजस्वी ने भी नहीं की थी।

परेशान हैं नीतीश?

नीतीश कुमार इस बात से चिंतित हैं कि अगर यह भीड़ वोटों में तब्दील हो गई तो उनका सत्ता में वापस आना बेहद मुश्किल हो जाएगा। हालांकि कुछ सर्वे नीतीश की सत्ता में वापसी की बात कह रहे हैं, लेकिन वे यह भी कह रहे हैं कि बिहार के लोगों में नीतीश से नाराज़गी बढ़ी है। 

बता दें कि तेजस्वी के माता-पिता से नीतीश के निजी संबंध रहे हैं, लालू प्रसाद यादव को नीतीश अपना बड़ा भाई बताते नहीं थकते थे। ख़ुद तेजस्वी नीतीश की सरकार में उपमुख्यमंत्री रह चुके हैं। 

तेजस्वी की चाल?

लेकिन यह चुनाव अलग है। तेजस्वी एक मंझे हुए राजनेता के रूप में उभर रहे हैं। उन्होंने इस होशियारी के तहत ही सरकार बनने पर पहली ही बैठक में 10 लाख लोगों को रोज़गार देने से जुड़ी फ़ाइल पर दस्तख़त करने का एलान कर दिया। 

नीतीश कुमार इस पर चुप हैं। समझा जाता है कि वे इस कारण से ही तेजस्वी से खफ़ा हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें