loader

बिहार: मोदी ने तेजस्वी को बताया जंगलराज का युवराज

बिहार के चुनावी दौरे पर निकले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दरभंगा, मुज़फ्फरपुर और पटना में ताबड़तोड़ रैलियां की। पटना की रैली में भी आरजेडी मोदी के निशाने पर रही। मोदी ने कहा, ‘बिहार के ग़रीब, मध्यम वर्ग की आकांक्षाओं को वे लोग पूरा नहीं कर सकते जिन्होंने बिहार को बीमार बनाया, बिहार को लूटा। 

उन्होंने जनता से पूछा, ‘जिन लोगों ने सिर्फ अपने परिवार के बारे में सोचा, बिहार के लोगों के साथ अन्याय किया, क्या वे लोग बिहार की उम्मीदों को समझ भी पाएंगे।’ मोदी ने कहा कि एनडीए सरकार के प्रयासों के कारण बिहार ने कुशासन से सुशासन की ओर और अंधेरे से उजाले की ओर क़दम बढ़ाए हैं। 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उन्हें दुबारा काम करने का मौक़ा मिलेगा तो हम बिहार को विकसित राज्य बनाएंगे। उन्होंने अपील की कि मोदी के आह्वान पर एनडीए को विजयी बनाएं। 

मोदी ने कहा, ‘जंगलराज के युवराज क्या बिहार को आईटी के या आधुनिकता के क्षेत्र में आगे ले जा सकते हैं। इसका जवाब मुझसे ज़्यादा बिहार की जनता जानती है। 15 साल तक उन्होंने जुल्म झेला है।’

मुज़फ्फरपुर में मोदी ने कहा कि महामारी के इस कठिन वक़्त में सुशासन देने वाली सरकार को बनाए रखने की ज़रूरत है। आरजेडी के नेता तेजस्वी को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा, ‘जंगलराज के युवराज से बिहार की जनता पुराने ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर और क्या कल्पना कर सकती है। जंगलराज की परंपरा वालों को बिहार की जनता अच्छे से जानती है और मुझे ज़्यादा कुछ कहने की ज़रूरत नहीं है।’ 

मोदी ने कहा कि बिहार के लोग इस प्रेरणा के साथ आगे बढ़ रहे हैं कि कोरोना के साथ ही ऐसे लोगों को भी हराना है। 

ताज़ा ख़बरें

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘वो दल जिन्होंने बिहार को अराजकता दी, कुशासन दिया, वे फिर से मौक़ा खोज रहे हैं। जिन्होंने बिहार के नौजवानों को ग़रीबी और पलायन दिया और अपने परिवार को हज़ारों-करोड़ का मालिक बना दिया, वे मौक़े की तलाश में हैं।’ 

आरजेडी पर हमला जारी रखते हुए मोदी ने कहा, ‘रंगदारी दी तब बचोगे, नहीं तो किडनैपिंग इंडस्ट्री का कॉपीराइट तो उन लोगों के पास ही है, इसलिए इनसे सावधान रहना है।’
उन्होंने तेजस्वी के दस लाख सरकारी नौकरियों के वादे पर चोट करते हुए कहा कि सरकारी नौकरियां तो छोड़िए, इन लोगों के आने का मतलब है कि प्राइवेट नौकरियां देने वाली कंपनियां ही यहां से चली जाएंगी। अंत में उन्होंने कहा कि आपका एक-एक वोट बिहार को फिर से बीमार होने से बचाएगा।

बीजेपी ने बिहार विधानसभा चुनाव में राम मंदिर का भी जिक्र किया है। इस बात का वह खुलकर प्रचार करती रही है कि राम मंदिर निर्माण का मार्ग उसकी सरकार के कारण प्रशस्त हुआ है और अब बिहार चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रैलियों के मंच से इसे लोगों को बता रहे हैं। 

देखिए, बिहार चुनाव पर चर्चा- 
दरभंगा में आयोजित रैली में मोदी ने कहा, ‘सदियों की तपस्या के बाद आखिरकार अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है। वो सियासी लोग जो हमसे तारीख़ पूछते थे, बहुत मजबूरी में अब वे भी तालियां बजा रहे हैं। मां सीता के इस क्षेत्र में आकर मैं यहां के लोगों को राम मंदिर निर्माण की बधाई देता हूं क्योंकि आप उसके प्रमुख हक़दार हैं।’
ताज़ा ख़बरें

सरकारी योजनाओं का जिक्र

कृषि क़ानूनों के मुद्दों पर विरोध का सामना कर रही मोदी ने कहा कि किसानों के खाते में क़रीब 1 लाख करोड़ की रकम जमा की जा चुकी है। इसके अलावा उन्होंने उज्जवला योजना, मुफ़्त इलाज वाली सरकारी योजनाओं का जिक्र किया। मोदी ने कहा, ‘हमारी सरकार ने कोरोना संकट के दौरान ग़रीबों को 8 महीने तक मुफ़्त अनाज उपलब्ध कराया है। बिहार के ग़रीबों के लिए दीवाली और छठ पूजा तक मुफ़्त राशन की व्यवस्था की गई है। इससे ग़रीबों को काफी मदद मिली है।’ 
मोदी बोले, ‘पहले की सरकारों का मंत्र रहा है, पैसा हज़म, परियोजना ख़त्म। उन्हें कमीशन शब्द से इतना प्रेम था कि कनेक्टिविटी पर कभी ध्यान ही नहीं दिया।’

मोदी ने कहा, ‘बीजेपी ने घोषणापत्र में जो वादे किए हैं, उस पर तेज़ी से काम हो रहा है। सीतामढ़ी के आसपास में रोड कनेक्टिविटी बेहतर करने के लिए सरकार काम कर रही है। 2003 में जब नीतीश कुमार केंद्र सरकार में रेल मंत्री थे, तब महासेतु पुल का काम शुरू हुआ लेकिन अटल जी की सरकार जाने के बाद जिस तरह से इस मामले में काम हुआ, उससे लगता था कि यह सपना ही रह जाएगा लेकिन हमारी सरकार बनने के बाद हमने तेज़ी से इस दिशा में काम किया और अब इसका लोकार्पण भी कर दिया है।’ 

प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसी योजनाएं किसानों, युवाओं, व्यापारियों को लाभ देती हैं और रोज़गार के साधन का इंतजाम करती हैं। उन्होंने कहा कि हमें आत्मनिर्भर बिहार, आत्मनिर्भर मिथिलांचल के लिए काम करना है और यहां अपार संभावनाएं हैं। 

बिहार से और ख़बरें

आरजेडी फिर निशाने पर 

एक बार फिर आरजेडी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, ‘बिहार के लोग ये ठान चुके हैं कि जंगलराज लाने वालों को फिर हराएंगे, बिहार की महिलाओं का जीना दूभर करने वालों को फिर हराएंगे।’

मोदी ने कहा, ‘जिन लोगों की ट्रेनिंग समाज को बांटने की रही हो, जिन लोगों की ट्रेनिंग कमीशनखोरी की रही हो, वे बिहार के हित में कभी नहीं सोच सकते। इन लोगों के ट्रैक रिकॉर्ड को याद रखिएगा, जिनके राज में बिहार में अपराध इतना फला-फूला कि लोगों का जीना मुश्किल हो गया।’ 

एनडीए का मतलब बताते हुए मोदी ने इसमें शामिल चारों दलों का नाम लिया और कहा कि इनके प्रत्याशियों को मिलने वाला वोट ही बिहार को आगे बढ़ाएगा।
पिछले चुनावी दौरे में सासाराम, गया और भागलपुर की रैलियों में मोदी ने विपक्ष को धारा 370 के मसले को लेकर घेरा था और कहा था कि विपक्ष भारत को कमजोर करने की साज़िश रच रहे लोगों का साथ देने से भी नहीं हिचकिचाता। मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा था कि देश वर्षों से इसका इंतजार कर रहा था लेकिन ये लोग इसकी बहाली की बात कर रहे हैं। उन्होंने विपक्ष पर दलालों-बिचौलियों की भाषा बोलने का भी आरोप लगाया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें